ताज़ा खबर
 

भारत ने पाक से कहा: मुंबई हमले की फिर जांच करे, हाफिज सईद पर मुकदमा चलाए

पाकिस्तान सरकार ने 30 जनवरी को सईद और जमात-उद-दावा एवं फलाह-ए-इंसानियत के चार नेताओं को नजरबंद कर दिया था।

जमात-उद-दावा प्रमुख हाफिज सईद (एपी फोटो)

भारत ने पाकिस्तान से कहा है कि वह साल 2008 के मुंबई हमले के मामले की फिर से जांच कराए और जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद पर आतंकवाद विरोधी कानून के तहत मुकदमा चलाए। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारत ने पाकिस्तान की ओर से 24 भारतीय गवाहों को बयान रिकॉर्ड कराने के लिए भेजने का आग्रह किए जाने के जवाब में नई मांग की है।

अधिकारी ने कहा, ‘हमें अपने पत्र के जवाब में भारत सरकार से जवाब मिला है। परंतु हमारे आग्रह पर तवज्जो देने की बजाय भारत ने मामले की फिर से जांच की मांग की है और जमात-उद-दावा के प्रमुख हाफिज सईद और उपलब्ध कराए गए साक्ष्य के आधार पर लश्कर-ए-तैयबा के कमांडर जकीउर रहमान लखवी पर मुकदमा चलाने की भी मांग की है।’ पाकिस्तान सरकार ने 30 जनवरी को सईद और जमात-उद-दावा एवं फलाह-ए-इंसानियत के चार नेताओं को नजरबंद कर दिया था।

मुंबई हमले के बाद भी सईद को नजरबंद किया गया था, लेकिन 2009 में अदालत ने उसे रिहा कर दिया। पाकिस्तानी गृह मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि मामले को निष्कर्ष तक पहुंचाने के लिए भारतीय गवाहों के बयान की जरूरत है। उन्होंने कहा कि अगर सबूत हो तो पाकिस्तान को मुंबई हमले के किसी भी संदिग्ध पर मुकदमा चलाने में कोई दिक्कत नहीं होगी।

पाकिस्तान ने हालही में जमात उल दावा के मुखिया हाफिज सईद और उसके साथियों के सभी हथियारों का लाइसेंस कैंसल कर दिया था। हाफिज सईद और उसके साथियों के पास कुल 44 लाइसेंसी हथियार थे। पंजाब प्रांत के गृह मंत्रालय द्वारा बताया था कि यह फैसला वहां की सरकार द्वारा हाफिज पर की गई कार्यवाही के बाद लिया गया। 30 जनवरी को पाकिस्तान सरकार ने सईद और उसके चार साथियों को उसके घर में कैद कर लिया था। उसे 90 दिनों तक गिरफ्तार करके रखने की बात कही गई थी। इसके अलावा हाफिज सईद और उसके 37 साथियों को देश छोड़कर जाने की इजाजत नहीं दी गई थी।

वीडियो- पाकिस्तान: लाहौर के बाजार में बम धमाका, 8 की मौत

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App