ताज़ा खबर
 

पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल प्रायोगिक परीक्षण

भारत ने देश में निर्मित परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम अपनी पृथ्वी-2 मिसाइल का बुधवार को सेना के प्रयोग परीक्षण के तहत सफल प्रायोगिक परीक्षण किया जो 350 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है ।

Author बालेश्वर (ओड़ीशा) | November 27, 2015 3:03 AM

भारत ने देश में निर्मित परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम अपनी पृथ्वी-2 मिसाइल का बुधवार को सेना के प्रयोग परीक्षण के तहत सफल प्रायोगिक परीक्षण किया जो 350 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है । मिसाइल का परीक्षण चांदीपुर स्थित एकीकृत परीक्षण रेंज (आइटीआर) के प्रक्षेपण परिसर-3 से एक मोबाइल लांचर के जरिए किया गया।

एक रक्षा सूत्र ने कहा, ‘सामरिक बल कमान (एसएफसी) का जुटाया गया मिसाइल का परीक्षण ब्योरा सकारात्मक परिणाम दर्शाता है’। सतह से सतह पर मार करने वाली पृथ्वी-2 मिसाइल 500 से 1000 किलोग्राम तक आयुध ले जाने में सक्षम है और यह तरल प्रणोदन वाले दोहरे इंजन से संचालित होती है। इसमें अपने लक्ष्य को निशाना बनाने के लिए आधुनिक आंतरिक दिशा निर्देशक प्रणाली लगी होती है। एक रक्षा वैज्ञानिक ने कहा, ‘मिसाइल को प्रशिक्षण अभ्यास के लिए उत्पादन भंडार से उठाया गया और समूची प्रक्षेपण गतिविधियों को विशेष रूप से गठित एसएफसी ने अंजाम दिया व रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के वैज्ञानिकों ने इस पूरी प्रक्रिया पर नजर रखी’।

सूत्र ने कहा, ‘मिसाइल के प्रक्षेपण पथ पर डीआरडीओ के रडारों, इलेक्ट्रो-आॅप्टीकल प्रणालियों और ओड़ीशा के तट पर स्थित टेलीमेट्री स्टेशनों से नजर रखी गई’। बंगाल की खाड़ी में निर्दिष्ट प्रभाव बिंदु के पास तैनात एक जहाज में सवार डाउनरेंज टीमों ने मिसाइल के निशाना साधने से संबंधित प्रक्रिया की निगरानी की। भारत के सशस्त्र बलों में 2003 में शामिल पृथ्वी-2 डीआरडीओ के देश के प्रतिष्ठत एकीकृत गाइडेड मिसाइल विकास कार्यक्रम (आइजीएमडीपी) के तहत विकसित की गई पहली मिसाइल है ।

उन्होंने कहा कि इस तरह के प्रशिक्षण अभ्यास किसी भी संभावित स्थिति से निपटने के लिए भारत की सामरिक तैयारियों को स्पष्ट रूप से दर्शाते हैं और देश के सामरिक जखीरे के इस रणनीतिक अस्त्र की विश्वसनीयता को भी स्थापित करते हैं। पृथ्वी-2 का पिछला सफल प्रायोगिक परीक्षण 19 फरवरी 2015 को ओड़ीशा में इसी परीक्षण केंद्र से किया गया था।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App