ताज़ा खबर
 

भारत ने सतह से हवा में मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल का किया सफल परीक्षण

डीआरडीओ के एक अधिकारी ने बताया कि चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज से एक मोबाइल लॉन्चर के जरिए भारत और इसराइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित मिसाइल का परीक्षण किया गया।

Author बालेश्वर | September 20, 2016 1:24 PM
तस्वीर का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

हवा में अपनी रक्षा क्षमताओं में इजाफा करते हुए भारत ने मंगलवार को ओडिशा तट से दूर एक डिफेंस बेस से सतह से हवा में लंबी दूरी तक मार करने वाले मिसाइल का सफल परीक्षण किया। डीआरडीओ के एक अधिकारी ने बताया कि सुबह करीब दस बजकर 13 मिनट पर यहां से निकट चांदीपुर के एकीकृत परीक्षण रेंज (आईटीआर) से एक मोबाइल लॉन्चर के जरिए भारत और इसराइल द्वारा संयुक्त रूप से विकसित लंबी दूरी के मिसाइल का परीक्षण किया गया। डीआरडीओ के वैज्ञानिक ने बताया कि परीक्षण सफल रहा और जल्दी ही कुछ और दौर के परीक्षण किये जाने की संभावना है।

अधिकारी ने बताया, ‘मिसाइल के साथ ही इस प्रणाली में मिसाइल का पता लगाने, उसकी स्थिति पर नजर रखने और उसे दिशा देने के लिए मल्टी फंक्शन सर्विलांस और खतरा चेतावनी रडार (एमएफ स्टार) को भी शामिल किया गया है।’ उन्होंने साथ ही कहा कि एमएफ स्टार युक्त मिसाइल से उपयोगकर्ता किसी भी हवाई खतरे से निपटने में सक्षम हो पायेंगे। इससे पहले 30 जून से एक जुलाई के बीच रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के चांदीपुर बेस से सतह से हवा में मार करने वाले तीन मध्यम दूरी के मिसाइलों का लगातार परीक्षण किया गया था। भारतीय नेवा ने भी लंबी दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (एलआर-एसएएम) का सफल परीक्षण किया था। यह परीक्षण 30 दिसंबर 2015 को आईएनएस कोलकाता द्वारा किया गया था।

Read Also: 70 किलोमीटर दूर तक दुश्‍मन के‍ विमानों और मिसाइलों को टोह लेगा भारत का नया युद्धपोत मोरमुगाओ

भारतीय नेवी ने भी सतह से हवा में मार करने वाले लंबी दूरी के मिसाइल (एलआर-एसएएम) का सफल परीक्षण किया था। यह परीक्षण 30 दिसंबर, 2015 को आईएनएस कोलकाता ने पश्चिमी समुद्र तट पर किया। परीक्षण पूरा होने के बाद इन मिसाइलों को तीनों सेनाओं में शामिल किया जायेगा। अधिकारी ने बताया कि बीईएल, एल एंड टी, बीडीएल और टाटा समूह जैसे कई अन्य निजी उद्योग घरानों ने भी कई उप प्रणालियों के विकास में अपना योगदान किया, जिसे इस परीक्षण के दौरान इस्तेमाल में लाया गया।

Read Also: चीन सीमा पर तैनात होगी ब्रह्मोस मिसाइल, बीजेपी सरकार ने दी मंजूरी

जिला राजस्व विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि एहतियात के तौर पर बालेश्वर जिला प्रशासन ने रक्षा अधिकारी के साथ विचार-विमर्श करके मिसाइल के सुरक्षित परीक्षण के लिए चांदीपुर आईटीआर स्थित प्रक्षेपण केंद्र के 2.5 किलोमीटर के क्षेत्र में रहने वाले 3652 लोगों को मंगलवार सुबह पास के आश्रय केंद्र में पहुंचा दिया। तीन तटीय जिलों बालेश्वर, भद्रक और केंद्रपाड़ा में बंगाल की खाड़ी में मछली पकड़ने वाले मछुआरों को परीक्षण के समय समुद्र में नहीं जाने की हिदायत दी गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App