ताज़ा खबर
 

मंदिर तोड़ने पर भारत ने पाकिस्तान को यूएन में लताड़ा, कहा- धार्मिक स्थानों पर बम फोड़वा रहे पाक के आतंकी

साल 2020 के दिसंबर महीने में पाकिस्तान के खैबर पख़्तूनख़्वा राज्य के कराक शहर में एक हिन्दू मंदिर का निर्माण किया जा रहा था। निर्माण कार्य का विरोध कर रहे लोगों ने एक कट्टर मौलवी के नेतृत्व में मंदिर को ध्वस्त कर दिया था और उसमें आग भी लगा दी थी।

pakistan , temple , demolish , UNपाकिस्तान के कराक में हिन्दू मंदिर में तोड़फोड़ के बाद मौजूद सुरक्षाकर्मी (फोटो – AP)

खैबर पख़्तूनख़्वा में हिन्दू मंदिर को तोड़े जाने के मुद्दे पर भारत ने पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र में जमकर लताड़ लगायी। भारत ने पाकिस्तान पर आरोप लगाते हुए कहा कि वहां आतंकवादी धार्मिक स्थानों पर बम फोड़ रहे हैं। इस दौरान भारत ने कहा कि दुनिया में आतंकवाद, हिंसात्मक अतिवाद, कट्टरपंथ और असहिष्णुता बढ़ रही है। इससे धार्मिक और सांस्कृतिक विरासत स्थलों पर आतंकी हमले और तोड़ फोड़ का खतरा बढ़ रहा है।

साल 2020 के दिसंबर महीने में पाकिस्तान के खैबर पख़्तूनख़्वा राज्य के कराक शहर में एक हिन्दू मंदिर का निर्माण किया जा रहा था। निर्माण कार्य का विरोध कर रहे लोगों ने एक कट्टर मौलवी के नेतृत्व में मंदिर को ध्वस्त कर दिया था और उसमें आग भी लगा दी थी।  मंदिर पर हुए हमले को लेकर पाकिस्तान के मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अल्पसंख्यक हिंदुओं के समूह ने इसकी कड़ी निंदा की थी।

संयुक्त राष्ट्र में भारत ने पाकिस्तान में मंदिर तोड़े जाने की घटना के अलावा अफग़ानिस्तान में अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमले का भी मुद्दा उठाया। भारत ने कहा कि अफग़ानिस्तान में कट्टरपंथियों द्वारा भगवान बुद्ध की मूर्तियां तोड़ी गयी जो आज भी हम लोगों को याद हैं। इसके अलावा पिछले ही साल आतंकियों ने अफग़ानिस्तान में सिखों के गुरुद्वारे पर कायराना हमला किया जिसमें 25 श्रद्धालु मारे गए। 

इसके अलावा भारत ने हिन्दू मंदिरों को तोड़े जाने को लेकर पाकिस्तानी सरकार और प्रशासन को भी जिम्मेदार ठहराया। भारत ने कहा कि पिछले महीने ही पाकिस्‍तान के कराक शहर में ए‍क‍ हिंदू मंदिर को भीड़ ने आग लगा दी जो वहां के स्थानीय प्रशासन के समर्थन से किया गया था। जब मंद‍िर को गिराया जा रहा था, उस समय वहां का प्रशासन मूक दर्शक बनकर खड़ा हुआ था। इसके अलावा भारत ने संयुक्त राष्ट्र से कहा कि उसे और यूएन अलायंस ऑफ सिविलाइजेशन को जब तक चयनात्मक बची हुई है, किसी का पक्ष नहीं लेना चाहिए। साथ ही भारत ने ये भी कहा कि हमें उन ताक़तों के खिलाफ एकजुट होना होगा तो कपटपूर्वक संवाद को हटाती हैं और शांति के स्थान पर घृणा और हिंसा पैदा करती है।

हालाँकि खैबर पख़्तूनख़्वा में मंदिर तोड़े जाने की घटना को लेकर पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने कड़ा ऐतराज जताया था और मंदिर बनाये जाने का आदेश भी दिया था। मंदिर तोड़े जाने के आरोप में कट्टरपंथी समूह से जुड़े करीब 26 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था।

Next Stories
1 Kerala Lottery NR-208 Today Results: यहां चेक करें आपकी लॉटरी लगी या नहीं?
2 देशभक्ति का सर्टिफिकेट देने वालों की खुल गई पोल, सोनिया गांधी ने केंद्र सरकार को आड़े हाथों लिया, कहा- आनन फानन में बन रहे कानून
3 10 बार की शादी, पांच पत्नियों की मौत, तीन किसी और के साथ फरार, अब प्रॉपर्टी के लिए हत्या
यह पढ़ा क्या?
X