ताज़ा खबर
 

भारत ने अमेरिकी अखबार की समझ पर उठाए सवाल, योगी आदित्‍य नाथ को यूपी सीएम बनाने पर की थी पीएम मोदी की आलोचना

उत्‍तर प्रदेश के नए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ अपनी कट्टर हिंदूवादी रवैये की वजह से कई बार विवादों में रहे हैं।

Yogi Adityanath, Narendra Modi, PTI Photoउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ मंगलवार (21 मार्च) को नई दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करते हुए। (PTI Photo)

योगी आदित्‍य नाथ को उत्‍तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री बनाए जाने पर एक अमेरिकी अखबार द्वारा लिखे गए संपादकीय पर भारत ने कड़ा ऐतराज जताया है। न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स ने अपने संपादकीय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा योगी को चुने जाने पर ‘हैरानी’ जताई थी। बेहद आलोचनात्‍मक लहजे में अखबार ने ‘हिंदू कट्टरपंथियों से मोदी की गलबहियां’ शीर्षक से प्रकाशित लेख में कहा था कि 2014 में चुने जाने के बाद से ही, मोदी ‘अपनी पार्टी के कट्टर हिंदू बेस का तुष्टिकरण करते हुए विकास और आर्थिक प्रगति के सेक्‍युलर लक्ष्‍यों को प्रमोट कर धोखे का खेल’ खेल रहे हैं। संपादकीय में कहा गया था कि प्रधानमंत्री मोदी की पार्टी द्वारा ‘फायरब्रांड हिंदू संन्‍यासी’ को उत्‍तर प्रदेश का मुख्‍यमंत्री बनाना धार्मिक रूप से अल्‍पसंख्‍यकों के लिए ‘चौंकाने वाले अपमान’ जैसा है। भारत की ओर से विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता गोपाल बागले ने कहा, ”सभी संपादकीय या विचार व्‍यक्तिपरक होते हैं। इस मामले में भी ऐसा ही है। विशुद्ध लोकतांत्रिक चुनाव के फैसलों पर शक करने की बुद्धिमत्‍ता पर, चाहे वह देश में या विदेश में, सवाल खड़े किए जा सकते हैं।”

11 मार्च को यूपी विधानसभा चुनावों के नतीजे आने के बाद बीजेपी खेमे में खुशी की लहर दौड़ गई थी। बीजेपी+ को 325 से ज्यादा सीटें मिली थीं। उत्‍तर प्रदेश के नए मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍य नाथ अपनी कट्टर हिंदूवादी रवैये की वजह से कई बार विवादों में रहे हैं। यूपी सीएम पद के लिए बीजेपी द्वारा उन्‍हें चुना जाना कई लोगों के गले नहीं उतर रहा। इसके पीछे थे उनके पुराने भड़काऊ बयान, जो एक समुदाय विशेष के प्रति नफरत में डूबे हुए थे।

योगी आदित्य नाथ ने 1998 में सक्रिय राजनीति में कदम रखा और वह पहली बार गोरखपुर से सांसद चुने गए। उसके बाद से वह लगातार पांच बार से गोरखपुर से ही सांसद हैं। 22 साल की अवस्था में संन्यास लेने के बाद उत्तर प्रदेश सरीखे विशाल राज्य में पहली बार 325 विधायकों की ऐतिहासिक जीत की सरकार के मुखिया बने योगी आदित्यनाथ को मुख्यमंत्री बनाने को लेकर पांच दिनों से गोखपुर समेत पूर्वी उत्तर प्रदेश में मांग हो रही थी।

योगी आदित्‍य नाथ से जुड़ी खबरें पढ़ने के लिए क्लिक करें।

आदित्य नाथ हिन्दू वाहिनी सेना और गोरक्षणीपीठ के पीठाधीश्वर भी हैं। उन्होंने अक्सर अपने भाषणों में लव जेहाद, धर्मांतरण और समान नागरिक संहिता की ही बात की है।

Next Stories
1 यूपी: लड़कियों से छेड़खानी करने पर टोका तो मनचलों ने महिला आईपीएस के मुंह पर छोड़ा सिगरेट का धुंआ
2 किसानों के कर्ज माफी में योगी आदित्य नाथ को नहीं मिलेगी पीएम मोदी की मदद
3 काशी के घाट पर जी20 देशों के नेता करेंगे वित्तीय और आर्थिक नीतियों पर चर्चा
ये पढ़ा क्या?
X