ताज़ा खबर
 

भारत-पाक अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मोर्टार गोलाबारी रोकने पर सहमत

सीमा पर शांति लाने के प्रयास के तहत भारत और पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मोर्टार गोले दागे जाने पर पूर्ण रोक लगाने का फैसला किया है..

नई दिल्ली | September 13, 2015 10:21 AM
नई दिल्ली में में शनिवार को समझौते पर दस्तखत के बाद हाथ मिलाते बीएसएफ के निदेशक डीके पाठक (बाएं) और उनके पाकिस्तानी समकक्ष मेजर जनरल उमर फारूक बुर्की। (पीटीआई फोटो)

सीमा पर शांति लाने के प्रयास के तहत भारत और पाकिस्तान ने जम्मू कश्मीर में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मोर्टार गोले दागे जाने पर पूर्ण रोक लगाने का फैसला किया है। इस गोलाबारी की वजह से कई नागरिकों की मौत हो चुकी है। दोनों देश सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और पाक रेंजर्स के बीच महानिदेशक स्तर की दो दिन की वार्ता के बाद इस नतीजे पर पहुंचे। वार्ता खत्म होने पर दोनों पक्षों ने 20 सूत्री संयुक्त वार्ता रिकार्ड पर हस्ताक्षर किए। इसका भविष्य में पालन किया जाएगा। अगली संयुक्त वार्ता 2016 के पूर्वार्ध में पाकिस्तान में आयोजित की जाएगी। दोनों पक्ष संघर्ष विराम उल्लंघन और सीमापार घुसपैठ जैसे संवेदनशील मुद्दों को ई-मेल, टेलीफोन और अन्य माध्यमों से सूचनाओं के सामयिक आदान-प्रदान के जरिए मिलकर सुलझाने पर भी सहमत हुए।

बीएसएफ के महानिदेशक देवेंद्र कुमार पाठक और रेंजर्स प्रमुख मेजर जनरल उमर फारूक बुर्की ने शनिवार दोपहर यहां बीएसएफ मुख्यालय में वार्ता खत्म होने के बाद सरकारी रिकार्ड पर हस्ताक्षर किए। यह वार्ता करीब दो साल बाद हुई है क्योंकि दोनों देशों के रिश्ते में सीमा से संबंधित कई मुद्दों के कारण खटास आ गया था। सूत्रों ने कहा, ‘दोनों पक्षों ने तय किया कि वे शांति के समय अंतरराष्ट्रीय सीमा पर मोर्टार गोले नहीं दागेंगे। इस बात पर भी सहमति बनी कि दोनों बल भारी हथियारों का इस्तेमाल नहीं करेंगे। ऐसे हथियारों का इस्तेमाल केवल अंतिम उपाय के रूप में ही किया जाएगा।’ उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों ने माना कि चित्रों में नागरिकों ने दागे गए मोर्टार गोलों के जो हिस्से दिखाए हैं, वे बड़े दुखद है, इसलिए इस तरह की गोलाबारी और जवाबी कार्रवाई तत्काल रुकनी चाहिए। मोर्टार से भारी नुकसान होता है।

विश्वास बहाली के इस उपाय पर मुहर लगी कि किसी भी पक्ष को अंतरराष्ट्रीय सीमा पर संदिग्ध गतिविधि का पता चलने पर वह अपने समकक्ष को अलर्ट करने के लिए एहतियात के रूप में सांकेतिक गोली चलाएगा, ताकि यह संकेत मिले कि इस गोली के निशाने पर घुसपैठिए हैं न कि दूसरा पक्ष। सूत्रों ने कहा, ‘दोनों पक्षों ने इस वार्ता के दौरान की लिखित कटिबद्धता का सम्मान करने का संकल्प लिया। दोनों बलों ने विश्वास व्यक्त किया कि आने वाले समय में इन शब्दों का सम्मान किया जाएगा।’

पाकिस्तान ने सांस्कृतिक और खेल गतिविधियों के विनिमय जैसे दो अन्य विश्वास बहाली उपायों पर फिलहाल विराम लगा दिया। इसका प्रस्ताव बीएसएफ ने रखा था। सूत्रों ने कहा, ‘पाकिस्तान ने कहा कि संघर्ष विराम उल्लंघनों के समापन और परस्पर विश्वास बहाली के लिए लिए गए प्राथमिक निर्णयों को लागू करने के लिए कुछ वक्त देने के बाद इसे लागू किया जा सकता है। उसने आश्वासन दिया कि इन दो विश्वास बहाली उपाय को अगले साल के मध्य तक बीएसएफ प्रतिनिधिमंडल के पाकिस्तान यात्रा से पहले सक्रिय किया जा सकता है।’

बीएसएफ और रेंजर्स ने गुजरात और राजस्थान में अंतरराष्ट्रीय सीमा पर समन्वित गश्त करने का फैसला किया। इसके सफल रहने पर इसे जम्मू सीमा में भी लागू किया जाएगा। संयुक्त रिकार्ड में यह भी उल्लेख है कि दोनों पक्ष भूलवश सीमा पार कर जाने वालों की मदद करने और उन्हें उनके देश वापस भेजने के लिए कदम उठाएंगे। इसी तरह दोनों देश पकड़े गए मछुआरों की जल्द रिहाई सुनिश्चित करेंगे। गंभीर प्रकार के किसी भी संघर्ष विराम उल्लंघन की दोनों पक्ष संयुक्त जांच करेंगे।
बीएसएफ ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सीमा के समीप वैध रक्षा बुनियादी ढांचों का निर्माण और रखरखाव बिना किसी रुकावट के करने दिया जाए जिसे दूसरे पक्ष ने मान लिया और खुद के लिए भी समान व्यवस्था की मांग की।

दोनों पक्षों ने माना कि वार्ता बड़े सौहाद्रपूर्ण वातावरण में हुई। बीएसएफ के बयान में कहा गया है, ‘दोनों सीमा प्रहरी बलों के बीच सहयोग की भावी रूपरेखा तय करने वाले संयुक्त वार्ता रिकार्ड पर आज हस्ताक्षर किए गए। अगली बैठक 2016 के पूर्वार्ध में पाकिस्तान में करने पर सहमति बनी। वार्ता इस आशा के साथ खत्म हुई कि दोनों पक्ष सीमा पर शांति और अमन बनाए रखने की कोशिश लगातार करते रहने पर सहमत हैं।’

दोनों पक्षों के बीच शुक्रवार को महानिदेशक स्तर की वार्ता संपन्न हुई। शुरू में एक ही दिन बातचीत करने का कार्यक्रम था, लेकिन पहले दिन की बातचीत के बाद दोनो पक्षों ने अगले दिन एक और सत्र की बातचीत करने पर सहमति जताई।
भारतीय पक्ष के सूत्रों ने बताया कि मामला दर मामला आधार पर स्थिति के समाधान के उद्देश्य से तत्काल संवाद के लिए दोनों बलों के महानिदेशक एक दूसरे के मोबाइल नंबर, ई-मेल आइडी और फैक्स नंबर का आदान-प्रदान करेंगे। पाकिस्तान द्वारा जम्मू कश्मीर में संघर्ष विराम उल्लंघन भारत और पाकिस्तान के बीच संबंधों में बड़Þी बाधा रही है। दोनों देशों के बीच राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार स्तर की वार्ता रद्द होने के बाद इस वार्ता को अहम माना जा रहा है। पाकिस्तान ने इसी महीने 11 बार संघर्ष विराम उल्लंघन किया है।

Next Stories
1 ट्वॉय ट्रेन हादसे में दो ब्रितानी पर्यटकों की मौत
2 मुसलिम वोटों के भरोसे बिहार में जोर आजमाएंगे असदुद्दीन ओवैसी
3 दोहरे विस्फोट से 89 की मौत, झाबुआ के पेटलावद कस्बे में हुआ हादसा
ये पढ़ा क्या?
X