ताज़ा खबर
 

भारत के साथ तनाव के बीच सीमा पर तारबंदी करा रहा नेपाल, भारतीय अधिकारियों ने जताया विरोध

भारत के चंपावत जिले के जिलाधिकारी ने बताया है कि हमने नेपाली प्रशासन से बात की है और उन्होंने बताया है कि वह जल्द ही अगली बैठक के लिए तारीखों की जानकारी देंगे। फिलहाल हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं।

india nepal india nepal border tensionभारत नेपाल के रिश्तों में कुछ दिनों से कड़वाहट देखी जा रही थी। (फाइल फोटो)

भारत और नेपाल के बीच सीमा विवाद को लेकर तनाव चल रहा है। यह विवाद उत्तराखंड के टनकपुर समेत कुछ और इलाकों को लेकर है। अब खबर आयी है कि नेपाल के लोगों ने टनकपुर में तारों से बाड़ लगा ली है। जबकि यह एक ‘नो मैंस लैंड’ है। बताया जा रहा है कि नेपाल के चीफ डिस्ट्रिक्ट ऑफिसर और नेपाल आर्म्ड पुलिस फोर्स के सुपरिटेंडेंट ने कंचनपुर जिले का दौरा किया था और इलाके का सर्वे कर लोगों से बात की थी।

वहीं भारत के चंपावत जिले के जिलाधिकारी ने बताया है कि हमने नेपाली प्रशासन से बात की है और उन्होंने बताया है कि वह जल्द ही अगली बैठक के लिए तारीखों की जानकारी देंगे। फिलहाल हम स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। बॉर्डर पर पेट्रोलिंग करने वाले सुरक्षाबलों का कहना है कि स्थानीय लोग बिना फंडिंग के बॉर्डर पर बाड़बंदी का काम नहीं कर सकते, हो सकता है कि उन्हें प्रशासन से मदद मिली हो।

एसएसबी के एक अधिकारी के अनुसार, यह बिल्कुल असंभव है कि स्थानीय लोग बॉर्डर पर इस तरह के स्ट्रक्चर बना लें और फिर वहां बिना सरकार की मदद के तारबंदी कर दें। न्यू इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार, नेपाली नागरिकों ने नो मैंस लैंड में 23 लकड़ी और कंक्रीट के ढांचे बनाए हुए हैं।

नेपाल इस 150 स्कवायर मीटर जमीन पर अपना दावा जता रहा है, जबकि भारत इसे दोनों देशों के बीच नो मैंस लैंड मानता है। अधिकारियों के अनुसार, नेपाल के नागरिकों ने पिलर संख्या 811 तक और टनकपुर बैराज तक अपना कब्जा कर लिया है। हाल ही में नेपाल ने बिहार से लगती सीमा पर भी भारतीय और नेपाल के बीच बाढ़ रोकने के लिए किए जाने वाले उपायों पर विवाद हुआ था।

बता दें कि भारत और नेपाल के बीच सीमा विवाद पुराना है लेकिन हाल के दिनों में इस मुद्दे पर दोनों देशों के रिश्तों में  ज्यादा तल्खी आयी है। खासकर नेपाल सरकार पीएम केपी शर्मा ओली के नेतृत्व में भारत के खिलाफ खासी आक्रामक दिखाई दे रही है। बता दें कि भारत और नेपाल के बीच कालापानी, लिपुलेख दर्रा और लिंपियाधुरा दर्रा इलाकों को लेकर विवाद है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Coronavirus India Today HIGHLIGHTS: मुंबई की झुग्गी बस्तियों में 57% संक्रमित; देश में 10 लाख के करीब पहुंची कोरोना को मात देने वालों की संख्या
2 कोरोना वैक्सीन के ह्यूमन ट्रायल की तैयारी पूरी, जानें इन पांच जगह पर कैसे होंगे ट्रायल
3 राजस्थान राजनीतिक संकटः सत्ता के लिए वर्चस्व की लड़ाई में कांग्रेस ने इन चार दिग्गज नेताओं को दी जिम्मेदारी, जानें क्या है पूरा प्लान
ये पढ़ा क्या?
X