ताज़ा खबर
 

कोविड-19 संकट : थाईलैंड, कतर जैसे देशों से चिकित्सा आपूर्ति पहुंचना जारी, यूएन एजेंसियों ने दिए 10 हजार कंसंट्रेटर

एक दिन पहले डेनमार्क, नीदरलैंड, पोलैंड जैसे देशों से चिकित्सा सहायता के रूप में आक्सीजन सांद्रक, वेंटीलेटर तथा अन्य चिकित्सा आपूर्ति भारत पहुंची थी ।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: May 8, 2021 3:28 PM
कोरोनावायरस से लड़ाई में भारत को अब तक दर्जनों देश मदद भेज चुके हैं। (फोटो- PTI)

भारत के अनेक हिस्सों के कोविड-19 की दूसरी लहर से गंभीर रूप से प्रभावित होने के बीच थाईलैंड, कतर जैसे देशों से चिकित्सा आपूर्ति सहायता के रूप में आक्सीजन सांद्रक, आक्सीजन सिलिंडर आदि पहुंचने का सिलसिला जारी है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट कर बताया, ‘‘विस्तारित पड़ोस में हमारा मूल्यवान नौवहन सहोगी। आसियान में हमारे सहयोगी थाईलैंड से 200 आक्सीजन सिलिंडर और 10 आक्सीजन कंसंट्रेटर मिलने की सराहना करते हैं।’’ उन्होंने बताया कि थाईलैंड में भारतीय समुदाय के लोगों के मूल्यवान योगदान के रूप में 100 अन्य आक्सीजन सिलिंडर तथा 60 आक्सीजन कंसंट्रेटर मिला।

बागची ने थाईलैंड से आए खेप के चित्र के साथ ट्वीट करते हुए कहा कि थाईलैंड से आक्सीजन सिलिंडर और आक्सीजन सांद्रक मिलने पर वहां के नरेश महा वजीरालोंगकर्ण तथा महारानी सुथिदा का विशेष आभार। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कतर से भारतीय समुदाय के लोगों द्वारा चिकित्सा सामग्रियां भेजने पर भी धन्यवाद दिया।

उन्होंने बताया कि आईएनएस तरकश द्वारा 42 लीटर और 50 लीटर क्षमता का 232 आक्सीजन सिलिंडर कतर से रवाना हुआ। बता दें कि इससे एक दिन पहले डेनमार्क, नीदरलैंड, पोलैंड जैसे देशों से चिकित्सा सहायता के रूप में आक्सीजन सांद्रक, वेंटीलेटर तथा अन्य चिकित्सा आपूर्ति भारत पहुंची थी।

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों ने भी भेजी भारत को जरूरी मदद: दूसरी तरफ संयुक्त राष्ट्र की कई एजेंसियों ने कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए भारत को करीब 10,000 ऑक्सीजन सांद्रक और करीब एक करोड़ मेडिकल मास्क भेजे हैं। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुतारेस के प्रवक्ता स्टीफन दुजारिक ने बृहस्पतिवार को नियमित संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘भारत में संयुक्त राष्ट्र का दल महामारी से निपटने के लिए राष्ट्रीय और स्थानीय दोनों सरकारों का सहयोग कर रहा है।’’

उन्होंने कहा कि यूनीसेफ, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या निधि (यूएनएफपीए) ने करीब 10,000 ऑक्सीजन सांद्रक, एक करोड़ मेडिकल मास्क और 15 लाख से अधिक फेस शील्ड दी हैं। संयुक्त राष्ट्र के दल ने वेंटीलेटर्स और ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र भी खरीदे हैं।

यूनीसेफ कोविड-19 रोधी टीकों को रखने के लिए ‘कोल्ड चेन’ उपकरण भी उपलब्ध करा रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘हमारे दल ने जांच मशीनों और किट के साथ ही थर्मल स्कैनर भी दिए हैं।’’ यूनीसेफ और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) भारत में 175,000 से अधिक टीकाकरण केंद्रों की निगरानी करने में भी मदद कर रहा है। डब्ल्यूएचओ ने बताया कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस के 46 प्रतिशत मामले भारत में है और पिछले हफ्ते इस महामारी से दुनियाभर में जान गंवाने वाले लोगों में 25 प्रतिशत लोगों की मौत भारत में हुई।

Next Stories
1 कोरोना काल में अंधेरगर्दी: मरीज ले जाने को एंबुलेंस वाले ने वसूल लिए 1 लाख से अधिक रुपए! रेमडेसिविर की कालाबाजारी में सरकारी डॉक्टर तक लिप्त
2 इस वक्त तबादला करने वाले अफसरों का हो हर हफ़्ते तबादला- बैंकों में तबादले पर रवीश कुमार की तंज भरी टिप्पणी
3 COVID-19 पीड़ितों के मददगार बने IYC के श्रीनिवास के कंट्रोल रूम में हमेशा रहते हैं 100 कार्यकर्ता, जानें- कैसे पहुंचाते हैं मदद?
ये पढ़ा क्या?
X