scorecardresearch

इजरायल ने किया सम्‍मान: सुब्रण्‍यम स्‍वामी बोले- कार्यक्रम में शरद पवार और आदित्‍य ठाकरे भी आए, मोदी के उलट दोनों बड़े विनम्र लगे तो भड़क गए यूजर, दे डाला ज्ञान

एक यूजर ने स्वामी को जवाब देते हुए लिखा, “दुर्भाग्य से केवल मतभेद के कारण हमें उन लोगों के खिलाफ टिप्पणी नहीं करनी चाहिए जिन्होंने देश के लिए अपना सब कुछ छोड़ दिया है। मेरे पीएम से ज्यादा विनम्र कोई नहीं है। ”

Subramanian Swamy,BJP
भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी(फोटो सोर्स: ट्विटर/@AUThackeray)।

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी अपने एक ट्वीट के चलते फिर से लोगों के निशाने पर आ गये। दरअसल उन्होंने एक ट्वीट में मुंबई स्थित इजराइली महावाणिज्य दूतावास द्वारा 28 जून को आयोजित एक समारोह की कुछ फोटो शेयर की। इस कार्यक्रम में एनसीपी प्रमुख शरद पवार और आदित्य ठाकरे भी मौजूद रहे। उन्होंने ट्वीट में पवार और आदित्य दोनों ही नरेंद्र मोदी के विपरीत काफी विनम्र बताया। इसपर सोशल मीडिया यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया।

गौरतलब है कि भारत और इज़राइल के राजनयिक संबंधों के 30 साल पूरे होने पर मुबंई में इजराइली महावाणिज्य दूतावास द्वारा एक समारोह आयोजित किया गया। इसमें सुब्रमण्मय स्वामी के अलावा शरद पवार और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री आदित्य ठाकरे भी शामिल हुए थे।

स्वामी ने कार्यक्रम को लेकर लिखा, “मुंबई स्थित इज़राइल महावाणिज्य दूत ने आज शरद पवार, आदित्य ठाकरे और मेरे साथ मुंबई के कई लोगों के साथ एक शानदार वार्षिक समारोह का आयोजन किया। पवार और आदित्य दोनों मोदी के विपरीत काफी विनम्र थे।”

स्वामी के इस ट्वीट में एक यूजर रबी नारायण ने कहा, “यह तुलना अनुचित है। दुर्भाग्य से केवल मतभेद के कारण हमें उन लोगों के खिलाफ टिप्पणी नहीं करनी चाहिए जिन्होंने देश के लिए अपना सब कुछ छोड़ दिया है। मेरे पीएम से ज्यादा विनम्र कोई नहीं है। वह असाधारण है।”

एक अन्य ने लिखा, “इन दो विनम्र लोगों से राज्यसभा सीट के लिए अपनी किस्मत आजमाएं। आप सौभाग्यशाली हों।” एक और ने लिखा, “कभी नहीं सोचा था कि आप अगले अरुण शौरी या यशवंत सिन्हा होंगे?” अन्य यूजर ने लिखा, “राजनीति बस कीजिए, अपना ही गुणगान चालू है, हद है यार, उदयपुर की घटना आपको नहीं दिख रही, मन तो आपका साफ है ही नहीं तो मंत्रालय कहां से मिलेगा?”

बता दें कि भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी इससे पहले भी मोदी सरकार की गलतियों या फिर किसी गलत फैसले पर अपना विरोध दर्ज कराते आये हैं। खासकर चीन के मुद्दे पर वो काफी प्रखर रहे हैं। स्वामी कई बार अपने ट्वीट में दावा कर चुके हैं कि चीन ने एलएसी पार किया है लेकिन भारत सरकार अभी तक इस बात को स्वीकार नहीं कर रही। ऐसे में स्वामी ने तंज कसते हुए कहा था कि अगर सीमा के अंदर कोई नहीं आया तो सैन्य स्तर पर कई दौर की वार्ता क्यों हो रही है?

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X