ताज़ा खबर
 

इजरायल से 10 किलर ड्रोन खरीदेगा भारत, पाकिस्तान-चीन में मची खलबली, जानिए- क्या है इसकी खासियत

करीब 400 मिलियन डॉलर के इस रक्षा समझौते को रक्षा मंत्रालय ने साल 2015 में मंजूरी दी थी।
हेरोन ड्रोन को भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन सीमा पर निगरानी के लिए तैनात किया जा सकता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन दिवसीय इजरायल दौरे पर हैं। इस दौरान भारत और इजरायल एक ऐसा डिफेंस डील करने जा रहा है, जिससे चीन और पाकिस्तान में खलबली मच गई है। दरअसल, भारत इजरायल से 10 हेरोन टीपी ड्रोन खरीदने जा रहा है। यह ड्रोन हवा से जमीन पर मार करने वाली मिसाइल से लैस है। इसे किलर ड्रोन भी कहा जाता है। इसकी मारक क्षमता को देखते हुए इसे भारत के लिए अहम माना जा रहा है। भारत इस ड्रोन की मदद से न केवल पाक अधिकृत इलाकों में आतंकी कैम्पों को नेस्तनाबूद कर सकता है बल्कि वहां छिपे आतंकियों पर भारत से ही निशाना लगाया जा सकता है।

हेरोन टीपी ड्रोन की तुलना अमेरिका के प्रिडेटर और रीपर ड्रोन से की जाती है। यह लगातार 30 घंटे तक उड़ने में सक्षम है। इसके अलावा इसमें लगे कैमरे खुफिया जानकारी इकट्ठा करने में माहिर हैं। हवा से ही आतंकी ठिकानों की पहचान की जा सकती है और उस पर निशाना लगाकर उसे ध्वस्त किया जा सकता है। यह ड्रोन किसी भी मौसम में एक टन वजन उठाकर 45000 फीट की ऊंचाई तक उड़ सकता है। इसे उड़ाने के लिए किसी पायलट की जरूरत नहीं पड़ती बल्कि एक कंट्रोल रूम में बैठा ऑपरेटर ही इसे कंट्रोल कर सकता है। यह ड्रोन 370 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ सकता है।

करीब 400 मिलियन डॉलर के इस रक्षा समझौते को रक्षा मंत्रालय ने साल 2015 में मंजूरी दी थी। इसके बाद फरवरी 2015 में बेंगलुरू में एयरो इंडिया शो में इस ड्रोन को प्रदर्शित किया गया था। इस ड्रोन कीसबसे बड़ी कासियत यह है कि यह पहले टारगेट खोजता है, फिर उस पर निशाना लगाता है। इसके बाद वह हवा से ही निशाना लगाकर मिसाइल से जमीन पर के टारगेट को ध्वस्त कर देता है। फिलहाल भारत के पास जो ड्रोन हैं उनमें यह काबिलियत नहीं है। भारत के पास मौजूदा ड्रोन जब तक टारगेट की पहचान करते हैं और निशाना लगाने की कोशिश करते हैं तब तक टारगेट गायब हो जाता है।

हेरोन ड्रोन को भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन सीमा पर निगरानी के लिए तैनात किया जा सकता है। इजरायली ड्रोन ने दुनियाभर का ध्यान अपनी ओर खींचा है। इजरायल का एयरोस्पेस इंडस्ट्री इस तरह के खास ड्रोन को डिजायन और डेवलप करने के लिए दुनियाभर में मशहूर है। घरेलू कम्प्यूटर के मामले में भी इजरायल दुनिया में अव्वल है। मोटोरोला ने पहला फोन भी यहीं बनाया था।

देखिए किलर ड्रोन का फर्स्ट लुक:

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. B
    bitterhoney
    Jul 5, 2017 at 11:40 pm
    जब से मोदी जी इजराइल गए हैं ज़ी जिपिंग और नवाज सरीफ दोनों ही वेंटीलेटर पर हैं. बार बार लूज़ मोशन हो रहा है. कोई भी औषधि काम नहीं कर रही है.पैंपर पे पैंपर बदले जा रहे हैं.
    (0)(0)
    Reply