ताज़ा खबर
 

India Independence Day 2019: जानें पीएम मोदी के 90 मिनट के भाषण की 10 अहम बातें

India Independence Day 2019 Celebrations Images, भारत का स्वतंत्रता दिवस, PM Narendra Modi Speech: पीएम मोदी ने 90 मिनट के इस भाषण में भ्रष्टाचार, अनुच्छेद 370, जनसंख्या नियंत्रण, तीन तलाक बिल जैसे तमाम मुद्दों का जिक्र किया।

Author नई दिल्ली | August 15, 2019 11:06 AM
Independence day: लाल किले की प्राचीर से लगातार छठीं बार पीएम मोदी ने देश को संबोधित किया। (indian express)

India Independence Day 2019: भारत के 73वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों को लाल किले से संबोधित किया। इससे पहले उन्होंने राजघाट पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की और सीधे लाल किले के लाहौरी गेट पहुंचे, जहां उनका स्वागत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किया। उन्हें सेना, नौसेना, वायु सेना और दिल्ली पुलिस की एक टुकड़ी ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया। जिसके बाद उन्होंने ध्वजारोहण किया। पीएम मोदी ने 90 मिनट के इस भाषण में भ्रष्टाचार, अनुच्छेद 370, जनसंख्या नियंत्रण, तीन तलाक बिल जैसे तमाम मुद्दों को जिक्र किया। आइए हम आपको बताते हैं प्रधानमंत्री के भाषण की 10 अहम बातें –

-स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पीएम मोदी ने एक बड़ी घोषणा की। प्रधानमंत्री ने कहा कि तीनों रक्षा सेवाओं का नेतृत्व करने के लिए सरकार एक चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ पद का सृजन करेगी। उन्होंने कहा, “सरकार जल्द ही तीन रक्षा सेवाओं का नेतृत्व करने के लिए चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ के पद का निर्माण करेगी।”

-राष्ट्र को संबोधित करते हुए पीएम ने अनुच्छेद 370 को लेकर भी बात की। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 रद्द किए जाने के बाद देश की जनता गर्व के साथ ‘एक राष्ट्र एक संविधान’ कह सकती है। 10 सप्ताह से भी कम समय में अनुच्छेद 370, 35 ए को रद्द कर राजग सरकार ने प्रथम गृह मंत्री सरदार पटेल के सपने को पूरा किया है। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 ने जम्मू-कश्मीर में विकास को रोक रखा था।

-प्रधानमंत्री ने आर्टिकल 370 के मुद्दे पर बोलते हुए कहा कि जो काम 70 सालों में नहीं किया गया उसे हमने 70 दिनों में कर दिखाया। उन्होंने कहा कि पिछले 70 दिनों में सरकार ने 60 महत्वहीन कानूनों को समाप्त किया है।

-प्रधानमंत्री ने आधुनिक बुनियादी ढांचे के लिए 100 लाख करोड़ रुपये की घोषणा की। पीएम ने बुनियादी ढांचे पर जोर देते हुए कहा कि वंदे भारत के बाद अब लोग बेहतर सड़क चाहते हैं।

-पीएम ने कहा हमें जनसंख्या नियंत्रण पर ध्यान देने की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री ने देश की जनता से अपील की कि वह इस बाबत जागरूकता फैलाने का काम करें। उन्होंने कहा, “बढ़ती जनसंख्या देश के लिए चिंता का विषय है, जागरूकता के माध्यम से ही, हम इसे नियंत्रित कर सकते हैं।”

-प्रधानमंत्री ने लोगों से प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल नहीं करने और इससे दूर रहने का आग्रह किया। उन्होंने दुकानदारों से भी आह्वान किया कि वह अपनी दुकानों पर नो प्लास्टिक बैग्स का बोर्ड लगाएं। बता दें कि बीते दिसंबर से ही बिहार में प्लास्टिक के खरीद-बिक्री और उपयोग पर पूर्ण प्रतिबंध है।

-पीएम ने किसानों पर भी बात की। उन्होंने कहा “किसानों और छोटे व्यापारियों को 60 वर्ष की आयु के बाद आर्थिक सहारा देने के लिए पेंशन का प्रावधान किया गया है। जल संकट से निपटने के लिए, केंद्र और राज्य सरकार मिलकर योजनाएं बनाएं, इसके लिए एक अलग जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया गया है।”

-तीन तलाक के मुद्दे पर बोलते हुए प्रधानमंत्री ने लालकिले की प्राचीर से कहा कि राजनीति से परे होकर सरकार ने मुस्लिम बहनों को न्याय और सम्मान दिलाने के लिए तीन तलाक जैसी कुप्रथा को खत्म किया। इससे मुस्लिम बहनों और माताओं को आत्मविश्वास मिलेगा।

-पीएम ने बाढ़ प्रभावित राज्यों की स्थिति को लेकर दुख जताया। उन्होंने कहा, “बाढ़ प्रभावित राज्यों की सरकारें केंद्र सरकार, एनडीआरएफ (राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल) राहत व बचावकर्मी और सेना सभी स्थिति से निपटने के लिए पूरी कोशिश कर रहे हैं।”

-प्रधानमंत्री ने देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाने का संकल्प दोहराया और माना कि यह मुश्किल है, लेकिन इस सपने को पूरा किया जा सकता है। पीएम ने कहा कि देश में सामर्थ्य है और ऐसा करना संभव है। पीएम मोदी ने अपने संबोधन में डिजिटलाइजेशन को बढ़ावा देने और देश में पर्यटन को भी बढ़ावा देने की बात कही।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App