ताज़ा खबर
 

भारत के विदेश सचिव ने पाकिस्‍तानी समकक्ष को रात में भिजवाई चिट्ठी, लिखा- POK की स्थिति पर भी हो बात

भारत की ओर से पाकिस्तान को भेजे गए जवाब में कहा गया है बातचीत सिर्फ आतंकवाद पर ही संभंव है। इसके अलावा पाक अधिकृत कश्मीर के हालात पर भी चर्चा का प्रस्ताव किया गया है।

Author नई दिल्ली | Updated: August 25, 2016 6:21 PM
पाकिस्‍तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के साथ PM मोदी। (EXPRESS ARCHIVE)

भारत के विदेश सचिव एस जयशंकर ने अपने पाकिस्तानी समकक्ष को लिखी एक चिट्ठी में कहा कि बातचीत सिर्फ क्रॉस बॉर्डर टेररिज्म (सीमा पार से आतंकवाद) पर होगी। उन्होंने इसे ‘क्षेत्रीय सुरक्षा’ के लिए खतरे के रूप में पारिभाषित किया है। पाकिस्तान के विदेश सचिव अजीज अहमद चौधरी को बुधवार रात भेजे गए लेटर में पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (PoK) की स्थिति पर बातचीत का भी प्रस्ताव रखा गया। पाकिस्तान की ओर से भारत को 15 अगस्त को लेटर लिखकर जम्मू-कश्मीर के हालात और मानवाधिकार से जुड़े मुद्दे पर बातचीत के न्योता भेजा गया था।

सरकारी सूत्रों के मुताबिक इंटेलीजेंस सर्विसेस के प्रमुखों और गृह मंत्रालय से सलाह मशविरा के बाद नेशनल सिक्योरिटी एडवाइजर अजित डोवाल ने लेटर को मंजूरी दी है। ड्राफ्ट तैयार करने में शामिल रहे एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि लेटर में पाकिस्तान से कहा गया है कि अगर आप गंभीर बातचीत चाहते हैं तो हम उम्मीद करते हैं इसकी शुरुआत हमने पठानकोट अटैक के समय की थी। हम उसके लिए तैयार है। भारत की ओर से कहा गया है कि अगर आप हमारे खिलाफ प्रचार करके अपने प्वाइंट्स बढ़ाना चाहते हैं तो, फाइन, हम भी यह गेम खेल सकते हैं।

READ ALSO: कश्मीर पर वार्ता के लिए भारत को पाकिस्तान का न्यौता

अधिकारियों ने Indian Express को बताया कि एनएसए अजित डोवाल और विदेश सचिव एस जयशंकर साथ मिलकर पाकिस्तान के साथ रिश्तों में गतिरोध के जवाब में एक व्यापक रणनीतिक प्रतिक्रिया तैयार कर रहे हैं। सीनियर अधिकारी ने बताया कि हर किसी को स्पष्ट है कि पाकिस्तान के साथ बातचीत करना कोई पॉलिसी नहीं है और बात नहीं करना भी नीति नहीं है। बड़ा सवाल यह है कि पाकिस्तान कब आंतकी संगठनों और कश्मीर के अलगावादियों को समर्थन देना बंद करने पर मजबूर होता है।

READ ALSO: पाक का नापाक बयान- पाकिस्तान का जश्न-ए-आजादी कश्मीर की ‘आजादी’ के नाम

गौरतलब है कि 15 अगस्त को पाकिस्तान ने भारत को कश्मीर पर बातचीत के लिए आमंत्रित किया था। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने भारतीय उच्चायुक्त गौतम बम्बावाले को बातचीत के लिए पत्र सौंपने के लिए बुलाया था। पाकिस्तान की ओर से जम्मू-कश्मीर के हालात पर बातचीत के लिए विदेश सचिव को इस्लामाबाद आने का न्योता दिया गया था। विदेश सचिव ने उनके न्योते पर इस्लामाबाद जाने की इच्छा जताते हुए कहा था कि बातचीत सिर्फ आतंकवाद पर होगी। भारत ने बुधवार रात को पाकिस्तान को लेटर लिखकर अपने रुख से वाकिफ करवा दिया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 झूठी है रोहित वेमुला के ‘दलित’ न होने की रिपोर्ट: पीएल पुनिया
2 जेट एयरवेज में केबिन क्रू बनने गई थीं स्‍मृति ईरानी, पर्सनैलिटी अच्‍छी नहीं बताकर कर दिया गया रिजेक्‍ट