नहीं होगी वैक्सीन की किल्लत? सरकार ने लिया बड़ा फैसला, जल्द सभी विदेशी वैक्सीन को मिलेगी मंजूरी

केंद्र ने कहा कि इस निर्णय से देश को विदेशी वैक्सीन तक तेजी से पहुंच बनाने में मदद मिलेगी और थोक में ड्रग्स मेटेरियल लाने, जरूरी उपयोग और घरेलू आपूर्ति में सुविधा होगी।

विदेशी निर्माताओं के लिए देश में अपने कोविड -19 वैक्सीन को व्यावसायिक रूप से बाजार में लाने के लिए मंजूरी को तेजी से ट्रैक करने के उद्देश्य से, केंद्र ने मंगलवार को घोषणा की कि जिन टीकों को अमेरिका, ब्रिटेन, जापानी नियामकों द्वारा आपातकालीन स्वीकृतियां दी गई हैं और जिन्हें डब्ल्यूएचओ ने सूचीबद्ध किया है, उन्हें भारत में आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी जा सकती है।

केंद्र ने कहा कि इस निर्णय से देश को विदेशी वैक्सीन तक तेजी से पहुंच बनाने में मदद मिलेगी और थोक में ड्रग्स मेटेरियल लाने, जरूरी उपयोग और घरेलू आपूर्ति में सुविधा होगी। इससे वैक्सीन निर्माण क्षमता और घरेलू जरूरतों के लिए कुल वैक्सीन उपलब्धता को पूरा करेगा। केंद्र ने कहा कि नियमों में बदलाव के साथ ऐसे विदेशी टीकों के पहले 100 लाभार्थियों का सुरक्षा परिणामों के लिए सात दिनों तक मूल्यांकन किया जाएगा। इसके बाद ही उसे देश के दूसरे लोगों को लगाया जाएगा। मंगलवार का फैसला महामारी से लड़ने के लिए उपलब्ध टीकों की उपलब्धता को बढ़ाने के साथ-साथ घरेलू टीकाकरण कार्यक्रम की गति और कवरेज में तेजी लाने के लिए वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह की बैठक में की गई थी।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा, “वैक्सीन प्रशासन पर राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह ने व्यापक विचार-विमर्श के बाद, कोविड-19 के लिए टीकों की सिफारिश की, जो विकसित किए गए हैं और विदेशों में निर्मित किए जा रहे हैं और जिन्हें यूएसएफडीए, ईएमए, यूके एमएचआरए, पीएमडीए जापान या जो प्रतिबंधित हैं द्वारा आपातकालीन स्वीकृति प्रदान की गई है। और वे डब्ल्यूएचओ में सूचीबद्ध (इमरजेंसी यूज लिस्टिंग) है, को भारत में आपातकालीन उपयोग की मंजूरी दी जा सकती है।”

केन्द्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की कोविड-19 पर विषय विशेषज्ञ समिति (एसईसी) ने सोमवार को कुछ नियामकीय शर्तों के साथ ‘स्पूतनिक वी’ के सीमित आपात इस्तेमाल की सिफारिश की थी।

डीसीजीआई ने भारत बायोटेक के ‘कोवैक्सीन’ और सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रोजेनेका के ‘कोविशील्ड’ टीके को पहले ही आपात इस्तेमाल की मंजूरी जनवरी में दे दी थी।

Next Stories
1 पश्‍च‍िम बंगाल चुनाव: सुशील चंद्रा ने कुर्सी संभालते ही ल‍िए कई फैसले, ममता बनर्जी ने व्हील चेयर पर द‍िया धरना, पेट‍िंग बना काटा वक्त
2 बीच में टोक रहे थे PK, एंकर बोलीं- सुनिए तो…जब प्रश्न ही नहीं सुनेंगे, तो रणनीति कैसे बनाएंगे? देखें- फिर क्या हुआ
3 कोरोनाः ‘लखनऊ में न जांच, न वक्त पर मिल रही एंबुलेंस’, योगी के मंत्री का खत; हेल्थवर्कर्स से बोले DM- बिन बताए ली छुट्टी तो होगा ऐक्शन
ये पढ़ा क्या?
X