ताज़ा खबर
 

LAC विवादः फिंगर 4 क्षेत्र से दोनों देशों के फौजियों के पीछे हटने की चीन ने रखी थी शर्त, भारत ने कहा- ये संभव नहीं

भारत द्वारा दोनों देशों के बीच 1993-1996 में हुए समझौते का चीन द्वारा उल्लंघन करने का भी मुद्दा उठाया जा रहा है। यह समझौता एलएसी पर किसी भी तरह के निर्माण कार्य को प्रतिबंधित करता है।

india china tension, galwan valley, ladakh, indian army pangong tsoभारत चीन सीमा पर अभी भी तनाव की स्थिति बनी हुई है।

भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को सुलझाने की कोशिशें चल रही हैं लेकिन लद्दाख के फिंगर 4 इलाके को लेकर विवाद बना हुआ है। यही वजह है कि कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर कई दौर की बातचीत के बावजूद भी स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है। बीते दिनों चीन ने लद्दाख में सीमा विवाद को सुलझाने के लिए भारत के सामने एक शर्त रखी थी लेकिन अब खबर आयी है कि भारत की तरफ से इसे खारिज कर दिया गया है।

सूत्रों के हवाले से न्यूज एजेंसी ANI ने बताया है कि “चीन द्वारा विवाद को सुलझाने के लिए सलाह दी गई थी कि लद्दाख के फिंगर 4 इलाके से भारत और चीन दोनों को पीछे हट जाना चाहिए। हालांकि भारत ने इस सलाह को मानने से इंकार कर दिया है।” अभी चीन के सैनिक लद्दाख के पेंगोंग त्सो झील के फिंगर 5 इलाके में तैनात हैं। इसके अलावा फिंगर 5 से फिंगर 8 के बीच के इलाके में बड़ी संख्या में सैनिक तैनात हैं।

भारत ने साफ कहा है कि चीन को फिंगर इलाकों को पूरी तरह से खाली कर अपनी पहले की जगह लौट जाना चाहिए। भारत द्वारा दोनों देशों के बीच 1993-1996 में हुए समझौते का चीन द्वारा उल्लंघन करने का भी मुद्दा उठाया जा रहा है। यह समझौता एलएसी पर किसी भी तरह के निर्माण कार्य को प्रतिबंधित करता है। बता दें कि भारत द्वारा पेंगोंग त्सो झील के फिंगर 8 तक अपना क्षेत्र होने का दावा किया जाता है, इसके बावजूद चीन द्वारा यहां निर्माण कार्य किया गया है।

बता दें कि भारत और चीन के बीच जारी सीमा विवाद को सुलझाने के लिए वर्किंग मैकेनिज्म फॉर कंसल्टेशन एंड कॉर्डिनेशन ऑन इंडिया-चाइना बॉर्डर अफेयर्स (WMCC) की चौथी बैठक भी बेनतीजा रही है। दरअसल चीन के फिंगर 4 इलाके से पीछे हटने में आना-कानी की वजह से ही सीमा पर शांति को लेकर चल रही बातचीत अटकी हुई है। दोनों देशों के बीच कई दौर की कमांडर लेवल की बातचीत भी हो चुकी है लेकिन उसमें भी सहमति नहीं बन पायी है।

वहीं चीन के साथ जारी तनातनी के बीच भारत ने सीमा पर पर्याप्त संख्या में सैनिकों की तैनाती कर दी है। भारत ने लंबे समय तक सैनिकों को लद्दाख में तैनात करने की तैयारी शुरू कर दी है। वहीं पाकिस्तान की सीमा से सटे पश्चिमी फ्रंट को भी मजबूत किया जा रहा है। भारतीय वायुसेना ने हाल ही में पश्चिमी फ्रंट पर एलसीए तेजस की तैनाती की है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लेटर विवादः सोनिया गांधी के कांग्रेस चीफ पद छोड़ने की उड़ी खबर, रणदीप सुरजेवाला बोले- नहीं दे रहीं इस्तीफा
2 क्या होता है COVID-19 का ‘पीक’? समझें कब और कैसे आता है
3 असमः पूर्व CM के दावे पर पूर्व CJI रंजन गोगोई ने किया साफ- नहीं हूं सीएम कैंडिडेट, न ही राजनेता
ये पढ़ा क्या?
X