ताज़ा खबर
 

पैंगांग व डेपसांग पर होगी कूटनीति-सैन्य वार्ता

भारतीय सेना की मौके पर भेजी गई टीमों ने गोग्रा के पीपी 17 ए, गलवान के पीपी 14 और हॉट स्प्रिंग के पीपी 15 में चीनी जवानों के दो किलोमीटर पीछे हटने की पुष्टि की।

Author Published on: July 10, 2020 5:16 AM
India, China, Intelligence agenciesभारतीय खुफिया एजेंसियों के पास अप्रैल मध्य में पहली बार एलएसी पर चीनी सेना के जुटने के इनपुट्स आ गए थे।

ग्रोग्रा पोस्ट के पेट्रोलिंग प्वाइंट 17, गलवान के पीपी 14 और हॉट स्प्रिंग के पीपी 15 से चीनी सैनिकों के दो किलोमीटर पीछे हटने की पुष्टि मौके पर भेजी गई भारतीय सेना की टीमों ने कर दी है। इसके बाद अब पैंगांग त्सो और डेपसांग इलाके से चीनियों सैनिकों के पीछे हटने को लेकर भारतीय कूटनीतिक और सैन्य वार्ताकार बातचीत करेंगे।

बातचीत की तैयारियों को लेकर विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत सरकार वार्ता के जरिए मतभेदों के समाधान को लेकर आश्वस्त है और सीमा क्षेत्रों में अमन-चैन बनाए रखने की आवश्यकता को समझता है। भारत अपनी संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता सुनिश्चित करने के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है। वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) का कड़ाई से पालन और सम्मान किया जाना चाहिए, क्योंकि सीमावर्ती क्षेत्रों में यही शांति और स्थिरता का आधार है।

प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि दोनों पक्षों के सैन्य और राजनयिक अधिकारी सेनाओं के पीछे हटने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने के लिए बैठकें जारी रखेंगे। उन्होंने कहा, ‘भारत-चीन सीमा मामलों पर विचार-विमर्श एवं समन्वय के लिए कार्य तंत्र (डब्लूएमसीसी) की अगली बैठक जल्द ही होने की संभावना है।’ शुक्रवार को सीमा मामलों पर कूटनीतिक एवं सैन्य अधिकारियों की ‘मेकैनिज्म फॉर कंसल्टेशन एंड को-आॅर्डिनेशन’ (डब्लूएमसीसी) की वर्चुअल बैठक का आयोजन किया जाएगा।

दोनों देशों ने एलएसी से पीछे हटने के ‘प्रभावी कदम’ उठाए : चीन

चीन ने गुरुवार को कहा कि चीनी और भारतीय सैनिकों ने गलवान घाटी और पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास अन्य इलाकों से पीछे हटने के लिए ‘प्रभावी कदम’ उठाए हैं और हालात ‘स्थिर और बेहतर’ हो रहे हैं। दोनों पक्षों में गतिरोध वाले सारे क्षेत्रों से तेजी से सैनिकों को हटाने पर सहमति बनी है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिआन का यह बयान ऐसे वक्त पर आया है, जब नई दिल्ली में मामले के जानकारों का कहना है कि चीनी सेना ने पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले हॉट स्प्रिंग्स से सभी अस्थायी ढांचों को हटा दिया है और सारे सैनिकों को हटाने की कार्रवाई पूरी कर ली है।

झाओ ने बेजिंग में कहा, ‘कमांडर स्तर की बातचीत में बनी सहमति पर अमल करते हुए चीन और भारत सीमा सैनिकों ने गलवान घाटी व अन्य इलाकों में अग्रिम रेखा पर पीछे हटने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं। सीमा पर हालात स्थिर हैं और बेहतर हो रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष चीन-भारत सीमा मामलों पर ‘परामर्श और समन्वय के लिए कार्य तंत्र’ (डब्लूएमसीसी) की बैठकों सहित सैन्य और राजनयिक माध्यम से बातचीत जारी रखेंगे।

-डब्लूएमसीसी की आभासी बैठक आज
-विदेश मंत्रालय ने कहा, एलएसी का कड़ाई से पालन और सम्मान होना चाहिए
-भारतीय सेना की मौके पर भेजी गई टीमों ने गोग्रा के पीपी 17 ए, गलवान के पीपी 14 और हॉट स्प्रिंग के पीपी 15 में चीनी जवानों के दो किलोमीटर पीछे हटने की पुष्टि की

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 …जब भारत ने 1967 में लिया था चीन से 1962 की हार का बदला, जानें पूरी कहानी
2 गांधी परिवार से जुड़े तीन ट्रस्ट जांच को लेकर कांग्रेस नेता ने उठाए सवाल, पैनलिस्ट बोले- हमारी मर्जी है हर तीन महीने पर नया घोटाला लाएंगे
3 येस बैंक को-फाउंडर राणा कपूर की 1200 करोड़ रुपये की संपत्ति जब्त, सीबीआई ने पत्नी और बेटी को भी बनाया है आरोपी
ये पढ़ा क्या?
X