ताज़ा खबर
 

मोदी ने हिम्मत दिखाई, चीन के हाथ मरोड़े तो टेंट और टैंक वापस चले गए- सोशल मीडिया पर लोग ऐसे दिखा रहे उत्‍साह

भारतीय सेना की तारीफ करते हुए लिखा कि हमारे 20 जवानों के बलिदान ने चीन को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया है। एक यूजर ने लिखा कि "इतिहास के पटल पर मोदी सरकार का राष्ट्रवादी युग स्वर्णिम काल के रूप में लिखा जाएगा।"

India,China, LACभारत चीन सीमा पर तैनात भारतीय जवान।(फाइल फोटो-PTI)

एलएसी पर भारत चीन के बीच जारी तनाव में कुछ कमी आयी है। दोनों देशों की सेनाएं 1-2 किलोमीटर पीछे भी हटी हैं। इसे सोशल मीडिया पर कुछ यूजर्स मोदी सरकार की सफलता बता रहे हैं। मशहूर पत्रकार रजत शर्मा ने भी एक ट्वीट कर सीमा विवाद के मुद्दे पर मोदी सरकार की नीति की तारीफ की है। रजत शर्मा ने ट्वीट में लिखा कि “पिछले साठ साल में चीन ने हमारी जमीन पर कई बार कब्जा किया, आंखें दिखाईं। हमने कभी करारा जवाब नहीं दिया। इस बार मोदी ने हिम्मत दिखाई, चीन के हाथ मरोड़े तो टेंट और टैंक वापस चले गए।”

वहीं एक यूजर ने लिखा कि ‘चीनी को हम पानी में घोल घोल पी जाएंगे।’ एक अन्य यूजर ने लिखा कि ‘गलवान घाटी पॉइंट 14 से पीएलए 2 किलोमीटर पीछे हटी और चीन ने अपना अस्थाई विवादित ढांचा भी गिराया और चीनी सेना अपने मूल जगह पर लौट गई..इसी को कहते हैं नया भारत’। एक यूजर ने लिखा कि “भारत की बढ़ती हुई शक्ति देखकर चीन जैसे देश जलते रहते हैं, इसलिए सीमा का अतिक्रमण करके भारत को नीचा दिखाना चाहते थे पर वो भूल गए ये नेहरू का नहीं मोदी का भारत है जो छेड़ने वालों को छोड़ता नहीं है शायद अब तक जिनपिंग को अपनी औकात समझ में आ गई होगी।”

इसी तरह एक अन्य यूजर ने भी भारतीय सेना की तारीफ करते हुए लिखा कि हमारे 20 जवानों के बलिदान ने चीन को पीछे हटने पर मजबूर कर दिया है। एक यूजर ने लिखा कि “इतिहास के पटल पर मोदी सरकार का राष्ट्रवादी युग स्वर्णिम काल के रूप में लिखा जाएगा।”

बता दें कि रविवार को भारतीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात हुई थी। जिसमें दोनों देश एलएसी से पीछे हटने के लिए तैयार हुए थे। सोमवार को चीनी सेना एलएसी से 1-2 किलोमीटर पीछे चली गई है। आगे भी बातचीत की प्रक्रिया जारी रहेगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना के कहर से कम फीस वाले कई स्‍कूलों के बंद होने का खतरा: फीस आ नहीं रही, वेतन-किराया तक पर आफत
2 पहले फोन पर बातचीत, फिर वीडियो कॉल, जानें चीनी सेना के पीछे हटने पर एनएसए अजित डोवाल के साथ बातचीत में कैसे बनी सहमति
3 ड्रैगन घुसपैठ कर रहा और गुजरात सरकार चीन को ढोलेरा में दे रही जमीन, कांग्रेस का दावा- पांच साल में हुआ 43 हजार करोड़ का निवेश
ये पढ़ा क्या?
X