ताज़ा खबर
 

India-China Border: कांग्रेस का आरोप- हमें लोकसभा में भारतीय सैनिकों के समर्थन में बोलने नहीं दिया गया

लोकसभा में पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर दिये गये एक बयान में रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि इस सदन को प्रस्ताव पारित करना चाहिए कि यह सदन और सारा देश सशस्त्र बलों के साथ है जो देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए डटकर खड़े हैं।

INDIA CHINA Tension lac indian army chinaसीमा पर अभी भी तनाव की स्थिति बनी हुई है। (पीटीआई फोटो)

चीन के साथ गतिरोध पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के वक्तव्य के बाद कांग्रेस ने मंगलवार को आरोप लगाया कि लोकसभा में उसके नेता सीमा पर तैनात जवानों के सम्मान में अपनी बात रखना चाहते थे, लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं होने दिया।

पार्टी ने सरकार पर चर्चा से डरने का भी आरोप लगाया और सवाल खड़ा किया कि जब रक्षा मंत्री ने यह वक्तव्य दिया और जवानों के प्रति एकजुटता प्रकट करते हुए प्रस्ताव की बात की तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में मौजूद क्यों नहीं थे? कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर दावा किया, ‘‘ रक्षामंत्री के बयान से साफ़ है कि मोदी जी ने देश को चीनी अतिक्रमण पर गुमराह किया।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘हमारा देश हमेशा से भारतीय सेना के साथ खड़ा था, है और रहेगा। लेकिन मोदी जी, आप कब चीन के ख़िलाफ़ खड़े होंगे? चीन से हमारे देश की ज़मीन कब वापस लेंगे? चीन का नाम लेने से डरो मत।’’

लद्दाख के पूर्वी क्षेत्र में चीन की सेना के साथ गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि वहां हम चुनौती का सामना कर रहे हैं लेकिन हमारे सशस्त्र बल देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए डटकर खड़े हैं। लोकसभा में पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर दिये गये एक बयान में रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि इस सदन को प्रस्ताव पारित करना चाहिए कि यह सदन और सारा देश सशस्त्र बलों के साथ है जो देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए डटकर खड़े हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत, चीन के साथ सीमा पर गतिरोध को शांतिपूर्ण ढंग से हल करने को प्रतिबद्ध है।

उधर, चीन पाकिस्तान की मदद से पीओके में अपना सैन्य अड्डा बनाने की योजना पर काम कर रहा है। माना जा रहा है कि इसी के चलते लद्दाख में तनाव की स्थिति बनी हुई है। चीन सीपेक के जरिए तेल सप्लाई के लिए हिंद महासागर पर अपनी निर्भरता को कम करना चाहता है, यही वजह है कि वह ग्वादर बंदरगाह पर खूब निवेश कर रहा है। ऐसे में भारत के लिए दोहरे मोर्चे पर चुनौती बढ़ गई है।

लद्दाख में जारी सीमा विवाद के गंभीर होने के बावजूद चीन अपनी विस्तारवादी आदत से बाज नहीं आ रहा है। खबर है कि चीन ने भूटान सीमा पर अपने सैनिकों की तैनाती बढ़ा दी है और इसके साथ ही भूटान से लगती सीमा पर सड़क, हेलीपैड तैयार करने में जुटा है। बता दें कि चीन भूटान के भी पश्चिमी सेक्टर में 318 वर्ग किलोमीटर और सेंट्रल सेक्टर में 495 वर्ग किलोमीटर की जमीन पर अपना दावा जताता है।

कोरोना से ठीक होने के बाद दूसरी बार AIIMS में भर्ती हुए अमित शाह

दिल्ली दंगों के केस में छात्र नेता उमर खालिद गिरफ्तार

उल्लेखनीय है कि साल 2017 में भूटान, भारत और चीन के ट्राइजंक्शन डोकलाम पर भी भारत और चीन के बीच विवाद हुआ था। ऐसे में चीन एक बार फिर यहां तनाव बढ़ाने की कोशिश में जुटा है। भारत ने इस संबंध में भूटान को जानकारी दे दी है और खुद भी हालात पर नजर बनाए हुए है।

 

Live Blog

Highlights

    21:28 (IST)15 Sep 2020
    भारत और चीन विवाद को लेकर संसद में चर्चा कराने की विपक्ष की मांग खारिज

    सरकार ने लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के सैनिकों के बीच गतिरोध के विषय पर संसद में चर्चा कराने की विपक्ष की मांग को मंगलवार को खारिज कर दिया। सूत्रों ने बताया कि लोकसभा की कार्य मंत्रणा समिति (बीएसी) में कांग्रेस नेताओं ने पूर्वी लद्दाख में चीन के सैनिकों के साथ भारतीय सैनिकों के गतिरोध पर चर्चा कराने की मांग उठाई थी। सूत्रों के अनुसार, सरकार की ओर से संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि मुद्दा संवेदनशील है और राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा है इसलिए इसे सार्वजनिक नहीं किया जा सकता।

    20:21 (IST)15 Sep 2020
    इंडोनेशियाई गश्ती जहाज ने आर्थिक क्षेत्र में चीन के जहाज का विरोध किया

    इंडोनेशिया के एक गश्ती जहाज ने उस चीनी तटरक्षक जहाज का विरोध किया जो लगभग तीन दिन से उस जलक्षेत्र में था जहां इंडोनेशिया आर्थिक अधिकारों का दावा करता है। यह क्षेत्र विवादित दक्षिण चीन सागर के चीन के दावों वाले क्षेत्र से दक्षिणी हिस्से के पास स्थित है। इंडोनेशियाई समुद्री सुरक्षा एजेंसी को चीन के जहाज 5204 के इंडोनेशियाई विशिष्ट आर्थिक क्षेत्र में प्रवेश करने के बारे में पता शुक्रवार रात में चला था जिसे इंडोनेशिया उत्तर नातुना जल क्षेत्र कहता है। इंडोनेशियाई समुद्री सुरक्षा एजेंसी के प्रमुख आन कुर्निया ने बताया कि एजेंसी ने एक गश्ती जहाज को चीनी तट रक्षक जहाज से एक किलोमीटर के दायरे में भेजा और दोनों पक्षों के बीच क्षेत्र में अपने-अपने देशों के दावों के बारे में संवाद किया गया।

    19:53 (IST)15 Sep 2020
    2016 से मार्च 2020 के दौरान चीन से एक अरब डालर FDI

    देश की 1,600 से भी अधिक भारतीय कंपनियों को अप्रैल 2016 से मार्च 2020 के दौरान चीन से एक अरब डालर का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) प्राप्त हुआ है। सरकारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है। यह आंकड़ा, मंगलवार को राज्यसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में दिया गया।

    18:49 (IST)15 Sep 2020
    शी जिनपिंग अपने आलोचकों के निशाने पर हैं

    चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग इन दिनों घरेलू मोर्चे पर घिरे हुए हैं। पहले अमेरिका के साथ हुई ट्रेड वॉर से चीन की अर्थव्यवस्था को झटका लगा। उसके बाद कोरोना वायरस और अपने कई फैसलों को लेकर शी जिनपिंग अपने आलोचकों के निशाने पर हैं। ऐसे में आशंका जतायी जा रही है कि शी जिनपिंग घरेलू स्तर पर हो रही आलोचना से बचने के लिए भारत पर युद्ध थोप सकते हैं। मुंबई स्थित जसलोक अस्पताल के न्यूरोसाइट्रिस्ट डॉ. राजेश एम पारिख का ऐसा मानना है।

    16:45 (IST)15 Sep 2020
    लद्दाख में तनाव के बीच सशस्त्र बल संप्रभुता व क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए मुस्तैद : राजनाथ

    लद्दाख के पूर्वी क्षेत्र में चीन की सेना के साथ गतिरोध के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को कहा कि वहां हम चुनौती का सामना कर रहे हैं लेकिन हमारे सशस्त्र बल देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता की रक्षा के लिए डटकर खड़े हैं। लोकसभा में पूर्वी लद्दाख की स्थिति पर दिये गये एक बयान में रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि इस सदन को प्रस्ताव पारित करना चाहिए कि यह सदन और सारा देश सशस्त्र बलों के साथ है जो देश की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता के लिए डटकर खडे़ हैं। रक्षा मंत्री ने कहा कि भारत, चीन के साथ सीमा पर गतिरोध को शांतिपूर्ण ढंग से हल करने को प्रतिबद्ध है। भारत ने चीन को अवगत कराया है कि भारत-चीन सीमा को जबरन बदलने का प्रयास अस्वीकार्य है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इस बात पर बल देना चाहूंगा कि भारत शातिपूर्ण बातचीत और परामर्श से सीमा मुद्दों को सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध है।

    15:37 (IST)15 Sep 2020
    लोकसभा में चीन मुद्दे पर राजनाथ सिंह ने दिया बयान, बोले- हर परिस्थिति से निपटने को तैयार

    चीन के साथ जारी सीमा विवाद पर आज रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बयान दिया। अपने बयान में राजनाथ सिंह ने कहा कि मैं सदन से अनुरोध करता हूं कि हमारे दिलेर सैनिकों की वीरता एवं बहादुरी की प्रशंसा करें और मेरा साथ दें। चीन ने एकतरफा सीमा की कोशिश की लेकिन हमने कूटनीतिक और सैन्य बातचीत के जरिए यह साफ कर दिया है कि हमें यह मंजूर नहीं है। चीन ने सीमा पर सैनिकों की तैनाती बढ़ायी है लेकिन हम भी हर परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार हैं।

    15:33 (IST)15 Sep 2020
    भूटान सीमा पर भी तनाव बढ़ने के आसार

    लद्दाख में चीन के साथ जारी तनाव के बीच भूटान सीमा पर भी तनाव बढ़ने की आशंका है। दरअसल चीन भूटान सीमा पर भी अपने सैनिकों की तैनाती बढ़ा रहा है। चीन भूटान की कई वर्ग किलोमीटर जमीन पर अपना दावा करता है। फिलहाल चीन भूटान सीमा पर सड़क और हेलीपैड का निर्माण करने में जुटा है। 

    15:01 (IST)15 Sep 2020
    चीन ने पोत से नौ उपग्रह कक्षा में सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किए

    चीन ने पीले सागर पर एक पोत से ठोस-प्रणोदक वाहक रॉकेट के जरिए अंतरिक्ष की कक्षा में नौ उपग्रह सफलतापूर्वक भेजे हैं। यह समुद्र आधारित दूसरा प्रक्षेपण मिशन है। चाइना डेली ने खबर दी है कि लॉंग मार्च -11 परिवार के 10वें सदस्य लॉंग मार्च 11एचवाई2 को सुबह नौ बजकर 22 मिनट पर देबो 3 से प्रक्षेपित किया गया। देबो 3 पोत का स्वाचालित ऊपरी हिस्सा है जिसमें मिशन के लिए बदलाव किया गया था। नौ उपग्रह जिलिन-1 गाओफे 03-1 समूह से संबंधित है। खबर में कहा गया है कि करीब 13 मिनट बाद, 535 किलोमीटर का सफर तय करने के पश्चात इसने नौ जिनिल 1 उच्च-रिज़ॉल्यूशन पृथ्वी-अवलोकन उपग्रह को सूर्य स्थैतिक कक्षा में स्थापित कर दिया। तीन उपग्रह वीडियो लेंगे तथा छह फोटो लेंगे। हर उपग्रह जिलिन प्रांत के चांगचुन के चांगगुआन सेटेलाइट टेक्नॉलोजी ने विकसित किया और प्रत्येक का वजन करीब 42 किलोग्राम है। खबर में कहा गया है कि ये कृषि, वन, भूमि संसाधन और पर्यावरण संरक्षण जैसे क्षेत्रों में उपयोगकर्ताओं को रिमोट-सेंसिंग सेवा मुहैया कराएगा।

    14:30 (IST)15 Sep 2020
    सीमा विवाद को लेकर दुनियाभर में घिरा चीन

    भारत चीन सीमा विवाद, हांगकांग, ताइवान और दक्षिणी चीन सागर के मुद्दे पर अपने आक्रामक रुख के चलते चीन दुनियाभर में घिर गया है। यही वजह यूरोप के दौरे पर गए चीन के विदेश मंत्री वांग यी इसे लेकर कुछ कड़े संदेश मिले हैं। ऐसे में चीन अब डैमेज कंट्रोल करने में जुट गया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सोमवार को जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से फोन पर बात की। इसके अलावा यूरोप के कई अन्य नेताओं से भी चीन के नेता ने बात की।

    13:47 (IST)15 Sep 2020
    SFF को लेकर बेहद नाराज है चीन

    चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच स्पेशल फ्रंटियर फोर्स हाल के दिनों में खासी चर्चा में है। दरअसल इस फोर्स में तिब्बत मूल के जवान भी शामिल किए गए हैं। यही वजह है कि चीन इस बात से खासा नाराज है। तिब्बत मामलों के जानकार और पूर्व रॉ अधिकारी अमिताभ माथुर ने रेडिफ डॉट कॉम के साथ बातचीत में यह बात कही है। 

    13:03 (IST)15 Sep 2020
    सीमा पर भारत के आक्रामक रुख से चीन भी हैरान

    मैग्जीन न्यूजवीक के अनुसार, भारत सीमा पर चीन को घुसपैठ का मौका नहीं दे रहा है। दोनों देश एक दूसरे पर समझौतों के उल्लंघन का आरोप लगा रहे हैं। सीमा पर भारतीय सैनिकों द्वारा आक्रामक रुख अपनाया हुआ है। जिससे खेल पलट गया है। चीन मामलों के जानकार जयदेव रानाडे का कहना है कि शी जिनपिंग को अब चीन में आलोचना झेलनी पड़ रही है और इससे पार पाने के लिए लद्दाख में विवाद बढ़ने की आशंका है।

    13:02 (IST)15 Sep 2020
    सीमा पर घुसपैठ कर घर गया है चीन, इज्जत बचाने के लिए कर सकता है आक्रामक कार्रवाई

    अमेरिकी मैग्जीन न्यूजवीक में लिखे एक लेख में बताया गया है कि भारतीय सीमा में घुसपैठ चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के इशारे पर की गई है और अब घुसपैठ की कोशिश विफल होने से शी जिनपिंग के भविष्य पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। लेख के अनुसार, इस घुसपैठ के पीछे शी जिनपिंग का दिमाग था लेकिन भारत के सीमा पर आक्रामक रुख से चीन को बड़ा झटका लगा है। हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार,  जानकारों का मानना है कि अपनी इज्जत बचाने के लिए चीन की तरफ से एलएसी पर आक्रामक कार्रवाई की जा सकती है।

    12:19 (IST)15 Sep 2020
    यूएन में भारत ने दी चीन को मात! ECOSOC का सदस्य बना भारत

    भारत ने यूनाइटेड नेशंस में चीन को पटखनी देते हुए इकोनॉमिक एंड सोशल कमीशन के स्टेटस ऑफ वूमेन कमीशन का सदस्य चुना गया है। चीन को इसके लिए सिर्फ 27 वोट मिले, जबकि भारत को 38 वोट मिले। 

    11:18 (IST)15 Sep 2020
    सीमा पर तनाव खत्म होने पर संशय बरकरार, लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत से हालात बेहतर होने की उम्मीद

    भारत और चीन के बीच बीते दिनों मॉस्को में विदेश मंत्री स्तर की बातचीत के बाद भी एलएसी पर हालात जस के तस बने हुए हैं। सीमा पर तनाव की स्थिति किस तरह से खत्म होगी, इसे लेकर फिलहाल कोई स्पष्ट खाका नजर नहीं आ रहा है। हालांकि सरकार का दावा है कि बातचीत के बाद सीमा पर शांति है और चीन की तरफ से सैनिकों की तैनाती में कोई बदलाव नहीं किया गया है। इस हफ्ते लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत होनी है, जिसे लेकर काफी उम्मीद जाहिर की जा रही है।

    11:11 (IST)15 Sep 2020
    सीमा विवाद को लेकर दुनियाभर में घिरा चीन, डैमेज कंट्रोल की कोशिश में जुटा

    भारत चीन सीमा विवाद, हांगकांग, ताइवान और दक्षिणी चीन सागर के मुद्दे पर अपने आक्रामक रुख के चलते चीन दुनियाभर में घिर गया है। यही वजह यूरोप के दौरे पर गए चीन के विदेश मंत्री वांग यी इसे लेकर कुछ कड़े संदेश मिले हैं। ऐसे में चीन अब डैमेज कंट्रोल करने में जुट गया है। चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने सोमवार को जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल से फोन पर बात की। इसके अलावा यूरोप के कई अन्य नेताओं से भी चीन के नेता ने बात की।

    10:55 (IST)15 Sep 2020
    बातचीत के लिए जल्दी नहीं कर रहा भारत, चीन में बेचैनी

    सीमा पर जारी तनाव के बीच बातचीत से स्थिति को सामान्य करने की कोशिश की जा रही है। हालांकि भारत की तरफ से इसे लेकर कोई जल्दी नहीं की जा रही है। दरअसल भारत, चीन के सामने मौजूदा स्थिति में खुद को कमजोर नहीं दिखाना चाहता। यही वजह है कि रक्षा मंत्री और विदेश मंत्री स्तर की बातचीत के बाद अब गेंद चीन के पाले में है।

    09:32 (IST)15 Sep 2020
    आज संसद में चीन मुद्दे पर बयान दे सकते हैं रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह

    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारत और चीनी सैनिकों के बीच जारी गतिरोध को लेकर मंगलवार को संसद में एक बयान दे सकते हैं। संसदीय सूत्रों ने यह जानकारी दी। पूर्वी लद्दाख के गतिरोध वाले बिंदुओं पर स्थिति में कुल मिलाकर कोई बदलाव नहीं है। सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने यह भी कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीनी सैनिक अपनी-अपनी जगह पर मजबूती से कायम हैं। संसद के मानसून सत्र में विपक्ष द्वारा इस मुद्दे पर चर्चा कराये जाने की मांग के बीच यह बयान काफी महत्व रखता है।  राजनाथ की हाल में मास्को में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगहे के साथ मुलाकात हुई थी। कुछ दिन पहले विदेश मंत्री जयशंकर की भी चीन के उनके समकक्ष वांग यी के साथ मुलाकात हुई थी।

    07:42 (IST)15 Sep 2020
    चीन द्वारा मुखबिरी किए जाने पर कांग्रेस ने सरकार पर साधा निशाना

    कांग्रेस ने चीन द्वारा भारत में प्रमुख पदों पर बैठे लोगों की कथित तौर पर जासूसी कराने से जुड़ी खबर को लेकर कहा कि साइबर क्षेत्र में चीन से निपटने के लिए सरकार को अपने प्रयास तेज करने चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह सवाल किया कि क्या सरकार को इस गंभीर मामले के बारे में पता था?  उन्होंने समाचार पत्र ‘इंडियन एक्सप्रेस’ की खबर साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘‘अगर यह सही है तो क्या मोदी सरकार को इस गंभीर मामले का पहले पता था? या भारत सरकार को पता ही नहीं चला की हमारी मुखबरी हो रही है?’’

    07:40 (IST)15 Sep 2020
    नेहरू वाली गलती दोहरा रहे हैं पीएम मोदी- चीनी मीडिया की टिप्पणी

    इससे पहले चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने एक विश्लेषक के हवाले से लिखा है कि भारत पंडित नेहरू द्वारा 1962 में की गई गलती को दोहरा रहा है। लेख के अनुसार, 1962 में भी भारत ने अंतरराष्ट्रीय माहौल का फायदा उठाने की कोशिश की थी। अब मोदी सरकार भी नेहरू की रणनीति पर काम कर रही है और चीन अमेरिका तनाव का फायदा उठाना चाहती है। एक अन्य चीनी विश्षलेषक किआंग फेंग का कहना है कि जयशंकर और वांग यी की मुलाकात के बाद गेंद भारत के पाले में है।

    07:40 (IST)15 Sep 2020
    चीन पर कोरोना वायरस को लेकर उसकी ही वैज्ञानिक ने लगाए गंभीर आरोप

    कोरोना वायरस माहमारी को लेकर चीन पर आरोप लगते रहे हैं। चीन पर आरोप है कि उसने इस वायरस को लेकर दुनिया से इसकी जानकारी छिपायी। अब चीन की एक वायरोलॉजिस्ट वैज्ञानिक डॉ. ली-मेंग ने दावा किया है कि कोरोना वायरस को सरकार के नियंत्रण वाली एक प्रयोगशाला में तैयार किया गया। उन्होंने कहा कि चीन की सरकार को वायरस के प्रसार के बारे में पहले से ही जानकारी थी।

    06:07 (IST)15 Sep 2020
    म्यांमार सरकार चीन के कर्ज के जाल में फंसने के प्रति हुई सतर्क

    चीन भारत को घेरने का प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में वह भारत के पड़ोसी देशों में खूब निवेश कर रहा है। इसी कड़ी में चीन म्यांमार में भी अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहा था लेकिन अब भारत के नजरिए से एक अच्छी खबर आयी है। दरअसल म्यांमार की सरकार और सेना अब चीन से दूर जाती दिखाई दे रही है। दरअसल म्यांमार सरकार चीन के कर्ज के जाल में फंसने को लेकर सतर्क है और चीन के कर्ज से बनने वाले कई प्रोजेक्ट की समीक्षा कर रही है।

    05:11 (IST)15 Sep 2020
    संसद में सांसद रवि किशन ने उठाया चीन से मादक पदार्थों की सप्लाई का मुद्दा

    भाजपा सांसद रवि किशन ने सदन में शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया और कहा कि पाकिस्तान एवं चीन से मादक पदार्थों की तस्करी हो रही है तथा यह देश की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने की साजिश है। उन्होंने कहा कि हमारे फिल्म उद्योग में इसकी पैठ हो चुकी है और एनसीबी इसकी जांच कर रही है। गोरखपुर से भाजपा सांसद ने कहा ‘‘ मेरी मांग है कि इस मामले में कड़ी कार्रवाई की जाए और चीन तथा पाकिस्तान की साजिश पर रोक लगाई जाए।’’

    04:41 (IST)15 Sep 2020
    पूरा देश हमारे वीर जवानों के साथ है: पीएम

    संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले मीडिया को दिये अपने बयान में मोदी ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा गतिरोध के स्पष्ट संदर्भ में कहा कि भारतीय सैनिक दु्र्गम पहाड़ी इलाकों में बहादुरी के साथ अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। आने वाले समय में तो अब वहां बर्फबारी भी होनी है। ऐसे में पूरा देश हमारे वीर जवानों के साथ है।

    03:19 (IST)15 Sep 2020
    कांग्रेस ने पूछा चीन को जवाब कब देंगे

    कांग्रेस ने चीन के साथ सीमा पर तनाव को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा कि चीन हमारी मातृभूमि पर अतिक्रमण कर हमारे वीर जवानों पर बर्बरता कर 20 जवानों को शहीद करता है। देश पूछ रहा है कि चीन को कड़ा जवाब कब दिया जायेगा?

    23:08 (IST)14 Sep 2020
    विदेश मंत्री जयशंकर और वांग यी के बीच बनी थी सहमति

    भारत और चीन के विदेश मंत्रियों एस जयशंकर और वांग यी के बीच पिछले बृहस्पतिवार को मास्को में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक के इतर हुई बातचीत में सीमा विवाद के समाधान के लिये एक सहमति बनी थी। इस समझौते में सैनिकों की तेजी से वापसी, तनाव और बढ़ाने वाली कार्रवाई से बचना, सीमा प्रबंधन पर सभी प्रोटोकॉल और समझौतों का पालन और एलएसी पर शांति बहाली के लिये कदम उठाने जैसे उपाय शामिल हैं।

    22:52 (IST)14 Sep 2020
    पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले बिंदुओं पर स्थिति में कुल मिलाकर बदलाव नहीं

    भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के सीमा पर लंबे समय से चल रहे गतिरोध के समाधान के लिये पांच सूत्रीय योजना पर सहमत होने के बावजूद पूर्वी लद्दाख के गतिरोध वाले बिंदुओं पर स्थिति में कुल मिलाकर कोई बदलाव नहीं है। सरकारी सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। सूत्रों ने यह भी कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत और चीनी सैनिक अपनी-अपनी जगह पर मजबूती से कायम हैं। उन्होंने कहा कि क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है और चीनी सैनिकों की तरफ से कोई नई हलचल नहीं दिखी है।

    22:31 (IST)14 Sep 2020
    दुर्गम इलाकों में डटे हैं हमारे जवानः पीएम मोदी

    संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले मीडिया को दिये अपने बयान में मोदी ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा गतिरोध के स्पष्ट संदर्भ में कहा कि भारतीय सैनिक दु्र्गम पहाड़ी इलाकों में बहादुरी के साथ अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। आने वाले समय में तो अब वहां बर्फबारी भी होनी है।

    21:55 (IST)14 Sep 2020
    राजनाथ भारत-चीन मुद्दे पर कल संसद में दे सकते हैं बयान

    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास भारत और चीनी सैनिकों के बीच जारी गतिरोध को लेकर मंगलवार को संसद में एक बयान दे सकते हैं। संसदीय सूत्रों ने यह जानकारी दी। विपक्ष द्वारा इस मुद्दे पर चर्चा कराये जाने की मांग के बीच यह बयान काफी महत्व रखता है। राजनाथ की हाल में मास्को में चीन के रक्षा मंत्री वेई फेंगहे के साथ मुलाकात हुई थी। कुछ दिन पहले विदेश मंत्री जयशंकर की भी चीन के उनके समकक्ष वांग यी के साथ मुलाकात हुई थी।

    21:04 (IST)14 Sep 2020
    चीन के साथ तनाव कम करने के लिए ईयू के शीर्ष नेताओं ने की चिनफिंग से बात

    जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल और यूरोपीय संघ के शीर्ष नेताओं ने चीन के साथ तनाव कम करने के उद्देश्य से सोमवार को चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ वार्ता की। इस दौरान व्यापार, निवेश समझौते पर चर्चा की गति तेज करने और संबंधों को नुकसान पहुंचा रहे राजनीतिक मुद्दों से निपटने के लिए विश्वास बहाली जैसे विषयों पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए प्रमुखता से बात हुई।

    20:35 (IST)14 Sep 2020
    चीन को कड़ा जवाब कब देंगे, कांग्रेस ने उठाया सवाल

    कांग्रेस ने चीन के साथ सीमा पर तनाव को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है। कांग्रेस ने कहा कि चीन हमारी मातृभूमि पर अतिक्रमण कर हमारे वीर जवानों पर बर्बरता कर 20 जवानों को शहीद करता है। देश पूछ रहा है कि चीन को कड़ा जवाब कब दिया जायेगा?

    20:04 (IST)14 Sep 2020
    ग्लोबल टाइम्स ने लगाया भारत पर उकसाने का आरोप

    जिनपिंग की सेना भारतीय जवानों को उकसाने का काम कर रही है, लेकिन चीन है जो 'उल्टा चोर कोतवाल को डांटे' वाली हरकत कर रहा है। चीनी सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने एक लेख में उल्टा भारत पर ही सीमा पर उकसाने का आरोप लगाया है। इसके साथ ही, चीन को भारत और अमेरिका की गाढ़ी दोस्ती भी रास नहीं आ रही है।

    19:28 (IST)14 Sep 2020
    संसद देश के वीर जवानों के पीछे खड़ी है, ऐसा करना संसद की विशेष जिम्मेदारी: मोदी

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को विश्वास जताया कि संसद एक स्वर में यह संदेश देगी कि वह हमारी सीमाओं की रक्षा करने वाले वीर सैनिकों के साथ एकजुटता से खड़ी है और ऐसा करना संसद की विशेष जिम्मेदारी भी है। संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले मीडिया को दिये अपने बयान में मोदी ने लद्दाख में चीन के साथ चल रहे सीमा गतिरोध के स्पष्ट संदर्भ में कहा कि भारतीय सैनिक दु्र्गम पहाड़ी इलाकों में बहादुरी के साथ अपना कर्तव्य निभा रहे हैं। आने वाले समय में तो अब वहां बर्फबारी भी होनी है।

    19:01 (IST)14 Sep 2020
    सरकार सामरिक हितों की सुरक्षा में बार-बार ‘विफल’ क्यों हो रही है?सुरजेवाला ने उठाए सवाल

    कांग्रेस ने चीन द्वारा भारत में प्रमुख पदों पर बैठे लोगों की कथित तौर पर जासूसी कराने से जुड़ी खबर को लेकर सोमवार को कहा कि साइबर क्षेत्र में चीन से निपटने के लिए सरकार को अपने प्रयास तेज करने चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने यह सवाल किया कि क्या सरकार को इस गंभीर मामले के बारे में पता था? सुरजेवाला ने यह सवाल भी किया कि भारत सरकार देश के सामरिक हितों की सुरक्षा करने में बार-बार ‘विफल’ क्यों हो रही है?

    18:30 (IST)14 Sep 2020
    पोम्पिओ के ट्वीट से चीन में अमेरिकी राजदूत के पद छोड़ने के संकेत

    अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ के सोमवार को किये गये ट्वीट के आधार पर ऐसे संकेत है कि चीन में अमेरिकी राजदूत टेरी ब्रान्स्टेड अपना पद छोड़ रहे हैं। पोम्पिओ ने तीन साल से अधिक समय तक सेवा के लिए ट्विटर पर राजदूत ब्रान्स्टेड को धन्यवाद दिया। हालांकि अमेरिकी विदेश विभाग से इसकी तत्काल पुष्टि नहीं हो सकी है। पोम्पिओ ने लिखा, ‘‘राजदूत ब्रान्स्टेड ने अमेरिका-चीन संबंधों को पुनर्जीवित करने में योगदान दिया है ताकि यह परिणामोन्मुखी, पारस्परिक और निष्पक्ष हो।’’

    18:00 (IST)14 Sep 2020
    संसद में उठा चीन, पाकिस्तान से मादक पदार्थों की तस्करी का मुद्दा

    भाजपा सांसद रवि किशन ने सदन में शून्यकाल के दौरान यह मुद्दा उठाया और कहा कि पाकिस्तान एवं चीन से मादक पदार्थों की तस्करी हो रही है तथा यह देश की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने की साजिश है। उन्होंने कहा कि हमारे फिल्म उद्योग में इसकी पैठ हो चुकी है और एनसीबी इसकी जांच कर रही है। गोरखपुर से भाजपा सांसद ने कहा ‘‘ मेरी मांग है कि इस मामले में कड़ी कार्रवाई की जाए और चीन तथा पाकिस्तान की साजिश पर रोक लगाई जाए।’’

    17:33 (IST)14 Sep 2020
    चीनी सेना ने अमेरिका को विश्व शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया

    चीन के रक्षा मंत्रालय ने अमेरिका को वैश्विक व्यवस्था और विश्व शांति के लिए सबसे बड़ा खतरा बताया है। चीन की यह टिप्पणी उसकी सैन्य महत्वाकांक्षा को लेकर आई अमेरिकी रिपोर्ट के जवाब में आई है। चीनी सैन्य घटनाक्रम एवं लक्ष्यों पर अमेरिकी रक्षा मंत्रालय की ओर से अमेरिकी कांग्रेस को वार्षिक तौर पर दी जाने वाली रिपोर्ट दो सितंबर को जारी गई थी। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि चीनी सेना के लक्ष्यों से अमेरिका के राष्ट्रीय हितों और अंतरराष्ट्रीय नियमों पर आधारित व्यवस्था की सुरक्षा के लिए गंभीर निहितार्थ होंगे।

    17:02 (IST)14 Sep 2020
    भारत के खिलाफ शी चिनफिंग का आक्रामक कदम ''अप्रत्याशित रूप से विफल'' रहा : रिपोर्ट

    भारत के खिलाफ चीनी सेना के आक्रामक कदमों के पीछे राष्ट्रपति शी चिनफिंग को जिम्मेदार ठहराते हुए अमेरिका की एक प्रमुख पत्रिका ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया कि चीनी राष्ट्रपति ने भारतीय सीमा क्षेत्र में घुसपैठ का प्रयास करके अपने भविष्य को जोखिम में डाल दिया है क्योंकि यह भारतीय सेना की कड़ी जवाबी कार्रवाई के बाद अप्रत्याशित रूप से विफल रहा।

    16:35 (IST)14 Sep 2020
    लोकसभा में अधीर रंजन ने भारत-चीन सीमा तनाव मुद्दा उठाये का किया प्रयास

    लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने भारत-चीन सीमा पर तनाव के मुद्दे को उठाने का प्रयास किया लेकिन लोकसभा अध्यक्ष ने उनसे इस विषय को कार्य मंत्रणा समिति (बीएसी) की बैठक में उठाने को कहा। लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि यह एक ‘‘संवेदनशील’’ मुद्दा है और इसे गंभीरता के साथ उठाया जाना चाहिए । इस विषय को बीएससी में रखें। चौधरी ने कहा, ‘‘ मैं सरकार और रक्षा मंत्री का ध्यान ऐसे मुद्दे की ओर दिलाना चाहता हूं जो कई महीनों से हमारे सामने है । देश के लोग सीमा की स्थिति को लेकर चिंतित हैं ।’’

    16:06 (IST)14 Sep 2020
    भारत से तनाव के बीच बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव के काम में तेजी लाना चाहता है चीन

    चीन ने पाकिस्तान में अपने राजदूत को बदल दिया है। चीन ने अब नोंग रोंग को पाकिस्तान में अपना नया राजदूत नियुक्ति किया है, जो कि याओ जिंग की जगह लेंगे। गौरतलब है कि नोंग रोंग के चीन के यूनाइटेड फ्रंट वर्क्स डिपार्टमेंट के साथ करीबी संबंध हैं। यूनाइटेड फ्रंट वर्क्स डिपार्टमेंट को ही चीन की महत्वकांक्षी बेल्ट एंड रोड इनीशिएटिव (बीआरआई) की जिम्मेदारी मिली है। ऐसे में नोंग रोंग की तैनाती से माना जा रहा है कि चीन पाकिस्तान में बीआरआई के तहत बनाए जा रहे सीपेक के काम में तेजी ला सकता है। इससे पहले चीन ने बांग्लादेश, श्रीलंका में भी जिन राजदूत की नियुक्ति की है, उनके भी यूनाइटेड फ्रंट वर्क्स डिपार्टमेंट के साथ करीबी संबंध रहे हैं।

    15:56 (IST)14 Sep 2020
    चीन ने पीएम मोदी के पॉलीटून पर जतायी नाराजगी

    चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स में एक लेख लिखा गया है, जिसमें पीएम मोदी के एक पॉलीटून को लेकर नाराजगी जाहिर की गई है। दरअसल यह पॉलीटून इंडिया टुडे के सो सॉरी प्रोग्राम का है, जिसमें पीएम मोदी हाथों में गन लिए चाइनीज एप्स को शूट करते नजर आ रहे हैं। चीन ने इसे लेकर नाराजगी जतायी है। 

    14:29 (IST)14 Sep 2020
    चीन की विस्तारवादी नीति को नजरअंदाज करना भारत को पड़ा भारी

    चीन के साथ भारत 1962 में युद्ध लड़ चुका है, जिसमें उसे हार का सामना करना पड़ा था। अब बीबीसी की एक रिपोर्ट में बताया गया है कि सीमा पर चीन की आक्रामक तैयारियों को तत्कालीन नेहरू सरकार ने नजरअंदाज किया था। इसका खामियाजा भारत को युद्ध के रूप में चुकाना पड़ा। चीन ने जब तिब्बत पर हमला कर उस पर अपना कब्जा कर लिया था, तब भी भारत ने चीन का समर्थन किया था। यही वजह रही कि चीन की विस्तारवादी नीति का अगला निशाना भारत बना।

    14:26 (IST)14 Sep 2020
    भारत की 10 हजार हस्तियों पर चीन की निगरानी क्यों है खतरनाक?

    चीन की एक टेक्नोलॉजी कंपनी द्वारा भारत के 10 हजार गणमान्य लोगों पर नजर रखना इसलिए अहम है क्योंकि यह संवेदनशील जानकारी के आधार पर देश के खिलाफ बड़ी साजिश रच सकता है। गौरतलब है कि चीन की इस कंपनी के चीनी सेना और वहां की सरकार के साथ भी संबंध हैं। माना जा रहा है कि चीन इस डेटा की मदद से हाइब्रिड वॉर कर सकता है, जिससे चीन बिना सेना की मदद से ही किसी देश में अपना प्रभुत्व जमा सकता है।

    12:42 (IST)14 Sep 2020
    इसी हफ्ते कम हो सकता है पैंगोंग में तनाव

    एलएसी पर तनाव घटाने के लिए भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बीच हुई बातचीत के बाद अब दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत होनी है। जिसमें पैंगोंग संकट के हल होने की संभावना जतायी जा रही है। हालांकि अभी तक इसकी तारीख तय नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि यह इसी हफ्ते हो सकती है।

    12:41 (IST)14 Sep 2020
    चीनी सरकार के नियंत्रण वाली कंपनी भारत के 10 हजार गणमान्य लोगों पर रख रही नजर

    चीन के साथ सीमा पर जारी तनाव के बीच एक अहम खुलासा हुआ है। दरअसल शेनजेन बेस्ड टेक्नोलॉजी कंपनी देश के 10 हजार से ज्यादा गणमान्य लोगों पर नजर रख रही है। जिन लोगों पर नजर रखी जा रही है, उनमें पीएम मोदी, देश के राष्ट्रपति, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी विभिन्न प्रदेशों के सीएम, सेना के पूर्व और मौजूदा जनरल, विभिन्न उद्योगपति आदि शामिल हैं। गौरतलब है कि यह कंपनी चीनी सरकार के नियंत्रण में आती है और चीन की सत्ताधारी कम्यूनिस्ट पार्टी से भी इसका संबंध है।

    11:09 (IST)14 Sep 2020
    हिंद महासागर में बढ़ेंगी चीन की मुश्किलें, अमेरिका-मालदीव में हुआ अहम समझौता

    हिंद महासागर में चीन की मुश्किलें बढ़ने जा रही हैं। दरअसल दक्षिणी चीन सागर की तरह ही हिंद महासागर में भी अपना दबदबा बढ़ाने की कोशिश कर रहा है। यहां भारत से उसे कड़ी चुनौती मिलेगी। वहीं अब अमेरिका ने भी मालदीव के साथ अहम समझौता करते हुए उसके एक द्वीप पर अपने बमवर्षक विमान तैनात करने की योजना बनायी है। इससे भारत की चुनौती से जूझ रहे चीन की परेशानियां और बढ़ सकती हैं।

    09:33 (IST)14 Sep 2020
    चीन के निवेश की समीक्षा कर रही भूटान सरकार

    चीन भारत को घेरने का प्रयास कर रहा है। इसी कड़ी में वह भारत के पड़ोसी देशों में खूब निवेश कर रहा है। इसी कड़ी में चीन म्यांमार में भी अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहा था लेकिन अब भारत के नजरिए से एक अच्छी खबर आयी है। दरअसल म्यांमार की सरकार और सेना अब चीन से दूर जाती दिखाई दे रही है। दरअसल म्यांमार सरकार चीन के कर्ज के जाल में फंसने को लेकर सतर्क है और चीन के कर्ज से बनने वाले कई प्रोजेक्ट की समीक्षा कर रही है।

    08:25 (IST)14 Sep 2020
    लद्दाख की गलवान घाटी में मारे गए थे 60 चीनी सैनिक

    बीती 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में हुई झड़प में चीन के 60 सैनिक मारे गए थे। अमेरिकी अखबार न्यूजवीक ने यह खुलासा किया है। बता दें कि चीन ने अभी तक अपने सैनिकों के मारे जाने की बात को स्वीकार नहीं किया है। अखबार में ये भी कहा गया है कि गलवान घाटी की हिंसा चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग के इशारे पर हुई थी, जिसमें पीएलए पूरी तरह से नाकाम रही।

    07:34 (IST)14 Sep 2020
    चीन से दूर हो रही म्यांमार की सेना, भारत के लिए मौका

    म्यांमार की सेना भी चीन से नाराज है। दरअसल चीन द्वारा म्यांमार के कई आतंकी गुटों को हथियार मुहैया कराए जाने का मामला सामने आया है। जिससे म्यांमार की सेना खासी नाराज है। इसके चलते म्यांमार की सेना ने अब चीन पर निर्भरता कम करने का फैसला किया है और हथियारों की सप्लाई के लिए भारत, रूस और इजरायल के साथ बातचीत शुरू की है।

    07:32 (IST)14 Sep 2020
    अगले हफ्ते से पैंगोंग में तनाव कम होने की उम्मीद

    एलएसी पर तनाव घटाने के लिए भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की बीच हुई बातचीत के बाद अब दोनों देशों के बीच लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत होनी है। जिसमें पैंगोंग संकट के हल होने की संभावना जतायी जा रही है। हालांकि अभी तक इसकी तारीख तय नहीं है लेकिन माना जा रहा है कि यह अगले हफ्ते हो सकती है।

    06:22 (IST)14 Sep 2020
    व्यावसायिक रूप से दुनिया में अलग-थलग पड़ा चीन

    व्यावसायिक रूप से चीन दुनिया में अलग-थलग पड़ चुका है। वित्त वर्ष 2020-21 के अप्रैल-जुलाई में भारत के कुल निर्यात में 30 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई, लेकिन चीन होने वाले निर्यात में इस अवधि में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 30.70 फीसदी की बढ़ोतरी रही है। वहीं इस साल अप्रैल-जुलाई में चीन से होने वाले आयात में पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 29.20 फीसद की गिरावट रही।

    Next Stories
    1 COVID-19 से ठीक होने वालों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय के प्रोटोकाल जारी, तंदुरुस्त रहने को दिए ये सुझाव
    2 दिल्ली में कोरोना के 4,235 नये मरीज सामने आए, लगातार 5वें दिन 4000 से अधिक मामले
    3 सात साल पहले बेंगलुरु से लापता हुए बिजनेस मैनेजमेंट ग्रेजुएट ने भारत से की लोगों की ISIS में भर्ती, आतंकियों की तरफ से लड़ने में हुई मौत
    ये पढ़ा क्या?
    X