ताज़ा खबर
 

चीन के साथ तनातनी के बीच भारतीय सेना को मिली स्पेशल पावर, 300 करोड़ रुपये तक के हथियार व गोलाबारूद खरीद सकेंगे

अधिकारियों ने बताया कि खरीद से संबंधित चीजों की संख्या को लेकर कोई सीमा नहीं है और आपात आवश्यकता श्रेणी के तहत प्रत्येक खरीद 300 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की नहीं होनी चाहिए।

India China, India China Border Dispute,लद्दाख में LAC पर तनातनी वाले जगह से भारत-चीन पूरी तरह से अपने सैनिक पीछे बुलाने को तैयार, 14 घंटे की सैन्य स्तर की मीटिंग में बनी थी सहमति। (फाइल फोटो)

रक्षा मंत्रालय ने पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध के मद्देनजर बुधवार को सेना के तीनों अंगों को 300 करोड़ रुपये तक की पूंजीगत खरीद का विशेष अधिकार प्रदान कर दिया जिससे कि उभरती आपात अभियानगत आवश्यकताओं को पूरा किया जा सके। अधिकारियों ने बताया कि खरीद से संबंधित चीजों की संख्या को लेकर कोई सीमा नहीं है और आपात आवश्यकता श्रेणी के तहत प्रत्येक खरीद 300 करोड़ रुपये से अधिक मूल्य की नहीं होनी चाहिए।

यह निर्णय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता वाली रक्षा खरीद परिषद (डीएसी) की बैठक में हुआ। रक्षा मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘‘डीएसी ने 300 करोड़ रुपये तक की तात्कालिक पूंजीगत खरीद से जुड़े मामलों को आगे बढ़ाने के लिए सशस्त्र बलों को अधिकार प्रदान कर दिए जिससे कि वे अपनी आपात अभियानगत जरूरतों को पूरा कर सकें।’’ इसने कहा कि इस निर्णय के बाद खरीद से जुड़ी समयसीमा कम हो जाएगी और इससे खरीद के लिए छह महीने के भीतर ऑर्डर देना तथा एक साल के भीतर संबंधित वस्तुओं की उपलब्धता की शुरुआत सुनिश्चित होगी।

मंत्रालय ने कहा कि उत्तरी सीमाओं पर मौजूदा सुरक्षा स्थिति तथा देश की सीमाओं की रक्षा के लिए सशस्त्र बलों की मजबूती की आवश्यकता के मद्देनजर डीएसी की विशेष बैठक हुई। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ गतिरोध के बीच सेना के तीनों अंगों ने पिछले कुछ सप्ताहों में कई तरह के सैन्य उपकरणों, अस्त्र-शस्त्रों और सैन्य प्रणालियों की खरीद शुरू कर दी है।

वहीं 14 घंटे की सैन्य स्तर की मीटिंग के बाद भारत-चीन पूरी तरह से अपने सैनिक पीछे बुलाने को तैयार हैं। रिपोर्ट के मुताबिक भारत और चीन अब पैंगोंग त्सो फिंगर 5 से चरण-वार विघटन शुरू करने के लिए सहमत हो गए हैं। इंडिया टुडे टीवी की रिपोर्ट के मुताबिक भारत चरणबद्ध तरीके से डिसइंगेजमेंट करेगा। सूत्रों ने कहा कि इस क्षेत्र में सैनिकों के हटाने के वार्ता के और भी और दौर होने की संभावना है। सूत्रों ने कहा कि सैन्य वार्ता “सकारात्मक दिशा” में बढ़ रही है।

(भाषा इनपुट के साथ )

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 चीन से तनातनी के बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार को लद्दाख का दौरा करेंगे, सेना प्रमुख भी होंगे साथ
2 ‘एक की स्थापना नेहरू ने की थी, दूसरे की राजीव गांधी ने’, CBSE Class 10th Result में बेहतर प्रदर्शन पर बोले लोग
3 Jammu-Kashmir: बारामूला में दिनदहाड़े भाजपा नेता व निगम समिति के उपाध्यक्ष का अपहरण, केंद्र से हस्तक्षेप की अपील
ये पढ़ा क्या?
X