ताज़ा खबर
 

Budget 2016: Income Tax में 4400 रुपए सालाना तक की राहत, PF से पैसा निकालने पर कटेगा टैक्‍स

वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने अपने तीसरे बजट में जो घोषणाएं की हैं, उनके जरिए लोगों पर 19 हजार करोड़ रुपए का ज्‍यादा टैक्‍स लगाया गया है।

Author नई दिल्‍ली | February 29, 2016 7:51 PM
29 फरवरी को बजट 2016 पेश करने के लिए जाते वित्त मंत्री अरुण जेटली।

वित्‍त मंत्री अरुण जेटली ने अपने तीसरे बजट में जो घोषणाएं की हैं, उनके जरिए लोगों पर 19 हजार करोड़ रुपए का ज्‍यादा टैक्‍स लगाया गया है। वित्‍त मंत्री का कहना है कि ज्‍यादातर टैक्‍स अमीर लोगों से वसूला जा रहा है। लेकिन जेटली के बजट में नौकरीपेशा लोगों को टैक्‍स से राहत दिलाने के लिए कुछ खास नहीं है। जो तीन घोषणाएं की गई हैं, उनसे छोटे करदाताओं को 4400 रुपए सालाना तक की बचत हो सकती है। पीएफ से पैसा निकालने पर 60 फीसदी रकम पर कर वसूलने की घोषणा कर वित्‍त मंत्री ने 4400 रुपए की मामूली राहत की खुशी भी कम कर दी।

1- 5 लाख रुपए तक सालाना आमदनी वालों को सेक्‍शन 87ए के तहत टैक्‍स रिबेट की सीमा दो हजार रुपए से बढ़ा कर पांच हजार रुपए कर दी गई है। वित्‍त मंत्री का कहना है कि इससे दो करोड़ करदाताओं की टैक्‍स लायबिलिटी 3000 रुपए तक कम होगी। यानी करीब 300 रुपए तक टैक्‍स बचा सकते हैं। यह राहत ऊंट के मुंह में जीरा बराबर भी नहीं है। पांच लाख रुपए तक सालाना आमदनी वालों के पास पहले से टैक्‍स बचाने के कई विकल्‍प थे। ढाई लाख रुपए तक वैसे ही टैक्‍स नहीं लगता। एचआरए और कुछ बचत स्‍कीम्‍स का फायदा उठा कर वे टैक्‍स देनदारी काफी कम कर लेते हैं।

2- किराये के मकान पर रहने वाले और एचआरए नहीं पाने वाले नौकरीपेशा लोगों की कर योग्‍य आय में कटौती की सीमा 24 हजार रुपए से बढ़ा कर 60 हजार रुपए सालाना कर दिया गया। सेक्‍शन 80 जीजी के तहत मिलने वाली इस छूट से से करीब 3600 रुपए तक की सालाना बचत हो सकती है।

(पढ़ें- बजट के चलते क्‍या-क्‍या होगा महंगा)

3- पहला घर खरीदने वाले को ब्‍याज की रकम में 50 हजार रुपए की अतिरिक्‍त कटौती का फायदा मिलेगा। पर इसके लिए शर्त यह है कि घर 50 लाख रुपए से कम का और लोन 35 लाख रुपए से अधिक का नहीं होना चाहिए। जो लोग इस प्रावधान का पूरा फायदा उठाएंगे उन्‍हें टैक्‍स में अधिकतक 500 रुपए की बचत होगी।

(वित्‍त मंत्री ने दीं ये अहम 15 सौगातें)

टैक्‍स छूट की सीमा नहीं बढ़ी और स्‍लैब भी जस का तस रहा: मौजूदा टैक्स स्लैब के हिसाब से 2.5 लाख रुपये तक की आय पर कोई टैक्स नहीं लगता है।  2.5 लाख रुपये से 5 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी पर 10 फीसदी की दर से टैक्स लगता है। वहीं 5 लाख रुपये से 10 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी पर 20 फीसदी की दर से टैक्स लगता है। 10 लाख रुपये से ज्यादा की सालाना आमदनी पर 30 फीसदी की दर से इनकम टैक्स लगाया जाता है। सीनियर सिटीजन को 3 लाख रुपये तक की सालाना आमदनी पर 10 फीसदी की दर से टैक्स देना होता है।

(बजट के सारे HIGHLIGHTS पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App