scorecardresearch

दुनिया भर में तेजस की बढ़ रही डिमांड, मलेशिया के साथ सौदा जारी; अमेरिका-ऑस्ट्रेलिया ने भी दिखाई रुचि

जनवरी 2021 में इंडियन एयरफोर्स ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड को 73 तेजस Mk1A लड़ाकू विमान और 10 LCA तेजस Mk1 ट्रेनर विमान के लिए 6.07 बिलियन डॉलर का अनुबंध दिया था।

tejas aircraft | India| malaysia
तेजस लड़ाकू विमान (Photo Source- HAL)

भारत ने मलेशिया को 18 हल्के लड़ाकू विमान तेजस (Tejas) बेचने की पेशकश की है। रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, मिस्र, संयुक्त राज्य अमेरिका, इंडोनेशिया और फिलीपींस ने भी सिंगल इंजन फाइटर जेट खरीदने में रुचि दिखाई है। वहीं, मलेशिया 18 ट्रेनर यानी FLIT-LCA खरीदना चाहता है।

भारत सरकार ने पिछले साल हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड को 83 स्वदेशी तेजस जेट के लिए 6 बिलियन डॉलर का कांट्रैक्ट दिया था, जिसकी डिलीवरी 2023 के आसपास शुरू की जानी है। भारतीय वायु सेना में शामिल स्‍वदेशी जेट विमान तेजस की वैश्विक स्तर पर चर्चा हो रही है। तेजस जहां दक्षिण-एशियाई देश मलेशिया की पहली पसंद बना हुआ है, वहीं अमेरिका सहित छह अन्य देशों ने भी तेजस में अपनी दिलचस्पी दिखाई है।

मलेशिया को तेजस बेचने की पेशकश: भारत और मलेशिया के बीच इस फाइटर जेट के सौदे को लेकर बातचीत का दौर जारी है। भारत ने मलेशिया को 18 हल्के-लड़ाकू विमान, तेजस बेचने की पेशकश की है। एलसीए तेजस की डील में मलेशिया में ही एक फैसिलिटी बनाई जाएगी जहां भारतीय इंजीनियर तेजस समेत रूसी सुखोई Su-30 फाइटर जेट की मरम्मत भी करेंगे।

विदेशी रक्षा उपकरणों पर निर्भरता घटाने की कोशिश: पीएम नरेंद्र मोदी की सरकार विदेशी रक्षा उपकरणों के लिए भारत की निर्भरता को घटाने की कोशिश कर रही है। इसके अलावा सरकार विमानों को निर्यात करने के लिए भी कोशिश कर रही है। यह जानकारी रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ने एक सवाल के जवाब में लिखित जानकारी में दी है। अजय भट्ट ने कहा, “18 फाइटर लीड इन ट्रेनर-लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट (FLIT-LCA) का अनुरोध मिला था, जिसके जवाब में HAL ने रॉयल मलेशियन एयरफोर्स को 18 फाइटर लीड इन ट्रेनर-लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट और LCA तेजस ट्विन- सीटर वेरिएंट ऑफर किए हैं।

मंत्री ने कहा था कि देश एक फाइटर जेट पर भी काम कर रहा है, लेकिन उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी चिंताओं को जाहिर करते हुए इसकी समय-सीमा बताने से इनकार किया था। वहीं, ब्रिटेन ने अप्रैल में कहा था कि वह भारत के अपने खुद के फाइटर जेट बनाने के लक्ष्य का समर्थन करता है। भारत के पास मौजूदा समय में रूसी, ब्रिटिश और फ्रांस के फाइटर जेट मौजूद हैं। लगातार हो रहे क्रैश को देखते हुए भारत 2025 तक अपने फाइटर जेट्स मिग-21 के इस्तेमाल को बंद करने की योजना बना रहा है।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

X