ताज़ा खबर
 

सामरिक सहयोग पर मुहर लगाई भारत व दक्षिण अफ्रीका ने

प्रधानमंत्री मोदी ने दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति रामफोसा से बातचीत के बाद कहा कि हमने हमारे द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की। हम दोनों इन संबंधों को नए स्तर पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

Author January 26, 2019 8:38 AM
दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (फोटो- पीटीआई)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारत यात्रा पर आए दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सिरिल रामफोसा ने शुक्रवार को रक्षा, सुरक्षा, कारोबार, निवेश, शिक्षा, विज्ञान व बहुस्तरीय मंचों पर आपसी सहयोग बढ़ाने को लेकर व्यापक चर्चा की। दोनों देशों ने अपने तीन वर्षीय सामरिक कार्यक्रम पर मुहर लगाई। इस बातचीत के बाद संयुक्त घोषणापत्र जारी किया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति रामफोसा से बातचीत के बाद कहा कि हमने हमारे द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर चर्चा की। हम दोनों इन संबंधों को नए स्तर पर ले जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दोनों पक्षों के बीच वार्ता में भारत व दक्षिण अफ्रीका ने तीन वर्षीय सामरिक कार्यक्रम पर मुहर लगाई। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि दोनों नेताओं ने रक्षा-सुरक्षा, निवेश-कारोबार, कौशल विकास, विज्ञान व प्रौद्योगिकी, शिक्षा, तकनीकी सहयोग व बहुस्तरीय मंचों पर सहयोग बढ़ाने को लेकर व्यापक चर्चा की।

संयुक्त बयान में मोदी ने कहा, ‘हमारे लिए बहुत हर्ष का विषय है कि भारत के अभिन्न मित्र, राष्ट्रपति रामफोसा आज हमारे बीच मौजूद हैं। उनके लिए भारत नया नहीं है, लेकिन राष्ट्रपति के रूप में यह उनकी पहली भारत यात्रा है। उनकी यात्रा हमारे संबंधों के एक विशेष मुकाम पर हो रही है।’ दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति रामफोसा ने कहा कि उनका देश तीन वर्षीय सामरिक आदान प्रदान कार्यक्रम के जरिए भारत के साथ अपने गठजोड़ को परिणामोन्मुखी बनाने को आशान्वित है।

इस सामारिक कार्यक्रम के तहत रक्षा, सुरक्षा, कारोबार, निवेश, समुद्री अर्थव्यवस्था, आइटी व कृषि क्षेत्र समेत विविध विषयों से जुड़े कार्यक्रम आएंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि इस वर्ष महात्मा गांधी की 150वीं वर्षगांठ है। पिछले वर्ष नेल्सन मंडेला जी की जन्म-शताब्दी का वर्ष था। और पिछले साल हमारे राजनयिक संबंधों की रजत-जयंती भी थी। मुझे बहुत प्रसन्नता है कि इस विशेष मुकाम पर राष्ट्रपति रामफोसा भारत आए हैं। और उनकी यह भारत यात्रा हमारे लिए और भी विशेष महत्व रखती है, क्योंकि वे भारत के गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होंगे।

मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति रामफोसा के साथ बातचीत में दोनों देशों ने अपने संबंधों के सभी आयामों की समीक्षा की। दोनों देशों के बीच व्यापार व निवेश के संबंध और अधिक प्रगाढ़ हो रहे हैं और द्विपक्षीय व्यापार 10 अरब डालर से भी अधिक है। उन्होंने कहा कि इस वर्ष वाइब्रेंट गुजरात में दक्षिण अफ्रीका ने सहयोगी देश के रूप में हिस्सा लिया है। दक्षिण अफ्रीका में निवेश बढ़ाने के राष्ट्रपति रामफोसा के प्रयासों में भारतीय कंपनियां बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। दक्षिण अफ्रीका के कौशल विकास प्रयासों में भी हम साझेदार हैं। प्रिटोरिया में शीघ्र ही गांधी-मंडेला कौशल संस्थान की स्थापना होने वाली है।

विश्व की 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने की राह पर भारत : मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि देश विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के राह पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने भारत-दक्षिण अफ्रीका कारोबार सम्मेलन में कहा कि भारत विश्व की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्था है और सरकार सुधारों को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। मोदी ने मेक इन इंडिया के जरिए घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने और डिजिटल इंडिया के जरिए अर्थव्यवस्था के डिजिटलीकरण समेत सरकार की विभिन्न योजनाओं का जिक्र किया। भारत 2,600 अरब डालर के साथ अमेरिका, चीन, जापान, जर्मनी और ब्रिटेन के बाद विश्व की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है। इससे पहले प्रधानमंत्री की आर्थिक सलाहकार परिषद (ईएसी-पीएम) की बैठक के बाद जारी विज्ञप्ति में कहा गया कि सरकार को अपने राजकोषीय अनुशासन के लक्ष्य से विचलित नहीं होने की सलाह दी। परिषद ने कहा कि हालांकि इस दौरान सामाजिक क्षेत्र में हस्तक्षेप पर लगातार जोर बना रहेगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App