ताज़ा खबर
 

भारतीय नौसेना में शामिल हुई INS कावारत्ती, पनडुब्बियों का पता लगाने और उनका पीछा करने में सक्षम

बताया गया है कि इस वॉरशिप ने अपने सभी सिस्टम के समुद्री ट्रायल पूरे कर लिए हैं, इसलिए इसे सीधे नौसेना में शामिल किया जा रहा है।

INS Kavaratti, Indian Navyआईएनएस कावारत्ती। (फोटो- Indian Navy)

एंटी-सबमरीन वॉरफेयर (ASW) शिप आईएनएस कावारत्ती गुरुवार को भारतीय नौसेना में शामिल किया गया। विशाखापत्तनम के नेवल डॉकयार्ड में आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने युद्धपोत को नौसेना में शामिल किया। इस पोत के कमीशन होने से पहले नौसेना ने ट्वीट कर कहा कि यह हमारी बढ़ती क्षमता को दिखाती है।

क्या हैं आईएनएस कावारत्ती की खासियत?:

1. आईएनएस कावारत्ती नेवी के प्रोजेक्ट-28 के तहत बना आखिरी एंटी-सबमरीन वॉरशिप है। यह कमोरता क्लास की कॉरवेट है, जो कि मौजूदा समय में नौसेना की सेवा में है। प्रोजेक्ट-28 को 2003 में मंजूरी मिली थी। इस प्रोजेक्ट के तहत पिछले तीन वॉरशिप आईएनएस कमोरता (2014), आईएनए कदमत (2016) और आईएनएस किलतन (2017) थे।

2. आईएनएस कावारत्ती की एक खास बात यह है कि भारत में बने इस पोत में 90 फीसदी मैटेरियल भारत की ही है। इस वॉरशिप में कार्बन कंपोजिट लगाए गए हैं, जिसे भारतीय शिप निर्माण में बड़ा कदम कहा जाता है। इस युद्धपोत का डिजाइन भी नौसेना के संस्थान- डायरेक्टोरेट ऑफ नेवल डिजाइन द्वारा किया गया है। वहीं, इसके निर्माण का काम कोलकाता गार्डन रिसर्च शिपबिल़्डर और इंजीनियर्स (GRSE) संस्थान ने किया है।

3. इतना ही नहीं इस युद्धपोत में सबमरीन का पता लगाने वाले आधुनिक सेंसर लगे हैं। इसके अलावा इसमें ऐसे हथियार भी हैं, जो सबमरीन को तबाह भी कर देते हैं। इसके अलावा इसे लंबी दूरी के ऑपरेशन के लिए भी तैनात किया जा सकता है। बताया गया है कि इस वॉरशिप ने अपने सभी सिस्टम के समुद्री ट्रायल पूरे कर लिए हैं। इसलिए इसे सीधे नौसेना में शामिल किया जा रहा है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 त्योहारों के मौके पर कोरोना से बचाव के लिए संस्कृति मंत्रालय ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या है जरूरी
2 भारत ने एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल नाग का किया सफल परीक्षण, डीआरडीओ के विकसित मिसाइल में जानें क्या है खासियतें
3 120 रुपये किलो तक पहुंचेगी प्याज की कीमत, महाराष्ट्र में बारिश से प्याज की फसल को भारी नुकसान
ये पढ़ा क्या?
X