ताज़ा खबर
 

BSP चीफ मायावती के पूर्व सेक्रेट्री नेतराम की 230 करोड़ की बेनामी संपत्ति IT विभाग ने की जब्त

अधिकारियों ने बताया कि आयकर विभाग ने नेत राम की 19 अचल संपत्तियां कुर्क की हैं।

Mayawati, Income Tax Department, Attach, Benami Assets, Retired IAS Officer, Net Ram, Secretary, Former Uttar Pradesh CM, Mayawati, State News, National News, Hindi Newsअधिकारियों ने बताया कि आयकर विभाग ने नेत राम की 19 अचल संपत्तियां कुर्क की हैं। (फाइल फोटो)

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो और उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के पूर्व सेक्रेट्री व सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी नेत राम की 230 करोड़ रुपए की ‘बेनामी’ संपत्तियां आयकर विभाग ने जब्त कर ली हैं। मंगलवार (24 सितंबर, 2019) को अधिकारियों ने बताया कि आयकर विभाग ने नेत राम की 19 अचल संपत्तियां जब्त की हैं।

अधिकारी के अनुसार, बेनामी संपत्ति लेन-देन निषेध कानून की धारा 24(तीन) के तहत विभाग की दिल्ली जांच इकाई ने नेत राम के खिलाफ जब्ती का अस्थाई आदेश जारी किया है। जब्त संपत्तियां वाणिज्यिक और रिहाइशी दोनों तरह की हैं।

बता दें कि बसपा सुप्रीमो मायावती के मुख्यमंत्री रहने के दौरान शीर्ष पदों पर रह चुके अधिकारी के ठिकानों पर पहली बार आयकर विभाग ने इस साल मार्च में छापा मारा था। विभाग ने इन छापों में 1.64 करोड़ रुपए कैश, 50 लाख रुपए की मो ब्लां कलम और पांच महंगी एसयूवी जब्त की थीं।

आईटी विभाग ने इसके साथ ही दावा किया था कि अधिकारी की 300 करोड़ रुपये की बेनामी संपत्ति से जुड़े कागजात बरामद किए थे। विभाग की दिल्ली इकाई ने बेनामी लेनदेन रोधी कानून के तहत मामले की जांच अपने हाथ में ले ली थी।

क्या होती है बेनामी संपत्ति?: यह कानून 1988 से निष्क्रिय था। मोदी सरकार ने नवंबर 2016 से इसे लागू किया है। बेनामी संपत्तियां वे हैं, जिनमें वास्तविक लाभार्थी वे नहीं होते जिनके नाम पर संपत्ति खरीदी गई हो। इस कानून का उल्लंघन करने वालों को सात साल तक कठोर कारावास की सजा हो सकती है और संपत्ति के उचित बाजार मूल्य का 25 प्रतिशत तक जुर्माना लगाया जा सकता है।

चुनाव की तैयारियों के जायजे को मायावती ने पर्यवेक्षकों को दिल्ली तलब कियाः मायावती ने विस चुनाव वाले राज्यों महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड के अलावा उत्तर प्रदेश में 11 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के मद्देनजर इन राज्यों के पर्यवेक्षकों की मंगलवार को बैठक कर चुनावी तैयारियों का जायजा लिया। राजस्थान में बसपा के सभी छह विधायक कांग्रेस में शामिल होने से नाराज मायावती ने रविवार को पार्टी की प्रदेश इकाई भंग करने के बाद मध्य प्रदेश और कर्नाटक सहित अन्य राज्यों में पार्टी की संगठनात्मक समीक्षा के लिये पर्यवेक्षकों के साथ अलग अलग बैठक की।

सूत्रों के अनुसार मायावती ने पार्टी के राज्यसभा सांसद वीर सिंह को महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव की तैयारियों की जिम्मेदारी सौंपी है। इस दौरान उन्होंने उत्तर प्रदेश में 11 सीटों पर उपचुनाव के मद्देनजर जलालपुर और गंगोह सीट पर उम्मीदवारों के नाम भी तय कर दिये हैं। सूत्रों ने बताया कि जलालपुर सीट से बसपा के वरिष्ठ नेता लालजी वर्मा की बेटी डा. छाया वर्मा और गंगोह सीट से इरशाद को उम्मीदवार बनाया गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘इस बार 2008 से भी बुरी मंदी’, हीरा कारोबारी सावजी ढोलकिया ने बताई अबकी दिवाली पर कार-फ्लैट न देने की वजह
2 Earthquake Today: भूकंप के झटकों से दहला पाकिस्तान, 19 मरे, 300 जख्मी, सड़कें टूटीं; पलटी कारें
3 मोदी की तारीफ के लिए मिलिंद देवड़ा से बेहद नाराज है कांग्रेस आलाकमान, हाल ही में दिया था पद से इस्तीफा!
IPL 2020 LIVE
X