चमोली हादसाः 110 किलोमीटर बहकर पूर्वजों के गांव पहुंच गया कॉन्स्टेबल का शव, भाई बोले- ऊपर वाले की कृपा

उत्तराखंड पुलिस के मुख्य प्रवक्ता नीलेश आनंद भरने ने कहा है कि मृतक पुलिसवालों के परिवारों को सरकार के नियमों के मुताबिक उचित मुआवजा दिया जाएगा।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र देहरादून | Updated: February 11, 2021 9:18 AM
Uttarakhand, Chamoli, Flash Floodsउत्तराखंड के चमोली में बाढ़ के बाद जारी है राहत-बचाव कार्य।(एक्सप्रेस फोटो- गजेंद्र यादव)

उत्तराखंड के चमोली में ग्लेशियर टूटकर गिरने से अचानक आई बाढ़ ने भारी तबाही मचाई है। यहां चल रहे कई पावर प्रोजेक्ट्स को भारी नुकसान पहुंचा है। इसके साथ ही इन प्रोजेक्ट्स की जगहों पर काम कर रहे 34 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 170 से ज्यादा लोग लापता हैं। इस बीच एक चौंकाने वाली घटना सामने आई है। ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट साइट पर तैनात पुलिस के हेड कॉन्स्टेबल मनोज चौधरी (42) रविवार को बाढ़ आने के बाद से ही लापता थे। अगले दिन उनका शव घटनास्थल से 110 किमी दूर एक घाट पर मिला, जो कि उनके पैतृक गांव में ही है।

पुलिस ने आशंका जताई कि पुलिस कॉन्स्टेबल का शव भारी बहाव की वजह से कर्णप्रयाग में अलकनंदा और पिंडार नदी के संगम तक बहकर आ गया। मनोज के बड़े भाई अनिल चौधरी ने इस घटना पर कहा, “इत्तेफाक है। मगर ये तो ऊपर वाले की कृपा रही कि उनका शव अपने पूर्वजों के घाट पर पहुंच कर रुक गया।” अनिल ने बताया कि यह घाट उनके पैतृक गांव कनौदी से काफी करीब है और उनके सभी पूर्वजों का अंतिम संस्कार यहीं किया गया है।

पुलिस ने मंगलवार को राजकीय सम्मान के साथ मनोज का अंतिम संस्कार किया। बताया गया है कि मनोज ने 20 साल पहले यूपी पुलिस जॉइन की थी। हालांकि, उत्तराखंड के अलग राज्य बनने के बाद उन्होंने पहाड़ी क्षेत्रों में ही सेवा देने का फैसला किया। इस साल मध्य जनवरी तक वे गोपेश्वर में पुलिस लाइन में तैनात थे। ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट में उनकी ड्यूटी हादसे से सिर्फ 15 दिन पहले ही लगी थी।

मनोज के बड़े भाई ने कहा, “हमें पुलिस का फोन आया कि ऋषि गंगा प्रोजेक्ट साइट से मनोज और एक अन्य पुलिसकर्मी लापता हैं। जब मैं घटनास्थल पर पहुंचा, तो उनके साथी ने बताया कि शव पानी की धार में बह गए हैं। इसके बाद मैं घर लौट आया। जब मुझे कर्णप्रयाग में मिले चार शवों की फोटो दिखी, तो उनमें एक मनोज का शव भी था।” अनिल के मुताबिक, वे उम्मीद करते हैं कि मनोज की पत्नी सीमा को सरकारी नौकरी मिल जाए।

देहरादून के रहने वाले कॉन्स्टेबल सुरेश भंडारी के मुताबिक, जिस दिन हादसा हुआ, वे मनोज और दो अन्य कॉन्स्टेबल- बलबीर सिंह गारिया (58) और कॉन्स्टेबल दीपराज के साथ ड्यूटी पर थे। उन्होंने बताया कि दीपराज और वे ऋषि गंगा साइट के मेन गेट पर ड्यूटी कर रहे थे, जबकि मनोज और बलबीर दूसरे कमरे में थे। भंडारी ने बताया कि इसी दौरान उन्होंने रैनी गांव से एक सीटी की आवाज सुनी और कुछ ही पलों में धूल का गुबार उनके सामने था। दीपराज और भंडारी ने इसके बाद सड़क की तरफ भागना शुरू किया। उन्होंने बलबीर और मनोज को भी आवाज लगाई, पर वे शायद फंस चुके थे।

कॉन्स्टेबल दीपराज का कहना है कि बलबीर का शव गेट के ही पास मिला, जिसका मतलब है कि उसने भागने की कोशिश की, पर ऊंची जगह नहीं पहुंच पाया। फिलहाल उत्तराखंड पुलिस के मुख्य प्रवक्ता नीलेश आनंद भरने ने कहा है कि मृतक पुलिसवालों के परिवारों को सरकार के नियमों के मुताबिक उचित मुआवजा दिया जाएगा।

Next Stories
1 सबसे बड़े कन्फ्यूजन में पीएम मोदी, डिबेट में बोले पवन खेड़ा- लाल बत्ती पर रुकना और ना रुकना ऑप्शनल होता है क्या?
2 लाइव डिबेट में पैनलिस्ट को जिनपिंग कहने लगे अर्नब गोस्वामी, गौरव भाटिया बोले- फूंक दिया तो उड़ जाओगे
3 देश में 66 हजार से ज्यादा लोग मैला ढोने को मजबूर, अकेले यूपी का आंकड़ा 37 हजार के पार- केंद्र ने राज्यसभा में बताया
यह पढ़ा क्या?
X