ताज़ा खबर
 

TMC समर्थक ने बीजेपी प्रवक्ता पर कसा तंज- बांग्ला आती नहीं तो कैसे समझेंगे ममता की बात, एंकर ने लगा दी क्लास

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने आरोप लगाया कि उनके विधायकों को बीजेपी कर्नाटक मॉडल पर खरीदने की कोशिश कर रही है और केंद्रीय एजेंसियां बीजेपी में शामिल होने के लिए डरा-धमका रही हैं।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी के समर्थक की एंकर ने क्लास लगा दी। (फोटो सोर्स: PTI)

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने जैसे ही कहा कि केंद्रीय एजेंसियां तृणमूल कांग्रेस (TMC) नेताओं और निर्वाचित प्रतिनिधियों को धमकी दे रही हैं कि यदि वे बीजेपी के संपर्क में नहीं आएंगे तो उन्हें चिटफंड घोटाला मामले में जेल भेज दिया जाएगा। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के इस आरोप ने सियासी पारा चढ़ा दिया है। इसी विषय पर टीवी डिबेट में टीएमसी समर्थक और बीजेपी समर्थक के बीच ऐसी कहासुनी हुई कि न्यूज चैनल की एंकर को भी इसमें कूदना पड़ गया और एंकर ने टीएमसी समर्थक के बयान को निशाना बनाते हुए उसकी खिंचाई कर डाली।

आजतक पर टीवी डिबेट में टीएमसी की तरफ से तौसीफ खान बीजेपी के समर्थक राजीव जेटली को जवाब दे रहे थे। उन्होंने कहा राजीव के तर्कों पर कहा, “आपको बंगाली नहीं आती हो कोई बात नहीं। लेकिन आप हिंदू-मुसलमान का नैरेटिव मत बनाइए। आप राजनीतिक मुद्दा उठाइए। आप लोग पैसे की पेटी के साथ बंद कमरे में बात करते हैं। आपके नेता बंगाल में आते हैं और इसे कंगाल कहते हैं। आपके नेता कहते हैं कि रवींद्र नाथ टैगोर का जन्म गलत जगह बताते हैं। आपको तो कुछ मालूम ही नहीं बंगाल के बारे में। आप बंगाल को अपमानित कर रहे हैं तो आप वोट कैसे मांग रहे हैं। टीएमसी समर्थक नेता इस बात को सुनते ही एंकर ने उन्हें निशाने पर ले लिया और कहा कि जिन्हें बंगाली नहीं आते क्या वे बंगाल का दर्द नहीं समझ सकते। एंकर ने कहा कि जब टीएमसी के नेता बिकने के लिए तैयार हैं तो दोष दूसरी पार्टी को क्यों दे रहे हैं।

गौरतलब है कि टीएमसी प्रमुख ने कोलकाता में “शहीद दिवस” रैली को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि भगवा पार्टी टीएमसी विदायकों को पैसे और दूसरे लाभों का लालच देकर ‘कर्नाटक का खरीद-फरोख्त मॉडल’ लागू करना चाहती है। ममता बनर्जी ने कहा कि पार्टी 26 जुलाई को राज्यव्यापी विरोध प्रदर्शन करेगी और बीजेपी द्वारा जुटाए गए काले धन को वापस करने की मांग करेगी। लोकसभा चुनाव के बाद अपनी पहली बड़ी रैली में बनर्जी ने कहा, ‘‘केंद्रीय एजेंसियां चिटफंड घोटाले से संबंधित मामलों को लेकर हमारे नेताओं और निर्वाचित प्रतिनिधियों को धमकी दे रही हैं तथा उनसे भाजपा के संपर्क में रहने या फिर जेल का सामना करने को कह रही हैं।’’

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कर्नाटक संकट: 10 दिनों में सुप्रीम कोर्ट में तीसरी याचिका, दो निर्दलीय MLA की मांग- ‘कल कराया जाए बहुमत परीक्षण’
2 मॉब लिंचिंग से बचने के लिए मुस्लिम धर्मगुरू दिलवाएंगे लोगों को हथियार, ट्रेनिंग कैम्प का भी ऐलान
3 VIDEO: 750KM दूरी पर चंद्रयान-2 भेजने की गहमागहमी, इधर कपड़े की डोली में कंधे पर टांग 6KM दूर अस्पताल पहुंची गर्भवती, विकास की दो विचित्र तस्वीरें