ताज़ा खबर
 

राफेल केस में जब सुषमा स्वराज ने न दिया था इस्तीफा फिर देशमुख से क्यों मांग कर रही है BJP?- पूछने लगे पैनलिस्ट

एंकर मानक गुप्ता ने तहसीन पूनावाला से पूछा था कि बीजेपी का सवाल है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन क्यों नहीं लगा दिया जाए?

Sushma Swaraj,BJP,Tehseen Poonawallaतहसीन पूनावाला (फोटो सोर्स -Twitter @tehseenp)

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग को लेकर राजनीति गर्म है। पक्ष और विपक्ष की तरफ से लगातार एक के बाद एक दावे किये जा रहे हैं। न्यूज 24 आयोजित एक शो में राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला ने कहा कि राफेल केस में जब सुषमा स्वराज का नाम सामने आया तो क्या उन्होंने इस्तीफा दिया था? जब उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया तो फिर बीजेपी वाले अनिल देशमुख से क्यों त्यागपत्र मांग रहे हैं।

एंकर मानक गुप्ता ने तहसीन पूनावाला से पूछा था कि बीजेपी का सवाल है कि महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन क्यों नहीं लगा दिया जाए? जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि जब अमित शाह पर डीजी बंजारा ने आरोप लगाया था तब क्या उन्होंने इस्तीफा दिया था? क्या नरेंद्र मोदी जी ने राफेल पर लगे आरोप के बाद इस्तीफा दिया था? योगी आदित्यनाथ पर दंगे के आरोप लगे थे उन्होंने इस्तीफा दिया था? कई आरोप लगे शिवराज सिंह चौहान पर व्यापम के आरोप लगे। सुषमा स्वराज पर ललित मोदी के आरोप लगे थे क्या उन्होंने इस्तीफा दिया था?

तहसीन पूनावाला ने कहा कि फिर अपेक्षा यहां पर क्यों की जा रही है? उन्होंने कहा कि मैं एक बात साफ कर दूं कि कोई भी इस्तीफा नहीं होगा। जिसे जो भी मुद्दा चलाना है वो चलाते रहे। साथ ही उन्होने कहा कि अब मामला अदालत में है इस कारण मैं बहस में नहीं जाऊंगा कि क्या हुआ क्यों हुआ?

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह ने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे और अन्य पुलिस अधिकारियों को प्रतिमाह सौ करोड़ रुपये की उगाही करने का निर्देश दिया था।

पत्र के सामने आने के बाद से विपक्षी दलों की तरफ से अनिल देशमुख से इस्तीफे की मांग की जा रही है। हालांकि रांकपा नेता नवाब मलिक ने कहा है कि इस्तीफा देने का कोई सवाल ही नहीं है।

Next Stories
1 शहीद दिवस पर बीजेपी सांसद गौतम गंभीर का तंज भरा ट्वीट- याद रहे आज़ादी सिर्फ़ घूमते चरखों ने नहीं, फांसी पर झूलते दीवानों ने भी दिलवाई है!
2 UGC द्वारा ड्राफ्ट किए गए इतिहास के नए सिलेबस पर उठे सवाल, भगवाकरण के लगे आरोप
3 उत्तराखंड में मंदिर सरकार के अधीन, पर तमिलनाडु के चुनावी घोषणापत्र में बोली भाजपा- सरकारी नियंत्रण से मुक्त कराएंगे धार्मिक स्थल
ये पढ़ा क्या?
X