भारत ने क्या दिया? पैनलिस्ट के सवाल पर भड़के संबित पात्रा, बोले- मोदी जी ने ट्वीट नहीं किया तो सांस क्यों ले रहो हो

तस्लीम रहमानी के बाद शोएब जमाई को जवाब देते हुए पात्रा ने कहा कि आप भी याद रख लीजिए। सीएए में कोई संशोधन नहीं होगा। शोएब जमाई ने कहा कि फिर आप अफगानिस्तान से आए लोगों पर क्यों सहानुभूति दिखा रहे हैं?

Taliban, Pakistan
भाजपा नेता संबित पात्रा। (फोटो सोर्स – पीटीआई)

न्यूज 18 इंडिया के आर-पार शो में तालिबान के मुद्दे पर चल रहे बहस के दौरान भारतीय जनता पार्टी के प्रवक्ता संबित पात्रा भड़क गए। शो के दौरान पैनलिस्ट एमपीसीआई के अध्यक्ष तस्लीम रहमानी ने लोगों से सवाल कर दिया कि भारत ने क्या दिया? पात्रा ने कहा कि इतना जहर है इनके अंदर?

संबित पात्रा ने कहा कि रहमानी साहब ने हमारे भाई-बहनों से सवाल किया कि भारत ने क्या दिया?आप लोग सोचिए खाते ये इस देश का है फिर भी इस देश के विरोध में इतना जहर हैं इनके अंदर। हमारी बहन ने जवाब दे दिया कि भारत ने सुरक्षा दिया है, लोकतंत्र दिया है। जब रहमानी ने उन्हें रोकने का प्रयास किया तो उन्होंने कहा कि मैं बोलूंगा। आपने जो सवाल पूछा है वो गलत है।

तस्लीम रहमानी के बाद शोएब जमाई को जवाब देते हुए पात्रा ने कहा कि आप भी याद रख लीजिए। सीएए में कोई संशोधन नहीं होगा। शोएब जमाई ने कहा कि फिर आप अफगानिस्तान से आए लोगों पर क्यों सहानुभूति दिखा रहे हैं? पात्रा ने कहा कि ये हमारे सम्मानजनक रिफ्यूजी हैं। पात्रा ने कहा कि आप मुझे बताइए कि तालिबान महिलाओं पर जुल्म करती है या नहीं? शोएब जमाई ने कहा कि भारत सरकार तालिबान को आतंकी मानती है या नही?

संबित पात्रा ने कहा कि इनका सवाल है कि मोदी जी ने ट्वीट क्यों नहीं किया? मोदी जी करेंगे तो भी इन्हें दिक्कत है। नहीं करेंगे फिर भी दिक्कत है। मोदी जी ने तो ये भी नहीं कहा कि आप सांस लो, ये सांस क्यों ले रहे हैं? बताते चलें कि विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने शुक्रवार को कहा कि भारत और अमेरिका, अफगानिस्तान में पाकिस्तान के कदमों पर करीबी नजर रख रहे हैं। श्रृंगला ने कहा कि भारत की तालिबान के साथ सीमित बातचीत रही है, अफगानिस्तान के नए शासकों ने संकेत दिया है कि वे भारत की चिंताओं को दूर करने के लिए व्यावहारिक दृष्टिकोण अपनाएंगे।

विदेश सचिव ने वाशिंगटन की अपनी तीन दिवसीय यात्रा समाप्त होने पर भारतीय पत्रकारों के एक समूह से कहा, ‘‘जाहिर तौर पर हमारी तरह वे भी करीब से नजर रख रहे हैं और हमें बारीकी से पाकिस्तान के कदमों पर नजर रखनी होगी।’’ उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में किस प्रकार के हालात बनते हैं, इस संदर्भ में अमेरिका इंतजार करो और देखो की नीति अपनाएगा। भारत की भी यही नीति है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।