ताज़ा खबर
 

छोटा राजन ने दी थी पत्रकार जे डे की हत्या की सुपारी? ‘करीबी से फोन पर कहा था- वो दाऊद से मिला हुआ है’

पत्रकार जे डे की 11 जून 2011 को मुंबई के पवई में कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन (फाइल फोटो)

पत्रकार ज्योतिर्मय डे (जे डे) की हत्या मामले में सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि जे डे को गैंगेस्टर छोटा राजन ने ही मरवाया था और उसने ये बात अपने करीबी से बातचीत में स्वीकार भी की थी। छोटा राजन ने अपने करीबी से बातचीत में कथित तौर पर ये माना कि जे डे की राजन के दुश्मन दाऊद इब्राहिम से नजदीकी बढ़ रही थी इसलिए उनसे उसकी हत्या का कदम उठाया। राजन ने कथित बातचीत में जे डे के बारे में कहा, “उसने हद पार कर दी थी।” छोटा राजन जे डे की हत्या मामले में मुख्य आरोपी है।  जे डे की 11 जून 2011 को मुंबई के पवई में कुछ अज्ञात लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

बुधवार (24 मई) को मुंबई की एक अदालत में चल रही सुनवाई के दौरान सरकारी वकील प्रदीप घरट ने छोटा राजन और उसके करीबी मनोज शिवदासनी के बीच हुई बातचीत का ऑडियो पेश किया। मनोज शिवदासनी जे डे हत्या के एक अन्य आरोपी विनोद चेंबुर का मित्र है। विनोद चेंबुर की मौत हो चुकी है। सरकारी वकील प्रदीप घरट ने मनोज शिवदासनी को विशेष अदालत में पेश किया। प्रदीप घरट के अनुसार शिवदासनी ने माना कि अदालत में पेश किए गए ऑडियो टेप में सुनाई दे रही आवाजें उसकी और छोटा राजन की हैं।

HOT DEALS
  • Honor 7X Blue 64GB memory
    ₹ 16010 MRP ₹ 16999 -6%
    ₹0 Cashback
  • Honor 9 Lite 64GB Glacier Grey
    ₹ 13989 MRP ₹ 16999 -18%
    ₹2000 Cashback

रेडिफ डॉट कॉम की रिपोर्ट के  अनुसार छोटा राजन ने कथित बातचीत के एक ऑडियो में जे डे को गाली देते हुए कहा है, “वो दाऊद से मिला हुआ है।” राजन ने कथित तौर पर कहा कि “डे हद पार कर चुका है।” बातचीत में जे डे मामले में गिरफ्तार किए गए पत्रकार जिगना वोरा का भी नाम लिया गया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार जे डे की हत्या के एक दिन पहले जिगना ने छोटा राजन को 36 बार फोन किया था।

छोटा राजन और मनोज शिवदासनी के बीच की कथित बातचीत जे डे की हत्या के बाद की है। पिछले साल 31 अगस्त को अदालत ने छोटा राजन के खिलाफ आरोप तय किए थे। सीबीआई द्वारा अदालत में दायर की गई पूरक चार्जशीट के अनुसार छोटा राजन जे डे द्वारा छापी गई कुछ खबरों से नाराज था। चार्जशीट के अनुसार छोटा राजन को ये बुरा लगा कि जे डे ने उसे कथित तौर पर “चिंदी” माफिया बताया था। सीबीआई के अनुसार जे डे “चिंदी- रैग्स टू रीचेज” शीर्षक से किताब लिखने वाले थे जिसमें साधारण परिवार से आने वाले 20 बदमाशों के बारे में वो लिखने वाले थे। जे डे मुंबई के अखबर मिड डे में खोजी रपट विभाग के संपादक थे।

छोटा राजन को इंडोनेसिया के बाली एयरपोर्ट पर 25 अक्टूबर 2015 को गिरफ्तार किया गया था। उसे बाद में भारत लाया गया। छोटा राजन पहले दाऊद इब्राहिम के साथ मिलकर काम करता था। माना जाता है कि दाऊद द्वारा कराए गए मुंबई बम धमाकों के बाद दोनों में खटास आ गई।

वीडियो- भारत के डोजियर पर कारवाई, UAE में दाऊद की 15 हजार करोड़ की संपत्ति जब्त

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App