ताज़ा खबर
 

काशी का जिक्र कर मंच से बोले थे लालू- समझ लीजिएगा, उल्टा-पुल्टा मत छाप दीजिएगा; मुस्कुराने लगे थे प्रभु चावला

शनिवार को रांची की एक अदालत ने लालू प्रसाद को चारा घोटाले के दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में जमानत दे दी।

India Today, Lalu Prasad, RJDराजद प्रमुख लालू प्रसाद (सोर्स – एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद एक अच्छे वक्ता रहे हैं। लेकिन कई बार उनकी मीडिया से शिकायत रहती है कि उनकी बातों को गलत तरीके से छापा जाता है। एक बार इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में काशी को लेकर लालू यादव ने एक बात कही साथ ही उन्होंने इंडिया टूडे के पत्रकार प्रभु चावला से कहा कि जो कह रहा हूं उसे समझ लीजिएगा उल्टा-पुल्टा मत छाप दीजिएगा।

लालू प्रसाद ने कहा था कि काशी नगरी में जब देश भर से लोग आते हैं तो उनके साथ उनका कुत्ता भी चला आता है। इसके बाद काशी में डॉग कॉन्फ्रेंन्स होता था। इसमें देखा जाता था कि कौन कुत्ता किसको कितना काट सकता है। जब उस कॉन्फ्रेंन्स से निकल कर जो लौट गया फिर उसको कोई हाथ लगाने वाला नहीं है। इसी बीच उन्होंने प्रभु चावला से कहा कि सही से समझ लीजिए उल्टा उल्टा-पुल्टा मत छाप दीजिएगा।लालू प्रसाद की बात को सुनकर प्रभु चावला मुस्कुराने लगे थे।

दिल्ली शहर को लेकर बोलते हुए लालू प्रसाद ने कहा था कि इस शहर में अच्छे लोग भी रहते हैं लेकिन विश्व भर के विचित्र-विचित्र लोग यहां वास करते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि प्रभु चावला से मेरी लड़ाई होती रही है लेकिन हमलोग इन्हें बड़े भाई के रूप में देखते हैं। जेपी आंदोलन में हमलोग साथ मिलकर आंदोलन कर रहे थे।

लालू प्रसाद ने इस कार्यक्रम में कहा था कि भारत –की जो धरती है वो एक इंसान को जिंदगी जीने के लिए जिसकी जरूरत होती है वो समान देती है। लेकिन लालच का कोई इंतजाम नहीं है। आज जो भी समस्या है उसके जड़ में है कि हर आदमी ज्यादा से ज्यादा पैसा कमाना चाहता है।

गौरतलब है कि शनिवार को रांची की एक अदालत ने लालू प्रसाद को चारा घोटाले के दुमका कोषागार से अवैध निकासी के मामले में जमानत दे दी है। इसके साथ ही लालू प्रसाद 40 महीने बाद जेल से बाहर आ जाएंगे। फिलहाल वो अस्वस्थ हैं और दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा है।

Next Stories
1 मैं कभी इन विषयों में जाता नहीं, पर जब मेरे मुंह में अंगुली डाल रहे हो, तो कहना पड़ रहा है- जब मोदी ने दिग्विजय को दिया था जवाब, हंसने लगे थे फारूख अब्दुल्ला
2 मैं डिबेट को लाइन में लाने वाला आदमी हूं- बोले अर्णब, पैनलिस्ट ने टोका- आप हमें लाकर तमाशा बना रहे हैं
3 कोरोना और चुनाव: नरेंद्र मोदी ने चुनावी सभा में जुटने के लिए की भीड़ की तारीफ, सुबह की थी कुंभ को प्रतीकात्मक रखने की अपील
यह पढ़ा क्या?
X