ताज़ा खबर
 

विशेष: बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, गुजरात और तेलंगाना में जांच कम

उत्तर प्रदेश में अब तक 26,23,260 जांच हो चुकी हैं जिनमें से सिर्फ 3.7 फीसद लोग ही संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 11,240.4 जांच हो चुकी हैं।

कोरोना की जांच में और तेजी लाने का आह्वान।

देश में कोरोना विषाणु संक्रमण के 80 फीसद सक्रिय मामले सिर्फ दस राज्यों में हैं और इन राज्यों से ही 81 फीसद मौतें भी दर्ज की गई हैं। इन राज्यों में आंध्र प्रदेश, कर्नाटक, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब, बिहार, गुजरात, तेलंगाना और उत्तर प्रदेश शामिल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को इन राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत के दौरान अधिक जांच पर जोर दिया। बिहार, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, गुजरात और तेलंगाना प्रति दस लाख जनंसख्या पर कम जांच कर रहे हैं। इन राज्यों में 5000 से लेकर 12,900 जांच प्रति दस लाख हो रही हैं। तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश प्रति दस लाख जनसंख्या पर सबसे ज्यादा जांच कर रहे हैं।

देश में सबसे अधिक संक्रमण के सक्रिय मामले महाराष्ट्र में हैं। महाराष्ट्र में 23,01,514 जांच हुई हैं जिनमें से 19.9 फीसद संक्रमित पाए गए हैं। इस राज्य में 18,876.5 जांच प्रति दस लाख जनसंख्या पर हुई हैं। राज्य में प्रतिदिन प्रति दस लाख पर 506 जांच हो रही हैं जो राष्ट्रीय औसत 506 जांच प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या से थोड़ा कम है। तमिलनाडु में 28,37,273 जांच हुई हैं जिनमें से 9.3 फीसद लोग संक्रमित मिले हैं। राज्य में प्रति दस लाख जनसंख्या पर 36,762.6 जांच हो रही हैं। तमिलनाडु में प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या पर 874 जांच हो रही हैं।

आंध्र प्रदेश में 21,10,923 जांच हो चुकी हैं जिनमें से 7.9 फीसद लोग संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 39,537.2 जांच की गई हैं। हालांकि आंध्र प्रदेश में राष्ट्रीय औसत से कम प्रतिदिन प्रति दस लाख जांच हो रही हैं। कर्नाटक में कोरोना विषाण्ुा संक्रमण की 14,46,558 जांच हो चुकी हैं जिनमें से 9.6 फीसद लोग संक्रमित पाए गए हैं। यहां 21,644 प्रति दस लाख जांच हो चुकी हैं। कर्नाटक में 638 जांच प्रतिदिन प्रति दस लाख हो रही हैं।

उत्तर प्रदेश में अब तक 26,23,260 जांच हो चुकी हैं जिनमें से सिर्फ 3.7 फीसद लोग ही संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 11,240.4 जांच हो चुकी हैं। उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या पर 398 जांच हो रही हैं। बिहार में संक्रमण का पता लगाने के लिए अब तक 6,48,939 जांच हुई हैं जिनमें से 9.2 फीसद लोग संक्रमित मिले हैं। प्रदेश में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 5,308 जांच हुई हैं। बिहार प्रतिदिन प्रति दस लाख जन संख्या पर 519 जांच कर रहा है।

पश्चिम बंगाल में अब तक 956659 जांच हुई हैं जिनमें से 8.2 फीसद लोग संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 9696.3 जांच हो रही हैं। पश्चिम बंगाल में प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या पर 256 जांच हो रही हैं। तेलंगाना में कोरोना विषाण्ुा संक्रमण की अब तक 5,01,025 जांच हो चुकी हैं जिनमें से 13.8 फीसद लोग संक्रमित मिले हैं। राज्य में अब तक प्रति दस लाख जनसंख्या पर 12,873.5 जांच हो चुकी हैं। तेलंगाना में प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या पर 337 जांच हो रही हैं।

गुजरात में अब तक 8,33,350 जांच हो चुकी हैं जिनमें से 7.8 फीसद लोग संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में प्रति दस लाख की जनसंख्या पर अब तक 12,860 जांच हो चुकी हैं। गुजरात में प्रतिदिन प्रति दस लाख जनसंख्या पर 389 जांच हो रही हैं।
पंजाब में कोरोना विषाण्ुा संक्रमण की अब तक 6,03,912 जांच हो चुकी हैं जिनमें से 3.1 फीसद लोग ही संक्रमित पाए गए हैं। राज्य में प्रति दस लाख जनसंख्या पर अब तक 20,214.3 जांच हुई हैं। पंजाब में प्रतिदिन प्रति दस लाख 395 जांच हो रही हैं।

जिन राज्यों में संक्रमण की दर दस फीसद से अधिक है। हम उन राज्यों को लगातार जांच की संख्या बढ़ाने का परामर्श देते हैं। इसके साथ ही यह उनसे य२ह कहा जाता है कि संक्रमण की दर को पहले दस फीसद और धीरे-धीरे उसे पांच फीसद पर लाना चाहिए। जब तक यह लक्ष्य प्राप्त नहीं हो जाता है, तब तक जांच की संख्या में कमी नहीं करनी चाहिए।
– राजेश भूषण, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 1000 करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग रैकेट का भंडाफोड़, हवाला लेनदेन में चीनी नागरिक लिप्त; कई ठिकानों पर रेड
2 लगेगी आग, तो जद में आएंगे घर कई- CAA, NRC के खिलाफ जब राहत इंदौरी ने पढ़ा था शेर, ओवैसी ने किया शेयर
3 फिर नई करवट ले सकते हैं शाह फैसल, बोले- सियासत में एंट्री के बाद फायदे की जगह हुआ नुकसान
ये पढ़ा क्या?
X