ताज़ा खबर
 

जामा मस्जिद के इमाम बुखारी ने अरनब गोस्वामी को भेजा लीगल नोटिस, कहा-बिना शर्त माफी मांगें, जानिए क्यों?

इमाम बुखारी ने चैनल के मालिक को भी नोटिस भेजा और मांग की है कि 15 दिनों के अंदर चैनल के वेबसाइट से ये स्टोरी हटाई जाए।

इमाम बुखारी ने कहा है कि उनके सम्मान को चोट पहुंचाने के लिए स्टोरी चलाई गई है।

दिल्ली के जामा मस्जिद के शाही इमाम सैयद अहमद बुखारी ने अरनब गोस्वामी को कानूनी नोटिस भेजा है और उनसे बिना शर्त माफी मांगने को कहा है। इमाम बुखारी ने ये नोटिस अरनब गोस्वामी के चैनल रिपब्लिक पर चले उस स्टोरी को लेकर भेजा है जिसमें दावा किया गया है कि जामा मस्जिद का बिजली बिल नहीं चुकाने की वजह से वहां का बिजली कनेक्शन काट दिया गया है। इमाम बुखारी ने चैनल के मालिक को भी नोटिस भेजा और मांग की है कि 15 दिनों के अंदर चैनल के वेबसाइट से ये स्टोरी हटाई जाए। इमाम बुखारी ने कहा है कि अगर अरनब गोस्वामी ऐसा नहीं करते हैं तो वे चैनल के खिलाफ मानहानि का मुकदमा ठोकेंगे।’पावर कट एट जामा मस्जिद’ नाम से रिपब्लिक चैनल ने 30 अगस्त 2017 को ये स्टोरी चलाई थी, और दावा किया था कि बिजली बिल का भुगतान नहीं करने की वजह से जामा मस्जिद का बिजली कनेक्शन दिल्ली बिजली विभाग ने काट दिया है।

चैनल ने अपने ट्वीटर अकाउंट पर लिखा था कि, ‘इमाम बुखारी के पास लक्जरी कारें खरीदने के लिए पैसे हैं लेकिन वो बिजली बिल का भुगतान नहीं कर सकते हैं।’ कारवां डेली से बात करते हुए इमाम बुखारी ने कहा कि ये स्टोरी गलत, आधारहीन, मानहानि पहुंचाने वाला है और इसे जामा मस्जिद और उन्हें बदनाम करने के लिए दिखाया गया है, क्योंकि जामा मस्जिद की बिजली कभी काटी ही नहीं गई थी।’ इमाम बुखारी ने कहा, ‘मेरे परिचितों ने मुझे बताया कि रिपब्लिक टीवी पर मेरे और जामा मस्जिद के बारे में एक स्टोरी चलाई जा रही है, मैं इसमें कुछ साजिश देखता हूं क्योंकि उसी दिन दिखाया जा रहा था जिस दिन बाबा राम रहीम के भक्तों द्वारा उसे सजा सुनाने के बाद हरियाणा में हिंसा की गई थी।’

इमाम बुखारी ने अपने लीगल फर्म दीवान एडवोकेट्स के जरिये नोटिस भेजा है और लिखित माफी की मांग की है साथ ही इस मुद्दे से जुड़े सही तथ्यों को प्राइम टाइम में प्रसारित करने की मांग की है। इमाम बुखारी ने कारवां डेली को कहा कि पत्रकारिता और अपने प्रोफेशन का धर्म निभाते हुए भी उन्हें ये स्टोरी प्रसारित करने से पहले मेरा पक्ष पूछना चाहिए था। इमाम बुखारी ने कहा, ‘ये चैनल और इसका संपादक मुसलमानों की बुराई करने के लिए जाना जाता है और इसका झुकाव भगवा संस्थाओं की ओर है।’ इसमें कोई शक नहीं है कि ये स्टोरी और ट्वीट मेरे और मुस्लिम समुदाय की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने के लिए दिखाई गई थी।’ नोटिस में ये भी कहा गया है कि अगर अरनब गोस्वामी माफी नहीं मांगते हैं तो इनके खिलाफ आपराधिक और सिविल डिफेमेशन का मुकदमा चलाया जाएगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App