ताज़ा खबर
 

पाकिस्तान के आगे मोदी सरकार ने टेके घुटनेः कांग्रेस

कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को हर मोर्चे पर विफल बताते हुए कहा है कि यह सरकार मात्र जुमलों और वादों की सरकार साबित हुई है, किसान और युवा समेत हर वर्ग परेशान है, इस सरकार ने पाकिस्तान के सामने घुटने टेक दिए हैं।

Author जयपुर | May 27, 2016 4:00 AM
कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह

कांग्रेस प्रवक्ता आरपीएन सिंह ने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को हर मोर्चे पर विफल बताते हुए कहा है कि यह सरकार मात्र जुमलों और वादों की सरकार साबित हुई है, किसान और युवा समेत हर वर्ग परेशान है, इस सरकार ने पाकिस्तान के सामने घुटने टेक दिए हैं। मोदी सरकार के दो साल पूरे होने के मौके पर प्रदेश कांगे्रस मुख्यालय में संवाददाताओं से बात करते हुए सिंह ने गुरुवार को कहा कि प्रधानमंत्री ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। लेकिन दो साल में मात्र एक लाख चौंतीस हजार युवाओं को ही रोजगार दे सकी है। कमाबेश यही स्थिति किसानों की भी है। उन्होंने कहा कि किसानों को उनके उत्पादन का पचास फीसद फायदा देने का वादा किया गया था, लेकिन किसानों को मात्र छह फीसद फायदा ही मिल पा रहा है।

कांगे्रस के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने कहा कि किसानों को उत्पादन का पूरा लाभ नहीं मिल पाने के कारण दुखी होकर किसान आत्महत्या कर रहे हैं, विगत दो साल में तीन हजार किसान आत्महत्या कर चुके हैं, इसमें से अठारह सौ किसान महाराष्ट्र के थे। उन्होंने कहा कि देश में सूखे की विकट परिस्थितियों के बावजूद केंद्र सरकार ने किसानों के हित में कुछ नहीं किया। किसानों पर 45 हजार करोड़ रुपए का कर्ज है। सूखे की मार से परेशान किसानों को राहत नहीं दी जा रही है। राजस्थान सरकार को सूखे की मार से परेशान किसानों को राहत के नाम पर मांगी गई राशि का मात्र दस फीसद हिस्सा ही दिया है। यह सरकार सूट और बूट की सरकार साबित हुई है।

सिंह ने कहा कि मोदी सरकार की गलत विदेश नीति के कारण देश को पाकिस्तान के सामने घुटने टेकने को मजबूर होना पड़ा। गलत नीतियों के कारण ही पाकिस्तान और चीन को सही जवाब देने में यह सरकार पूरी तरह से विफल रही है। पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तान से जांच दल पठानकोट जांच करने आ जाता है। लेकिन भारत के जांच दल को पाकिस्तान जाने की अनुमति नहीं मिली। क्या यही विदेश नीति है? उन्होंने कहा कि सरकार मालेगांव प्रकरण में लिप्त जेल में बंद आरोपियों को छुड़वाने का काम कर रही है, क्योंकि ऐसा नहीं करते तो इसमें इनके बडेÞ नेता फंस जाते। देश के शहीद होने वाले पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे पर अंगुली उठाई जा रही है। यह बहुत अफसोस की बात है। पूर्व केंद्रीय मंत्री सिंह ने कहा कि औद्योगिक विकास का दावा करने वाली इस सरकार का ‘मेक इन इंडिया’ के नारे के बर्बर शेर की दहाड़ बिल्ली की आवाज से भी कमजोर निकली। कच्चे तेल में भारी गिरावट आने के बावजूद करीब दो हजार करोड़ रुपए का फायदा जानबूझ कर देशवासियों को नहीं दिया गया। यदि कच्चे तेल की दरों के मुताबिक घटी दरों का लाभ जनता को दिया जाता था, तो मौजूदा समय में पेट्रोल की दर 31 रुपए और डीजल की दर 25 रुपए लीटर होती।

कांगे्रस नेता ने काले धन के मुद्दे पर प्रधानमंत्री को आडे हाथों लेते हुए कहा कि काला धन लेकर तो नहीं आए, लेकिन उन्होंने देश से एक व्यक्ति को (विजय माल्या) विदेश भगाने का काम जरूर किया। यह व्यक्ति एक दिन पहले संसद में आकर मंत्रियों से मिलता है और दूसरे दिन देश छोड़ देता है और सरकार देखती रहती है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने आइपीएल के पूर्व आयुक्त ललित मोदी के खिलाफ कई रंग के वारंट जारी किए थे, लेकिन उनका क्या हुआ, यह सबके सामने है। सिंह ने भ्रष्टाचार का जिक्र करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश के व्यायमं घोटाले, राजस्थान के खान घोटाले पर प्रधानमंत्री मौन हैं। कम से कम स्वयं के गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए कृष्णा गोदावरी के बीच पाइप लाइन को लेकर करीब बीस हजार करोड़ रुपए के कथित घोटाले पर तो मौन तोडें। यह कांग्र्रेस का आरोप नहीं है, बल्कि इसका जिक्र कैग की रिपोर्ट में भी किया गया है। उन्होंने कहा कि इस सरकार ने दलितों, युवाओं, किसानों के साथ खिलवाड़ किया है, यह सरकार मात्र जुमलों और नारों की सरकार साबित हुई है, देशवासी आज भी अच्छे दिन का इंतजार कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App