ताज़ा खबर
 

आयकर विभाग ने अजिताभ के वकील से किया संपर्क, बोफोर्स कांड में की थी बच्‍चन बंधुओं की पैरवी

आयकर विभाग ने लंदन में रहने वाले वकील सरोश जायवाला से संपर्क किया है। उनसे उन शिपिंग कंपनियों से जुड़ाव के बारे में बातचीत की गई है, जिन्‍होंने अमिताभ बच्‍चन को निदेशक बना रखा है।

नई दिल्‍ली | Updated: June 15, 2016 12:56 PM
सरोश जायवाला (FILE PHOTO)

आयकर विभाग ने लंदन में रहने वाले वकील सरोश जायवाला से संपर्क किया है। उनसे उन शिपिंग कंपनियों से जुड़ाव के बारे में बातचीत की गई है, जिन्‍होंने अमिताभ बच्‍चन को निदेशक बना रखा है। जायवाला ने ही 1990 में बच्‍चन भाइयों को बोफोर्स मामले से बाहर निकाला था। जायवाला ही वह शख्‍स हैं जिन्‍होंने अमिताभ के भाई अजिताभ और दिवंगत शिपिंग मैगनेट मेहरनूश खजोटिया के बीच पार्टनरशिप कराई। इसी साझेदारी के तहत 1990-91 के बीच कई शिपिंग कंपनियां स्‍थापित की गईं।

इन्‍हीं कंपनियों में से एक नील शिपिंग कंपनी लि. (बहामास) ने ट्रैम्‍प शिपिंंग लि. (बहामास की वही कंपनी जिसके अमिताभ बच्‍चन निदेशक थे) से 1994 में एक जहाज अधिगृहीत किया था। सूत्रों के मुताबिक, आयकर विभाग ने पिछले महीने जायवाला को लिखकर उनसे पनामा पेपर्स की जांच में मदद की मांग की थी। द इंडियन एक्‍सप्रेस को भेजे एक ई-मेल में जायवाला ने कहा, ”हां, भारत के आयकर विभाग ने मुझसे संपर्क कर मेरी मदद मांगी है। मेरा जवाब था कि मैं उनकी गुजारिश पर गौर करूंगा अगर वे मुझसे वैध रूप में लंदन स्थित भारतीय उच्‍चायोग के जरिए संपर्क करेंगे।”

READ ALSO: Panama Papers: भाई से जहाज खरीदने के खुलासे का अमिताभ बच्‍चन ने किया खंडन, अजिताभ बोले- भाई से कोई लेना देना नहीं

कई कं‍पनियों के कागजात में अमिताभ बच्‍चन को इन कंपनियोंं का निदेशक बताया गया है, टेलीकांन्‍फ्रेंसिंग के जरिए उनके बोर्ड मीटिंग में शामिल होने के रिकॉर्ड मौजूद हैं, और अजिताभ बच्‍चन के स्‍वामित्‍व वाली कंपनी से जहाज भी खरीदा गया। अमिताभ बच्‍चन ने इन कंपनियों से किसी तरह का संबंध होने से साफ इनकार किया है।

Next Stories
1 जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री ने असैन्य इलाकों में सेना की मौजूदगी कम करने को कहा
2 वैष्णो देवी में पति ने पत्नी की गला दबाकर हत्या की, शव को पहाड़ से नीचे फेंका
3 अनिल विज ने कहा- योग प्रशिक्षण में अधिकारियों का शामिल होना अनिवार्य नहीं था
ये पढ़ा क्या?
X