ताज़ा खबर
 

यूपी के बाद पंजाब में भी बगावत: अमरिंदर सिंह बोले- मैं चलाता हूं कांग्रेस, प्रशांत किशोर का लेना-देना नहीं

'प्रशांत का काम रणनीति बनाना है, पार्टी को चलाना मेरा काम है। प्रशांत को इसमें दखल देने का कोई हक नहीं है। किसको बाहर रखना है और किसे लेना है यह मेरी जिम्मेदारी है।'

rajya sabha, election, amarinder singh, chandigarh newsअमरिंदर सिंह ने नीतीश कुमार को पंजाब में कांग्रेस के लिए चुनाव प्रचार करने का आमंत्रण दिया। (File Photo)

यूपी और पंजाब में 2017 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस प्रशांत किशोर को चुनावी रणनीति बनाने के लिए लेकर आई है, लेकिन उन्‍हें पार्टी में विरोध का सामना करना पड़ रहा है। ताजा खबर पंजाब से है, जहां पूर्व मुख्‍यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता अमरिंदर सिंह ने प्रशांत किशोर के खिलाफ खुलकर मोर्चा खोल दिया है। इससे पहले यूपी के अमेठी और रायबेरली में भी उनके खिलाफ कांग्रेस नेता आवाज बुलंद कर चुके हैं।

इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि पंजाब कांग्रेस को वह चलाते हैं, प्रशांत को इसमें हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए। इससे पहले यूपी में भी प्रशांत किशोर की नीतियों का विरोध हुआ था। इसमें राहुल की सीट अमेठी और सोनिया गांधी की सीट रायबरेली के लोगों ने कहा था कि वे लोग प्रियंका के नेतृत्व में ही चुनाव लड़ते आए हैं और आगे भी उन्हीं के नेतृत्व में चुनाव लड़ना चाहते हैं। वहीं, इस बार एक्सप्रेस की रिपोर्टर कंचन वासुदेव से बातचीत के दौरान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी अपनी नाराजगी जता दी। बातचीत के कुछ अंश यह रहे।

सवाल : क्या कांग्रेस निष्काषित किए गए नेता, जगमीत बरार और बीर देवेंदर को वापस लाने पर विचार कर रही है ?

जवाब: मेरे रहते हुए वे लोग वापस नहीं आ सकते। ऐसे लोगों को कब तक बर्दाशत किया जाएगा जो पार्टी के खिलाफ बोलते हों। पार्टी ने उन्हें पहले भी एक मौका दिया था। फिर भी वे लोग पार्टी और मेरे खिलाफ बोलते रहे। शुरू में जगमीत मेरी तारीफों में कसीदे पढ़ा करते थे। मैं जानता हूं उनकी दुश्मनी तब से शुरू हुई जब मुझे पंजाब कांग्रेस का चीफ बनाया गया। वहीं बीर मेरे खिलाफ इसलिए थे क्योंकि मैंने टिकट फाइनल होने से पहले घानौर (पटियाला की एक सीट) पर उनके ऑफिस बना लेने का विरोध किया था।

Read Also : 19 मई के बाद UP कांग्रेस में होंगे बड़े बदलाव, प्रशांत किशोर ने बनाई है ये रणनीति

सवाल: पर जब आप विदेश गए हुए थे तब, प्रशांत किशोर सीएलपी के नेता चरणजीत के घर पर उन दोनों से मिले थे। क्या आपको नहीं पता ?

जवाब: प्रशांत का काम रणनीति बनाना है, पार्टी को चलाना मेरा काम है। प्रशांत को इसमें दखल देने का कोई हक नहीं है। किसको बाहर रखना है और किसे लेना है यह मेरी जिम्मेदारी है। इस वजह से ही मैं कहता हूं कि उन्हें पंजाब की राजनीति की समझ नहीं है। अगर वह कल कहने लगेंगे कि वह बीजेपी या आकाली दल के किसी नेता के संपर्क में हैं, या फिर वह उसे कांग्रेस में ला सकते हैं, तो मुझे देखना पड़ेगा। क्योंकि, मैं इस सब को समझता हूं।

Read Also: प्रशांत किशोर ने कहा- यूपी जीतना है तो ब्राह्मणों में बनाओ पैठ, कांग्रेस नेताओं में मतभेद

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Delhi MCD Election: उपचुनाव के लिए मतदान शुरू, आम आदमी पार्टी पहली बार मैदान में
2 झारखंड बंदः सांसदों-विधायकों समेत 9,284 लोग हिरासत में लिए गए, हिंसा में थाना इंचार्ज घायल
3 6 दिन झांसी में क्यों रुकी रही वाटर ट्रेन और लौटी तो पानी का क्या हुआ, ये है पूरी कहानी
ये पढ़ा क्या...
X