scorecardresearch

मुझे याद है जब किशोर कुमार को बैन किया, देश के नागरिकों के सभी अधिकार छीन लिए, मन की बात में पीएम मोदी ने इमरजेंसी के बारे में कहीं ये बातें

पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान इमरजेंसी का जिक्र किया और कहा कि उस समय सेंसरशिप इतनी सख्त थी कि बिना मंजूरी के कुछ भी प्रकाशित नहीं किया जा सकता था।

narendra modi| prime minister | pm photo|
पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स: @NarendraModi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज देश के साथ मन की बात की। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इमरजेंसी से लेकर किशोर कुमार के गानों तक का जिक्र किया। पीएम मोदी ने बताया कि किस प्रकार से इमरजेंसी के दौरान लोगों के अधिकारों को छीन लिया गया था। प्रधानमंत्री मोदी ने रविवार को कहा कि 1975 में लगाए गए आपातकाल के दौरान भारत में “लोकतंत्र को कुचलने” के प्रयास किए गए थे।

पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान कहा, “आपातकाल के दौरान, सभी अधिकार छीन लिए गए थे। इन अधिकारों में संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत गारंटीकृत जीवन और व्यक्तिगत स्वतंत्रता का अधिकार था। उस समय भारत में लोकतंत्र को कुचलने की कोशिश की गई। देश की अदालतें, हर संवैधानिक संस्था, प्रेस, सब कुछ नियंत्रण में लाया गया।”

पीएम मोदी ने कहा, “सेंसरशिप इतनी सख्त थी कि बिना मंजूरी के कुछ भी प्रकाशित नहीं किया जा सकता था। मुझे याद है जब प्रसिद्ध गायक किशोर कुमार जी ने सरकार की प्रशंसा करने से इनकार कर दिया था, तो उन्हें प्रतिबंधित कर दिया गया था। उन्हें रेडियो पर अनुमति नहीं थी। कई प्रयासों के बावजूद हजारों की संख्या में गिरफ्तारी और लाखों लोगों पर अत्याचार हुए।सदियों से हमारे भीतर निहित लोकतांत्रिक मूल्य, हमारी रगों में बहने वाले लोकतंत्र की भावना की आखिरकार जीत हुई थी।”

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, “भारत के लोगों ने लोकतांत्रिक तरीके से इमरजेंसी को हटाकर वापस लोकतंत्र की स्थापना की। तानाशाही की मानसिकता को लोकतांत्रिक तरीके से पराजित करने का ऐसा उदाहरण पूरी दुनिया में मिलना मुश्किल है। इमरजेंसी के दौरान देशवासियों के संघर्ष का गवाह रहने का, साझेदार रहने का सौभाग्य लोकतंत्र के सैनिक के रूप में मुझे भी प्राप्त हुआ था।”

पीएम मोदी ने मशहूर महिला क्रिकेटर मिताली राज का भी जिक्र किया। पीएम मोदी ने मन की बात के दौरान कहा, “मैं आज भारत की सर्वाधिक प्रतिभाशाली क्रिकेटरों में से एक मिताली राज की भी चर्चा करना चाहूंगा। उन्होंने इसी महीने क्रिकेट से संन्यास की घोषणा की है, जिसने कई खेल प्रेमियों को भावुक कर दिया। मिताली राज एक असाधारण खिलाड़ी नहीं है, बल्कि अनेक खिलाड़ियों के लिए प्रेरणास्रोत भी रही हैं। मैं मिताली राज को उनके भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X