ताज़ा खबर
 

NRC पर एंकर ने पूछा सवाल तो बोले अमित शाह, ‘नहीं बता सकता राहुल जी’, देखें VIDEO

आगे कंवल ने पूछा, 'क्या राजनीतिक हथियार है या वाकई में कोई फायदा है भी?' शाह ने इस सवाल पर बताया- जब हो, तब देख लेना।

Author नई दिल्ली | Updated: October 14, 2019 11:02 PM
गृह मंत्री अमित शाह। (फाइल फोटोः पीटीआई)

नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजंस ऑफ इंडिया (National Register of Citizens of India) को लेकर पूछे गए एक सवाल पर गृह मंत्री अमित शाह ने साफ कहा कि वह जवाब नहीं दे सकते। गुजारिश कर इंटरव्यू के दौरान एंकर से बोले, “आप भी जानते हैं कि मैं इस बारे में नहीं बता सकता।”

दरअसल, यह मामला सोमवार (14 अक्टूबर, 2019) का है। आज तक की ओर से एंकर राहुल कंवल ने गृह मंत्री का इंटरव्यू लिया, जिसमें उन्होंने NRC पर प्रश्न दागे। पूछा कि इसके तहत 19 लाख लोग अवैध पाए गए। हमारे स्थानीय रिपोर्टर बताते हैं कि जब तक इसकी प्रक्रिया खत्म होगी तब तक सब (अवैध भी) खुद को इसके तहत वैध साबित कर लेंगे?

शाह बोले, “NRC की पूरी प्रक्रिया सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत हो रही है। अब एनआरसी जब कभी भी होगा और उसमें जो भी कमियां होंगी, उन्हें पूरा किया जाएगा।”

आगे कंवल ने पूछा, ‘क्या यह राजनीतिक हथियार है या वाकई में कोई फायदा है भी?’ शाह ने इस सवाल पर बताया- जब हो, तब देख लेना। मैंने कहा न कि यह हमने नहीं किया है। यह सुप्रीम कोर्ट की प्रक्रिया के तहत हुआ है।

कंवल ने इसी पर टोका कि आपके प्रोसीजर और कोर्ट की प्रक्रिया में क्या फर्क होगा? शाह ने इसी पर कहा- मैं ऐसे इंटरव्यू में नहीं बता सकता। आप भी जानते हैं कि मैं नहीं बता सकता। एनआरसी की प्रक्रिया में जो कमियां रह गई हैं, उन्हें ठीक कर हम इसे बनाएंगे। मोदी सरकार का चरित्र है कि हम जो कहते हैं, वह करते हैं। हम उचित वक्त पर देश भर में इसका विस्तार करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 यूपी सरकार को सुप्रीम कोर्ट का आदेश- सुन्नी वक्फ बोर्ड चेयरमैन को फौरन दें सुरक्षा, मध्यथों ने बताया था जान पर खतरा
2 ‘डंवाडोल है भारतीय अर्थव्यवस्था, सुधरने के तुरंत आसार नहीं’, अर्थशास्त्र का नोबेल विजेता बनने के बाद बोले अभिजीत बनर्जी
3 मदरसे में हो रही गौसेवा की पढ़ाई! छात्रों को दूध निकालने से लेकर गाय को चारा खिलाने तक का पढ़ाया जा रहा पाठ