scorecardresearch

मैं साइंस-टेक्‍नोलॉजी में विश्‍वास करता हूं, योगी आदित्‍यनाथ संत होकर भी अंधविश्‍वासी नहीं, KCR पर पीएम मोदी का तंज

पीएम मोदी इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के 20 वर्ष पूरे होने पर आयोजित एक समारोह में पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि भारत आज ग्रोथ के केंद्र के रूप में उभर रहा है।

narendra modi| prime minister| hyderabad|
पीएम नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स: @narendramodi)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को हैदराबाद के दौरे पर पहुंचे थे। पीएम मोदी इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के 20 वर्ष पूरे होने पर आयोजित एक समारोह में पहुंचे थे। तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव प्रदेश में नहीं थे बल्कि वह सुबह ही पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से मिलने बेंगलुरु रवाना हो गए थे। इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की तारीफ भी की।

पीएम मोदी ने कार्यक्रम में कहा, “इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस से निकले प्रोफेशनल्स देश के बिजनेस को गति दे रहे हैं। बड़ी-बड़ी कंपनियों का मैनेजमेंट संभाल रहे हैं। यहां के छात्रों ने सैकड़ों स्टार्टअप्स बनाए हैं और अनेकों यूनिकॉर्न्स के निर्माण में उनकी भूमिका रही है। ये इंडियन स्कूल ऑफ बिजनेस के लिए उपलब्धि तो है ही , साथ ही पूरे देश के लिए गर्व का विषय भी है।”

पीएम मोदी ने राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव पर तंज कसा और उन्हें अंधविश्वासी करार दिया। पीएम मोदी ने कहा, “अंधविश्वासी लोग राज्य के विकास के लिए काम नहीं कर सकते। मैं साइंस एंड टेक्नोलॉजी में विश्वास करता हूं और मैं यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई भी देता हूं ,जो एक संत है लेकिन अंधविश्वास में विश्वास नहीं करते। हमें ऐसे अंधविश्वासी लोगों से तेलंगाना को बचाना है।”

पीएम नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार की उपलब्धियों का भी बखान किया। पीएम ने कहा, “ग्लोबल रिटेल इंडेक्स में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है। दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम भारत में है। वहीं दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कंजूमर मार्केट भी भारत में है। भारत आज ग्रोथ के एक बड़े केंद्र के रूप में उभर रहा है। पिछले साल भारत में अब तक का सबसे ज्यादा रिकॉर्ड एफडीआई आया। आज दुनिया ये महसूस कर रही है कि इंडिया का मतलब बिजनेस है।”

2016 में कई ऐसी मीडिया रिपोर्ट्स आई थी जिसमें बताया गया था कि के चंद्रशेखर राव वास्तु के कारण में 50 करोड़ के नए घर में शिफ्ट हो गए थे। वहीं मुख्यमंत्री ने बेगमपेट में शिविर कार्यालय को रेनोवेट कराया था, जो पांच मंजिले का था और उसके अंदर छह अलग-अलग ब्लॉक थे। सीएम की मान्यता के अनुसार शासक को ऐसे स्थान से कार्य करना चाहिए जो दूसरों की तुलना में अधिक ऊंचाई पर हो और इसी कारण तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने यह कदम उठाया था।

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट