ताज़ा खबर
 

’14 फरवरी को गुलाब का फूल दे दें अरविंद केजरीवाल तो वापस चले जाएंगे AAP में?’, दर्शक के सवाल आशुतोष ने दिया ये जवाब

शो में यह प्रश्न सुनकर हाथ बांधे खड़े सीनियर पत्रकार आशुतोष खिलखिलाकर हंसने लगे थे।

Ashutosh, Journalist, Arvind Kejriwal, AAP, 14 Feb, Valentine Day, Rose, Aaj Tak, TV Debate, National News, Hindi News, आशुतोष, पत्रकार, अरविंद केजरीवाल, आप, 14 फरवरी, वैलेंटाइन डे, गुलाब, फूल, आज तक, टीवी डिबेट, नेशनल न्यूज, राष्ट्रीय खबरें, हिंदी खबरें, जनसत्ता समाचारसीनियर पत्रकार आशुतोष पहले AAP में थे। और, वह अरविंद केजरीवाल के करीबी माने जाते थे। (फाइल फोटो)

वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व AAP नेता आशुतोष से एक डिबेट में पूछा गया कि 14 फरवरी को अगर अरविंद केजरीवाल उन्हें फूल दे दें तब क्या वह वापस आप में शामिल हो जाएंगे? जर्नलिस्ट ने बड़ा ही कमाल का जवाब दिया, जो बाकी दर्शकों और एंकर के चेहरे पर मुस्कान ले आया। उन्होंने कहा कि वह सीएम केजरीवाल के वैलेंटाइन नहीं हैं।

यह वाकया बुधवार (12 फरवरी, 2020) का है। हिंदी समाचार चैनल Aaj Tak पर ‘हल्ला बोल’ कार्यक्रम में दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे, आप और केजरीवाल की हनुमान भक्ति के मुद्दे पर बहस हो रही थी। शो में एंकर अंजना ओम कश्यप के साथ BJP के संबित पात्रा समेत कुछ और मेहमान भी थे।

डिेबेट में एक मौका ऐसा आया, जब दर्शकों को भी पैनल में मौजूद मेहमानों से सवाल पूछने का मौका मिला। इसी दौरान एक दर्शक ने आशुतोष से सवाल पूछा- 14 फरवरी आ रही है…वैलेंटाइन डे। अगर केजरीवाल जी एक गुलाब का फूल आपके पास लेकर आ जाएं, तब क्या आप वापस उनकी पार्टी में चले जाएंगे?

यह प्रश्न सुनकर हाथ बांधे खड़े आशुतोष पहले जमकर हंसे। उन्होंने इसके बाद कहा, “मैं उनका वैलेंटाइन नहीं हूं, जो चला जाऊंगा उनके साथ।” बाकी दर्शक भी उनके इस जवाब पर हंसे और तालियां बजाने लगे।

देखें, और क्या हुआ डिबेट मेंः

4 साल तक रहे AAP के साथः आशुतोष, आप में करीब चार साल तक रहे। माना जाता है कि वह केजरीवाल के खास लोगों में गिने जाते थे। पार्टी में उनकी ठीक-ठाक चलती भी थी। पार्टी से इस्तीफा देने के बाद उन्होंने दावा किया था कि AAP में रहने के दौरान उन्हें अपनी जाति का इस्तेमाल करने के लिए कहा गया था। बता दें कि आशुतोष लंबे समय से सरनेम (उप-नाम) नहीं लिख रहे हैं।

पार्टी में सरनेम लिखने पर बनाया गया दबाव!: आशुतोष इस बारे में पूर्व में कह चुके हैं कि पत्रकारिता के लंबे करिअर में उन्हें कभी सरनेम लिखने को लेकर दबाव नहीं बनाया गया। पर जब वह आप के टिकट से चुनावी मैदान में कूदे तब उन्हें जाति का इस्तेमाल करने के लिए कहा गया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 मतपत्र से मतदान कराने की गुंजाइश नहीं, मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा बोले- ईवीएम से नहीं की जा सकती छेड़छाड़
2 जोश में संबित पात्रा डिबेट में कर गए गलतियां, दीनदयाल उपाध्याय की पुण्यतिथि को बताया जयंती; देखें मौलवियों की सैलरी पर क्या कहा
3 बोले PM नरेंद्र मोदी- सबसे युवा देश, अब तेजी से खेलने के मूड में, 5 ट्रिलियन डॉलर इकनॉमी का लक्ष्य आसां नहीं, पर…
ये पढ़ा क्या?
X