ताज़ा खबर
 

अपने फैसले का हवाला देकर बोले SC के पूर्व जज- साफ दिख रहा हैदराबाद एनकाउंटर है फर्जी, पुलिसवालों को भी दी जाए फांसी

हैदराबाद पुलिस शुक्रवार को गैंगरेप आरोपियों को क्राइम सीन रिक्रिएट करने के लिए मौके पर लेकर गई थी। पुलिस के अनुसार, इसी दौरान आरोपियों ने मौके से भागने का प्रयास किया, जिसके बाद पुलिस ने चारों आरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया।

hyderabad encounterएनकाउंटर के बाद लोगों ने खुशी में पुलिसकर्मियों को कंधे पर उठा लिया। (एक्सप्रेस फोटो)

हैदराबाद में बीते दिनों वेटरनरी डॉक्टर के साथ हुए गैंगरेप और उसकी निर्मम हत्या के बाद आरोपियों के खिलाफ पूरे देश में गुस्सा देखा गया था। लोगों द्वारा दोषियों को जल्द से जल्द और कड़ी सजा देने की मांग की जा रही थी। इसी बीच आज हैदराबाद पुलिस ने गैंगरेप के चारों आरोपियों को एक एनकाउंटर में मार गिराया है। हालांकि सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू ने हैदराबाद पुलिस की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं और उन्होंने इस एनकाउंटर को फर्जी करार दिया है।

पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने ट्वीट कर लिखा कि “प्रकाश कदम वर्सेस रामप्रसाद विश्वनाथ गुप्ता केस में सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने, जिसकी अध्यक्षता मेरे द्वारा की गई, उसने कहा था कि फर्जी ‘एनकाउंटर’ के मामले में संबंधित पुलिसकर्मियों को मौत की सजा दी जाए। हैदराबाद ‘एनकाउंटर’ भी लग रहा है कि यह साफतौर पर फर्जी है।”

बता दें कि हैदराबाद पुलिस शुक्रवार को गैंगरेप आरोपियों को क्राइम सीन रिक्रिएट करने के लिए मौके पर लेकर गई थी। पुलिस के अनुसार, इसी दौरान आरोपियों ने मौके से भागने का प्रयास किया, जिसके बाद पुलिस ने चारों आरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया। घटना की सूचना मिलते ही बड़ी संख्या में मौके पर लोगों की भीड़ इकट्ठा हो गई। पुलिस की इस कार्रवाई से लोग बेहद खुश दिखाई दिए और उन्होंने पुलिसकर्मियों पर फूल बरसाकर और मिठाई बांटकर खुशी जाहिर की।

हाल ही में राज्यसभा में हैदराबाद गैंगरेप के आरोपियों को भीड़ द्वारा पीटकर मार दिए जाने की बात कहने वाली सपा सांसद जया बच्चन ने इस एनकाउंटर का समर्थन करते हुए कहा कि देर आए..दुरुस्त आए। जया बच्चन के अलावा कई अन्य लोगों ने भी हैदराबाद पुलिस का समर्थन किया है। वहीं मेनका गांधी समेत कुछ अन्य लोगों ने इस एनकाउंटर पर सवाल भी उठाए। मेनका गांधी ने कहा कि “जो भी हुआ, बहुत भयानक हुआ है देश के लिए। आप कानून अपने हाथ में नहीं ले सकते। आरोपियों को कोर्ट द्वारा सजा दी जानी चाहिए थी। मेनका गांधी ने कहा कि यदि आप अपराधियों को बिना ट्रायल किए इस तरह मार देंगे तो फिर अदालतों, कानून और पुलिस की क्या जरुरत है?”

बीती 26 नवंबर को हैदराबाद में एक वेटरनरी डॉक्टर को चार आरोपियों ने अपनी हवस का शिकार बनाया था। गैंगरेप के बाद आरोपियों ने पीड़िता की गला दबाकर हत्या कर दी और बाद में पीड़िता के शव को आग लगा दी। अगले दिन पुलिस ने पीड़िता का क्षत-विक्षिप्त शव बरामद किया था। इस मामले में पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 Kerala Nirmal Lottery NR-150 Results Highlights: इन सभी की लगी 60 लाख रुपए तक की लॉटरी, यहां देखें लिस्ट
2 UP और दिल्ली पुलिस भी Hyderabad Police की तर्ज पर कार्रवाई करे तो थम सकते हैं जघन्य अपराध: BSP चीफ मायावती
3 ‘हम वादों की नहीं प्रदर्शन की राजनीति करते हैं’, HT समिट में बोले पीएम मोदी- सिटीजनशिप बिल पीड़ितों को देगा बेहतर कल
ये पढ़ा क्या?
X