ताज़ा खबर
 

तीन बार तलाक कहने को चुनौती देने वाली मुस्लिम महिला ने कहा- पति ने छह बार अबॉर्शन कराया

तीन बार तलाक कहने की प्रथा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने वाली शायरा बानो का कहना है कि उन्‍हें इस रीति के खिलाफ कोर्ट जाने को मजबूर होना पड़ा उन्‍होंने बताया कि उसके पति ने छह बार उसका अबॉर्शन कराया।

चित्र का इस्तेमाल प्रतीक के तौर पर किया गया है।

तीन बार तलाक कहने की प्रथा के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाने वाली शायरा बानो का कहना है कि उन्‍हें इस रीति के खिलाफ कोर्ट जाने को मजबूर होना पड़ा उन्‍होंने बताया कि उसके पति ने छह बार उसका अबॉर्शन कराया। एक अंग्रेजी अखबार से शायरा ने कहा कि उसका पति खुद गर्भनिरोधक गोलियां देता था। इसके चलते उसकी हालत बिगड़ गई। शायरा एक बेटे और एक बेटी की मां है। दोनों बच्‍चे पिता के पास रहते हैं। उनका कहना है कि वह अपने बच्‍चों के साथ रहना चाहती है।

शायरा को उनके पति रिजवान अहमद ने अक्‍टूबर में तलाक दे दिया था। इसके बाद बानो ने मौखिक रूप से तलाक देने के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट ने बानो की मौखिक तलाक या तीन बार तलाक कहने को असंवैधानिक घोषित करने की अर्जी स्‍वीकार कर ली थी। शायरा का कहना है कि एक दिन ऐसा आएगा जब भारत में मौखिक तलाक बैन हो जाएगा। जब ऐसा होगा तो लाखों महिलाओं को क्रूरता से आजादी मिल जाएगी।

Read Also: कोर्ट के जरिये हो रही है शरई कानून में दखलंदाजी, मुस्लिम नहीं करेंगे बरदाश्त: मुस्लिम लॉ बोर्ड

इसी बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के खिलाफ विरोध बढ़ता जा रहा है। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड शायरा की अर्जी के खिलाफ है और मौखिक तलाक के पक्ष में हैं। उसका कहना है कि मौखिक तलाक को असंवैधानिक करार देना उनके मामलों में हस्‍तक्षेप होगा। बोर्ड के बयान के खिलाफ कई मुस्लिम महिला कार्यकर्ता और कानूनी जानकार उतर आए हैं। उनका कहना है कि बोर्ड संविधान भावनाओं के खिलाफ है और मध्‍यकाल की रीतियों को आगे बढ़ा रहा है। भारतीय मुस्लिम महिला आंदोलन ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को भंग करने की मांग की है। उनका कहना है कई मुसलमान इसके फैसलों के खिलाफ है।

Read Also‘भारत माता की जय’ बोलने के खिलाफ फतवे के समर्थन में एक और संगठन, कहा- नारा मुस्लिमों के खिलाफ

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App