ताज़ा खबर
 

‘हम आएंगे वतन अपने, यहीं मरेंगे, यहीं दिल लगाएंगे’, कश्मीर छोड़ने की 30वीं बरसी पर कश्मीरी रेडियोकर्मी का वीडियो वायरल

आपको बता दें कि पिछले साल जुलाई में गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा था कि केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों को उनके घर वापस लाने के लिए कटिबद्ध है।

साल 1990 में जम्मू-कश्मीर से कई लोगों ने पलायन किया था। फोटो सोर्स – ANI

कश्मीर छोड़ने की 30वीं बरसी पर कश्मीरी पंडितों के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। इस वीडियो में कश्मीरी पंडित ‘हम आएंगे अपने वतन’ जैसे शब्दों का इस्तेमाल कर यह जताते हुए नजर आ रहे हैं कि उन्हें उम्मीद है कि वो फिर से जम्मू-कश्मीर में लौट पाएंगे। इसके साथ ही वो कश्मीरी पंडितों से अपील कर रहे हैं कि वो इस कैंपेन से जुड़ें।

बता दें कि 19 जनवरी, 1990 को कई कश्मीरी पंडित मजबूरन कश्मीर से पलायन कर गए थे। पलायन के 30 साल गुजर जाने के बाद अब इन लोगों ने ‘हम आएंगे अपने वतन’ नाम से एक कैंपेन चलाया है जो ट्विटर पर भी काफी ट्रेंड कर रहा है। जानी-मानी रेडियोकर्मी खुश्बू मट्टू ने अपना एक वीडियो ट्विटर पर पोस्ट किया है। यह वीडियो 3 साल पहले बीबीसी को दिए गए एक साक्षात्कार का है। इस वीडियो में वो कह रही हैं कि ‘हम आएंगे वतन अपने, यहीं मरेंगे, यहीं दिल लगाएंगे।’ वीडियो को पोस्ट करते हुए उन्होंने लिखा कि ‘मैं दोबारा यहीं कहूंगी।’

उनके इस वीडियो को देखने के बाद थिएटर एक्टर चंदन साधू ने भी इस कैंपेन का समर्थन किया है। उन्होंने कहा कि ‘इस सप्ताह कश्मीर पंडितों के निर्वासन के 30 साल पूरे हो गए हैं। अब न्याय के लिए हमारी पुकार को आखिरकार नोटिस किया जाना चाहिए।’ उन्होंने कश्मीर पंडितों से आग्रह किया है कि वो ज्यादा से ज्यादा इस कैंपेन में हिस्सा लें।

वहीं जानी-मानी राजनेता सुनंद वशिष्ट ने भी इसपर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि ‘मेरे पास मेरे बचपन की कोई बहुत कम तस्वीरें बची हैं। जब वहां थे तब मेरे पास फैमली एल्बम था लेकिन जब हम पलायन हुए तो वो वहीं छूट गया…30 साल गुजर गए हैं। दृढ़निश्चय के साथ संकल्प लें कि हम अपने घर वापस जाएंगे।’

आपको बता दें कि पिछले साल जुलाई में गृहमंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में कहा था कि केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों को उनके घर वापस लाने के लिए कटिबद्ध है। उन्होंने कहा था कि एक समय आएगा जब कश्मीर पंडित अपने घर जाएंगे और वहां के मशहूर खीर भवानी मंदिर में पूजा भी करेंगे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 CAA के समर्थन में उतरीं बांग्लादेशी लेखिका तस्लीमा नसरीन, कहा- स्वतंत्र मुस्लिम विचारकों के लिए भी खोलें रास्ता
2 97 साल की उम्र में जीता चुनाव, राजस्थान की सबसे बुजुर्ग सरपंच बनीं विद्यादेवी, विरोधी को यूं चटाई धूल
3 दिल्ली में CAA का विरोध करनेवालों पर लग सकता है रासुका, महीने भर हिरासत में रखेगी पुलिस, LG ने दी हरी झंडी
ये पढ़ा क्या?
X