ताज़ा खबर
 

डबल से ज्‍यादा बढ़ाई गई IIT की फीस, अगले सेशन से 90 हजार की जगह देने होंगे 2 लाख

यह खबर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी की ओर से की गई उस घोषणा के बाद आई है, जिसमें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, दलित और विकलांगों को आईआईटी में मुफ्त में शिक्षा देने की बात कही गई थी।
Author नई दिल्‍ली | April 8, 2016 09:23 am
संसद में मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी। (फाइल फोटो)

आईआईटी की फीस अब दोगुनी हो गई है। अगले सेशन से छात्रों को सालाना 90 हजार की जगह 2 लाख रुपए जमा कराने होंगे। अगर किसी छात्र के परिवार की आय 5 लाख रुपए सालाना से कम है तो फीस में छूट दी जा सकती है। जानकारी के मुताबिक, स्‍टैंडिंग कमेटी ऑफ आईआईटी काउंसिल ने (SCIC) ने फीस को 90,000 से बढ़ाकर 3 लाख करने का फैसला किया था, लेकिन मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने इसे मंजूरी नहीं दी और फीस को 2 लाख रखा।

Read Also: स्‍मृति ईरानी ने कहा- जब तक नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री हैं तब तक भारत को कोई नुकसान नहीं पहुंचा सकता

यह खबर केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी की ओर से की गई उस घोषणा के बाद आई है, जिसमें अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, दलित और विकलांगों को आईआईटी में मुफ्त में शिक्षा देने की बात कही गई थी। स्मृति ईरानी ने गुजरात के सूरत में बुधवार को भाजपा के स्थापना दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में यह बात कही थी।

स्मृति ईरानी ने कहा था कि इस कदम से आईआईटी में पढ़ने वाले 60,471 छात्रों में से करीब 50 प्रतिशत को फायदा मिलेगा। मौजूदा समय में आईआईटी में अनुसूचित जाति के लिए 15 प्रतिशत आरक्षण, अनुसूचित जनजाति के लिए 7.5 प्रतिशत आरक्षण और पिछड़े वर्ग के लिए 27 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था है।

Read Also: संसद में मायावती से बोलीं स्‍मृति ईरानी…तो अपना सिर काटकर आपके चरणों में रख दूंगी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

  1. A
    AKHILESH CHANDRA
    Apr 8, 2016 at 12:52 pm
    आ गए मोदी-रामदेव वाले अच्छे दिन ! मने जब भारत को आपलोग अमेरिका जैसा देखना चाहते हो तो अमेरिका जैसी फीस भी तो देनी होगी..?.
    (0)(0)
    Reply
    1. Niranjan Singh
      Apr 8, 2016 at 3:33 am
      ना तो पढ़ेंगे न ही पढ़ने देंगे
      (0)(0)
      Reply
      1. S
        sitlesh sain
        Apr 8, 2016 at 10:30 am
        अब तो सारे भेदभाव ही खतम्। सिर्फ अमीर के बच्चे IITमें पढेंगे, गरीब के उनकी भाषा भी नहीं समझेंगे। सब सैप्रेट सैपरेट रहेंगे। क्या बात है !!
        (0)(0)
        Reply
        1. Sridhar Varadarajan
          Apr 7, 2016 at 6:13 pm
          क्या अंध भक्त सा बक रही है. जब वह प्रधान मंत्री है, पठानकोट अटैक पाकिस्तान की तरफ से हुआ. चीन और पाकिस्तान बॉर्डर में इंट्रूशन्स और नुक्सान, अपने जवानोकी अटैक और हत्या करते हैं और यह झूट पर झूट बोलतेही रहती है. जैसे अपने पढाई के बारेमें ग्रेजुएट होने का जो वह नहीं है, रोहित वेमुला के मौत के माे में, JNU कन्हाई के खिलाफ झूटी वीडियो बनाकर बिकीहुई मीडिया के माध्यम से झूटी प्रचार. क्या वह या मोदी डिग्री नहीं करसकते तो दूसरे लोग नहीं करे. MLA MP तन्खा पर्क्स बढ़ा ली मगर पब्लिक मिनिमम वेज नही
          (0)(0)
          Reply
          1. Sridhar Varadarajan
            Apr 7, 2016 at 6:17 pm
            जितना गुना IIT फीस बढ़ाती है उतना गुना मिनिमम तनखा (wages) बढ़ाओ और फिर फीस बढ़ाओ. सिर्फ पब्लिक के खिलाफ ही क्यों अत्याचार राज चलाना नहीं आता तो. यह तो जबरदस्ती और गुंडागर्दी का देश प्रगति विरुद्ध राज चल रहा है शायद.
            (0)(0)
            Reply
            1. Load More Comments