scorecardresearch

Space News:भविष्य में कैसे होगा हमारा सूर्य? खगोलविदों ने कहा – आज हम जान गए कब होगा इसका अंत

Space News: गैया अंतरिक्ष यान की ओर से डाटा जारी किया गया है, जिसमें लाखों तारों की उत्पत्ति और अंत के बारे में बताया गया है।

Space News:भविष्य में कैसे होगा हमारा सूर्य? खगोलविदों ने कहा – आज हम जान गए कब होगा इसका अंत
Space News: सूरज के सामने से निकलता अंतरिक्ष यान (Photo: ESA/ATG medialab)

Space News: सूर्य जोकि पूरी दुनिया को रोशन करता है और दुनिया में हो रही खगोलीय घटनाओं के लिए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर जिम्मेदार होता है। सूर्य के आयु के बारे में खगोलविदों ने शोध किया है। खगोलविदों ने बताया है कि सूर्य मध्य आयु से गुजर रहा है और इसकी अनुमानित उम्र 4.57 अरब साल है। गैया अंतरिक्ष यान  ने हाल ही ब्रह्मांड का सबसे सटीक नक्शा तैयार किया है, जिसने हमारे सौर मंडल के तारे यानी सूर्य के अतीत और भविष्य के बारे में खुलासा किया है।

इस साल जून में गैया अंतरिक्ष यान की ओर से जारी किए गए आंकड़ों से ताजा जानकारी मिली है। इस नए डेटासेट में लाखों तारों की उत्पत्ति और अंत के बारे में बताया गया है, जिसमें वे कितने गर्म हैं, वे कितने बड़े हैं और उनमें कितना द्रव्यमान है।

इस डेटा का उपयोग करते हुए, खगोलविदों ने हमारे सूर्य के समान द्रव्यमान और संरचना के सितारों की पहचान की और देखा कि भविष्य में हमारा तारा कैसे विकसित होने वाला है।

मध्य आयु में सूर्य

यूरोपियन स्पेस एजेंसी ने बताया कि मौजूदा समय में सूर्य की आयु 4.57 अरब साल है, सूर्य अभी मध्य आयु में है और आरामदायक स्थिति में है। हाइड्रोजन को हीलियम में फ्यूजन कर रहा है और आम तौर पर स्थिर है। आगे बताया कि सूर्य में पिछले हफ्ते 17 कोरोनल मास इजेक्शन और नौ सनस्पॉट देखे गए हैं।

हालांकि, भविष्य में जैसे ही हाइड्रोजन अपने मूल में समाप्त हो जाता है, और फ्यूजन में परिवर्तन आना शुरू हो जाएगा और यह एक लाल विशालकाय तारे में बदल जाएगा, जिससे इसकी सतह का तापमान कम हो जाएगा।

सूरज का भविष्य

शोधकर्ताओं को डाटा के एनालिसिस के पता चला है कि सूर्य का 8 अरब साल की आयु में अपने अधिकतम तापमान पर पहुंच जाएगा, जिसके बाद इसका तापमान कम होना शुरू हो जाएगा और यह फैलने लगेगा। अंत में बड़ा लाल तारा बन जाएगा। इसके अंत के बारे में बताते हुए खगोलविदों ने कहा कि 1011 अरब साल का जब सूर्य हो जाएगा, तो इसका यह अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच जाएगा।

ओरलाग ने एक बयान में कहा, “अगर हम अपने सूर्य को नहीं समझते हैं और कई ऐसी चीजें हैं, जो आज भी हम नहीं जानते हैं। फिर हम कैसे आशा कर सकते हैं कि दूसरे तारों को समझ सकते हैं।”

पढें राष्ट्रीय (National News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.