ताज़ा खबर
 

यूपी: प्रदेश कांग्रेस दफ्तर के छत पर ऑफिस बना, कांग्रेस को जिताने के लिए कैसे काम कर रहे हैं प्रशांत किशोर, जानिए

उत्‍तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं। एक साल से भी कम वक्‍त में कांग्रेस को फिर से खड़ा करने के लिए उसके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर इन दिनों लखनऊ में डेरा डाले हैं।

Author लखनऊ | Published on: May 24, 2016 7:10 AM
प्रशांत ने जिलेवार नेताओं और प्रमुख चेहरों से मुलाकात शुरू कर दी है। इन जिलेवार बैठकों का पहला दौर पिछले सप्‍ताह शुरू हुआ था और अगला दौर फिलहाल उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में चल रहा है। (FILE PHOTO)

चार राज्‍यों के चुनाव में बुरी तरह हार चुकी कांग्रेस अब उत्‍तर प्रदेश पर नजरें गड़ाए है। उत्‍तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव होने हैं। एक साल से भी कम वक्‍त में कांग्रेस को फिर से खड़ा करने के लिए उसके चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर इन दिनों लखनऊ में डेरा डाले हैं। जिलाध्‍यक्षों के साथ उनकी बैठकों का अगला दौर सोमवार, 23 मई से शुरू हो चुका है।

प्रशांत किशोर के काम करने के तरीके से यूपी कांग्रेस के कुछ नेताओं की बेचैनी बढ़ गई है। The Indian Express ने पता लगाया है कि किशोर और उनकी 100 सदस्‍यीय टीम कैसे उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी की विभिन्‍न इकाइयों को छान कर डेढ़ लाख समर्पित कार्यकर्ता चुन रही है। हर विधानसभा क्षेत्र से करीब 300 कार्यकर्ताओं को चुना जाएगा, जो जमीन पर कांग्रेस के प्रचार में सबसे अहम साबित होंगे। प्रशांत जुलाई से प्रचार शुरू करने की योजना बना रहे हैं। साथ ही साथ, वह और उनकी टीम अलग-अलग समूहों, विभागों और इकाइयों से कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं को एक मंच पर ला रही है ताकि वे अपने क्षेत्र की समस्‍याओं, जातिगत समीकरणों के बारे में बता सकें और सुझाव भी दे सकें।

अगले डेढ़ महीने की उनकी रणनीति के तीसरे हिस्‍से में उनकी टीम ऐसे परिवारों से मिलेगी जो लम्‍बे समय तक कांग्रेस से जुड़े थे, मगर किन्‍हीं कारणों की वजह से पार्टी से खुद को दूर कर लियाा है। पार्टी सूत्रों ने इस बात की पुष्टि की है कि किशोर ने इस काम को खत्‍म करने के लिए डेढ़ महीने का वक्‍त मांगा है और पार्टी का असली चुनाव प्रचार जुलाई से शुरू होगा। प्रशांत की टीम के पास एक काम है जो उन्‍हें इस महीने के अंत तक खत्‍म करना है। उन्‍हें हर विधानसभा सीट से कम से कम 30-35 हजार कार्यकर्ता चुनने हैं जिन्‍हें जून में लखनऊ लाया जाएगा और कांग्रेस उपाध्‍यक्ष राहुल गांधी उनसे बातचीत करेंगे।

Read more: पावरफुल बन रहे हैं प्रशांत किशोर, मिली हुई है राहुल गांधी से कभी भी, कहीं भी संपर्क करने की छूट

पंजाब से इतर, उत्‍तर प्रदेश में प्रशांत को उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने अब तक मन मुताबिक तरीके से काम करने दिया है। यहां तक कि प्रशांत ने जिला स्‍तर से लेकर ब्‍लॉक और कांग्रेस की विभिन्‍न इकाइयों से सीधे बात की, ये सारा कार्यक्रम लखनऊ में उन्‍नाव से पूर्व कांग्रेस सांसद अन्‍नू टंडन के सहयोग से हुआ। लेकिन इन सभी गतिविधियों के बीच, प्रशांत की अलग कार्यशैली ने कांगेस के नेताओं में बेचैनी जा दी है। किेशोर ने रोजमर्रा की बैठकों से इतर पार्टी के गिने-चुने नेताअों से अलग बात की, वे अक्‍सर राहुल गांधी से सीधा संपर्क होने की याद दिलाते हैं, अपने भाषणों में वे दावा करते हैं कि टिकट बांटने में भी अहम रोल अदा करेंगे।

मार्च में जब प्रशांत किशोर आधिकारिक रूप से कांग्रेस की चुनावी योजना का हिस्‍सा बने और राहुल गांधी द्वारा बुलाई गई उत्‍तर प्रदेश के वरिष्‍ठ नेताओं की बैठक में हिस्‍सा लिया, तो वे बहुत कम बोले। सभी को यह बताया गया कि किशोर 2017 के चुनावों के लिए एक चुनावी प्रचार अभियान बनाएंगे और पार्टी का घोषणा पत्र तैयार करने में मदद करेंगे। सभी नेताओं से प्रशांत को सहयोग करने को कहा गया।

जल्‍द ही, किशोर आल इंडिया कांग्रेस कमेटी के महासचिव मधुसूदन मिस्‍त्री और यूपी कांग्रेस अध्‍यक्ष निर्मल खत्री के साथ दिल्‍ली आए और 10 मार्च को कांग्रेस के करीब 140 जिलाध्‍यक्षों और नगर अध्‍यक्षों को दो काम सौंपे। पहला, सभी को हर विधानसभा क्षेत्र से कम से कम 20 समर्पित कार्यकर्ताओं के नाम, मोबाइल नंबर और फोटोग्राफ जुटाने को कहा गया। यह काम मार्च अंत तक खत्‍म करना था, लेकिन अभी भी कुछ काम बाकी बचा हुआ है। दूसरा, उन्‍हें एक फॉर्म भरने को दिया गया जिसमें जिला इकाइयों से क्षेत्र में पार्टी और संगठन की कमियां और अच्‍छाइयां पूछी गई थीं। ये भी पूछा गया कि क्षेत्र में बीजेपी समेत अन्‍य पार्टियों के बेहतर प्रदर्शन करने के कारण भी पूछे। ये जानकारी भी मांगी गई कि उनके इलाके में कौन से मुद्दे उठाए जा सकते हैं। ज्‍यादातर पार्टी इकाइयों ने काम पूरा कर लिया है लेकिन रायबरेली, अमेठी और सुल्‍तानपुर को इस प्रकिया में शामिल नहीं किया गया।

इस दौरान किशोर की टीम को लखनऊ स्थित उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय की छत पर एक कमरा दिया गया था। प्रशांत की टीम किसी नेता से बात नहीं करती। जल्‍द ही एक प्‍लान तैयार किया गया, जहां किशोर वरिष्‍ठ नेताओं की मौजूदगी में हर स्‍तर के कार्यकर्ताओं से मिलते। पहले तय हुआ कि किशोर पार्टी के वरिष्‍ठ नेताओं के साथ पूरा यूपी घूमेंगे। लेकिन बाद में तय किया गया कि कार्यकर्ताओं और नेताओं को लखनऊ बुलाया जाएगा और बाकी नेता सिर्फ बैठक का इंतजाम करने में लगे रहे।

Read more: प्रशांत किशोर के खिलाफ यूपी के कांग्रेसियों के अंदर धधक रहा ज्‍वालामुखी, कभी भी हो सकता है विस्‍फोट?

राज्‍य और जिला स्‍तर के नेताओं से शुरुआत करते हुए प्रशांत ने ब्‍लॉक स्‍तर तक के पदाधिकारियों से निजी मुलाकात की है। उन्‍होंने उनसे पूछा कि किन चीजों की वजह से कांग्रेस यूपी में वापस लौट सकती हैं, ऐसा होने में परेशानियां क्‍या हैं और किन मुद्दों को उठाने से पार्टी को फायदा होगा। उन्‍होंने राज्‍य भर के यूथ कांगेस और एससी-एसटी विभाग के पदाधिकारियों से लखनऊ में मुलाकात की। फिर उन्‍होंने कांग्रेस की वि‍भिन्‍न इकाइयों जैसे महिला कांग्रेस, सेवा दल इत्‍यादि के पदाधिकारियों से चर्चा की। किशोर ने हर विभाग से हर विधानसभा क्षेत्र से दो समर्पित कांग्रेस कार्यकर्ताओं के नाम देने को कहा। उनके अच्‍छे प्रदर्शन पर किशोर ने वायदा किया कि वे उन्‍हें राहुल गांधी से मिलवाएंगे।

ऐसा ही कार्य प्रशांत ने अपनी टीम को सौंपा है जो राज्‍य के हर जिले में जा रही है। अभी तक तीन मंडल वाराणसी, इलाहाबाद और गोरखपुर कवर कर लिए गए हैं, बाकी पर काम जारी है। इन्‍हीं बैठकों के दौरान ही कांगेस कार्यकर्तओं और नेताओं ने पार्टी को फिर से खड़ा करने लिए प्रियंका गांधी को आगे करने की मांग की। यह मांग भी जोर पकड़ रही है कि इस बार पार्टी को मुख्‍यमंत्री पद का उम्‍मीदवार घोषित करना चाहिए।

अपनी टीम की रिपोर्ट हाथ में लिए प्रशांत ने जिलेवार नेताओं और प्रमुख चेहरों से मुलाकात शुरू कर दी है। इन जिलेवार बैठकों का पहला दौर पिछले सप्‍ताह शुरू हुआ था और अगला दौर फिलहाल उत्‍तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी कार्यालय में चल रहा है। किशोर ने सभी पदाधिकारियों और नेताओं को बता दिया है कि इन सभी कार्यों के अलावा, जो चुनाव लड़ना चाहते हैं, उन्‍हें अपने क्षेत्र से कम से कम 250 कार्यकर्ताओं के नाम देने होंगे। वाराणसी, इलाहाबाद और गोरखपुर मंडल के सभी 12 जिलों के कार्यकर्ताओं से बात करते हुए किशोर ने बताया कि जो 250 कार्यकर्ताओं के नाम नहीं दे पाएंगे, वे उम्‍मीदवारी के योग्‍य नहीं होंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories