ताज़ा खबर
 

‘मारे गए’ भटकल की तस्वीर ने उल्लू बनाया था राजन को

बाली में गिरफ्तार हुए जरायम की दुनिया के सरगना छोटा राजन को इंटेलिजेंस ब्यूरो अपने लिए ज्यादा काम का नहीं समझती तो इसकी कोई वजह भी है। 2011 की शुरुआत में राजन एजंसी के संपर्क में था। दरअसल छोटा राजन ने दावा किया था कि उसने भारत के सबसे खतरनाक आतंकी और कराची में रह रहे इंडियन मुजाहिदीन के मुखिया रियाज भटकल की हत्या करवाई है।

Author , नई दिल्ली/जकार्ता | October 28, 2015 9:48 AM
राजन को इस रविवार बाली से किया गया गिरफ्तार

बाली में गिरफ्तार हुए जरायम की दुनिया के सरगना छोटा राजन को इंटेलिजेंस ब्यूरो अपने लिए ज्यादा काम का नहीं समझती तो इसकी कोई वजह भी है। 2011 की शुरुआत में राजन एजंसी के संपर्क में था। दरअसल छोटा राजन ने दावा किया था कि उसने भारत के सबसे खतरनाक आतंकी और कराची में रह रहे इंडियन मुजाहिदीन के मुखिया रियाज भटकल की हत्या करवाई है।

सूत्रों के अनुसार अपने इस दावे की पुष्टि के लिए राजन ने गोलियों से छलनी भटकल की एक तस्वीर भिजवाई थी। लेकिन इसकी पुष्टि करने के बाद पता चला कि इसे फोटोशाप से तैयार करवाया गया था। पता चला कि उसके एक गुर्गे ने एक तस्वीर उपलब्ध कराकर दावा किया था कि उसने भटकल को मारा है। इस गुर्गे ने यह दावा भी किया था कि भटकल को मारने के एवज में उसे मोटी रकम मिली थी।

इस फोटोग्राफ में दिखाया गया है कि भटकल कराची के एक अस्पताल में पड़ा है। उसके जख्मी शरीर पर पट्टियां बंधी हैं। राजन ने दावा किया कि भटकल को गोली मारी गई थी। इसके बाद वह अस्पताल में रहा और बाद में उसकी मौत हो गई। राजन ने यह भी कहा कि यह तस्वीर उसके आदमियों ने अस्पताल में खींची थी। राजन के इस दावे ने भारतीय खुफिया एजंसियों को चौका दिया। भटकल की तलाश कई सालों से थी। लेकिन इस दावे को जांचने की जरूरत थी। पाकिस्तान स्थित सूत्रों से भी कहा गया कि वह इस दावे को परखें। लेकिन तस्वीर के गहन परीक्षण के बाद पता चला कि इसे फोटोशाप के जरिए बनाया गया है। तस्वीर से पता चला कि भटकल की यह पुरानी तस्वीर है जो इंटरनेट पर आसानी से उपलब्ध है।

Also Read: छोटा राजन की गिरफ्तारी के पीछे बड़ा राज

इस बीच पाकिस्तान स्थित सूत्रों ने भी पुष्टि की कि भटकल मरा नहीं। एक अधिकारी ने कहा, जब राजन को बताया गया कि भटकल अब भी जिंदा है, तो वह समझ गया कि उसे ठगा गया है। सूत्रों ने बताया कि यह सिर्फ अकेला मामला नहीं है। उसने दाऊद इब्राहीम और अन्य अपराध-सरगनाओं के बारे में भी कई तरह की जानकारियां दीं जो बाद में गलत निकलीं।

Also Read: क्या अगला निशाना दाऊद?

इस बीच मंगलवार को छोटा राजन के मामले में इंडोनेशिया में भारत के राजदूत गुरजीत सिंह ने कहा, यह कोई साधारण गिरफ्तारी नहीं है। यह रेड कार्नर नोटिस पर किसी व्यक्ति की गिरफ्तारी है जिसके लिए विभिन्न प्रोटोकाल काम करते हैं। उन्होंने एक भारतीय समाचार चैनल से कहा, इसी कारण से मैं आपसे कह रहा हूं कि आपको प्रत्यर्पण के बारे में अधिक बात करने की जरूरत नहीं है क्योंकि जब इंटरपोल से रेड कार्नर नोटिस जारी किया जाता है तब स्थिति अलग होती है और चूंकि हमारा इंडोनेशिया के साथ अच्छा संबंध हैं, हमे नहीं लगता कि कोई समस्या सामने आएगी क्योंकि उन्होंने हमसे स्पष्ट तौर पर कहा है कि इस व्यक्ति को हमारे अनुरोध पर गिरफ्तार किया गया है।

लगातार ब्रेकिंग न्‍यूज, अपडेट्स, एनालिसिस, ब्‍लॉग पढ़ने के लिए आप हमारा फेसबुक पेज लाइक करें, गूगल प्लस पर हमसे जुड़ें  और ट्विटर पर भी हमें फॉलो करें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App