ताज़ा खबर
 

यूरोपीय संघ (EU) से अलग हुआ ब्रिटेन, भारत पर क्या होगा असर, जानिए

शेयर मार्केट के हिसाब से जहां ब्रिटेन का अलग होना ठीक नहीं है, वहीं आने वाले वक्त में इससे व्यापार के नए रास्ते खुल सकते हैं।

ब्रिटेन ने गुरुवार (23 जून) को यूरोपीय संघ से अलग होने की बात पर मुहर लगा दी थी। (फाइल फोटो)

ब्रिटेन के लोगों ने शुक्रवार (24 जून) को यूरोपिय संघ (EU) से बाहर होने का फैसला किया है। ब्रिटेन के इस फैसले से खाली ब्रिटेन ही नही बल्कि बाकी दुनिया पर भी असर होगा और उससे भारत भी अझूता नहीं है। भारत पर इस फैसले का मिला-जुला असर देखने को मिलेगा। शेयर मार्केट के हिसाब से जहां यह ठीक नहीं है, वहीं आने वाले वक्त में इससे व्यापार के नए रास्ते खुल सकते हैं। हालांकि, वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आश्वासन दिया है कि उनकी तरफ से किसी भी संकट से निपटने के लिए प्लान बना लिया गया है। आइए नजर डालते हैं होने वाले नुकसान पर-

यह होंगे नुकसान

ब्रिटेन के यूरोप से अलग होने के फैसले के साथ ही पाउंड की स्थिति डॉलर के मुकाबले कमजोर हो गई। डॉलर के मजबूत होने पर रुपए की कीमत गिरना लगभग तय है।

कच्चे तेल की खरीद डॉलर में की जाती है। इस वजह से डॉलर के मंहगे होने पर कच्चा तेल भी महंगा हो जाएगा। इससे पेट्रोल और डीजल के दाम चढ़ेंगे।

ब्रिटेन में 800 इंडियन कंपनियां हैं। यूके के ईयू से बाहर होने पर इनके कारोबार पर असर पड़ेगा, क्योंकि इसमें ज्यादातर यहां रहकर ओपन यूरोपियन मार्केट में बिजनेस करती हैं। इसमें टाटा मोटर्स भी शामिल है।

Read AlsoBritain referendum results: EU से अलग हुआ ब्रिटेन, 319 में 217 जगहों पर हुई जीत

एक बड़ी समस्या तब पैदा होगी जब यूरोप के देश अपने रास्ते ब्रिटेन के लोगों के लिए बंद कर लेंगे। अबतक तो यूरोप में रह रहे लोग एक दूसरे देश में बिना किसी रुकावट, बॉर्डर या वीजा के जा रहे थे। अगर यूरोप ने नए नियम ला दिए तो भारतीय कंपनियों को यूरोप में घुसने के नए रास्ते बनाने होंगे। ऐसे में ब्रिटेन के यूरोप से अलग होने पर यूरोप के देशों से नए करार करने होंगे। इससे खर्च बढ़ेगा और अलग-अलग देशों के अलग अलग नियम-कानून से जूझना होगा।

Read Alsoब्रिटेन में रायशुमारी के नतीजों से टूटा रुपया, IT कंपनियों को फायदा बाकी सब को नुकसान, जानिए क्‍यों 

आईटी कंपनी ने ब्रिटेन के बाहर होने पर आईटी सेक्टर में 108 बिलियन डॉलर का नुकसान होने की बात कही थी। उन्होंने यह भी कहा था कि यह आर्थिक संकट साल-दो साल के लिए ही होगा। इसके साथ ही भारतीय आईटी सेक्टर के 6 से 18 फीसद कमाई ब्रिटेन से ही होती है।

यह हो सकता है फायदा

भारत यूके में निवेश करने वाला तीसरा सबसे बड़ा देश है। इसके अलावा द्विपक्षीय व्यापर करने वाले देशों की गिनती में ब्रिटेन 12वें नबर पर आता है। ब्रिटेन उन 25 देशों में 7वें नंबर पर आता है जिनसे भारत सामान लेता कम है और वहां भेजता ज्यादा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App