ताज़ा खबर
 

जम्मू-कश्मीर से पाबंदियां हटाए सरकार, इंटरनेट बंदी से जनजीवन है प्रभावित, अमेरिकी सांसदों के पैनल ने की सिफारिश

हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी ने कहा है कि कश्मीर में संचार पाबंदी का 'विनाशकारी प्रभाव' पड़ा है और भारत को चाहिए कि अब इन पाबंदियों को हटाए।

Author नई दिल्ली | Published on: October 8, 2019 8:24 AM
तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है।

जम्मू-कश्मीर के हालातों पर अमेरिकी कांग्रेस पैनल की 22 अक्टूबर को होने वाली सुनवाई से पहले हाउस फॉरेन अफेयर्स कमेटी ने कहा है कि कश्मीर में संचार पाबंदी का ‘विनाशकारी प्रभाव’ पड़ा है और भारत को चाहिए कि अब इन पाबंदियों को हटाए। सोमवार (7 अक्टूबर, 2019) को किए एक ट्वीट में कमिटी ने कहा, ‘कश्मीर में कम्युनिकेशन ब्लैकआउट का असर लोगों के रोजमर्रा के जीवन और कल्याण पर विनाशकारी प्रभाव पड़ रहा है। भारत के लिए इन प्रतिबंधों को हटाने और कश्मीरियों को किसी भी अन्य भारतीय नागरिक के बराबर अधिकार और विशेषाधिकार देने का समय है।’ अमेरिकी सांसद और हाउस सबकमिटी ऑन एशिया के चेयरमैन ब्रेड शेरमैन ने घोषणा की है कि 22 अक्टूबर को सुबह दस बजे सबकमिटी ‘दक्षिण एशिया में मानवाधिकार’ मामले पर सुनवाई करेगी।

अमेरिकी सांसद शेरमैन के मीडिया में आए बयान के मुताबिक, ‘कमिटी के असिस्टेंट सेक्रेटरी एलिस वेल्स मामले में गवाही देंगे। वेल्स जो दक्षिण एशिया के साथ सभी देशों की पॉलिसी की देखरेख करते हैं। डिप्टी असिस्टेंट सेक्रेटरी स्कॉट ब्यूसबी भी मामले में अपनी गवाही देंगे जो दक्षिण एशिया में मानवाधिकार मामलों की देखरेख करते हैं। हमने देश में अन्य विभागों में तैनात अधिकारियों को बुलाया है और हमें यह भी उम्मीद है कि निजी मानवाधिकार कार्यकर्ता इस मामले में बोलेंगे।’

उल्लेखनीय है कि इसी बीच पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश के दौरे पर आए अमेरिकी कांग्रेस के एक प्रतिनिधिमंडल से सोमवार को मुलाकात की। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय को कश्मीरी लोगों के अधिकारों के लिए अपनी आवाज उठानी चाहिए। इमरान खान अमेरिकी सीनेटर क्रिस वान होलेन और मारग्रेट सी हासन से मुलाकात के दौरान ये टिप्पणी की। ‘जियो टीवी’ के मुताबिक खान ने कहा, ‘अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए यह महत्वपूर्ण है कि वह जम्मू कश्मीर के लोगों के अधिकारों और स्वतंत्रता के सम्मान के लिए अपनी आवाज बुलंद करे।’

वहीं भारत ने पाकिस्तान को बताया है कि जब तक वह सीमा पार आतंकवाद को समर्थन देता रहेगा नई दिल्ली इस्लामाबाद के साथ वार्ता नहीं करेगा। खबर में बताया गया कि कश्मीर में मानवाधिकार को लेकर चिंता जताने वाले अमेरिकी सीनेटरों में होलेन भी शामिल हैं। (इनटपुट सहित)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 गंगा साफ हुई नहीं, पर पांच साल में 15 गुना बढ़ गया ‘नमामि गंगे’ का खर्चा, मोदी सरकार का है ड्रीम प्रोजेक्ट
2 National Hindi News, 8 October 2019 Updates: शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने राम मंदिर मुद्दे पर दिया बयान, कहा अयोध्या में राम मंदिर के लिए विशेष कानून बने
3 Weather Forecast: ओडिशा और झारखंड में हल्की बारिश, इन राज्यों में कल हो सकती है बारिश