ताज़ा खबर
 

अस्‍पताल ने लालू यादव को खाना देना बंद किया, बाहर का खाने से बढ़ रहा शुगर लेवल

अस्पताल ने उन्हें खाना देना बंद कर दिया इसके बाद उनका खान बाहर से मंगवाया जा रहा है। ऐसे में डायर्ट चार्ट फोले नहीं हो पा रहा और उनका शुगर लगातार बढ़ रहा है।

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव। Express Photo By Prashant Ravi

चारा घोटाले में सजा काट रहे बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद को राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) के पेइंग वार्ड में भर्ती कराया गया। बताया गया कि वह सुपर स्पेशियलिटी वार्ड के समीप कुत्तों के लगातार भौंकने की वजह से सो नहीं पा रहे थे। रिम्स के अधीक्षक विवेक कश्यप ने 6 अगस्त को पत्रकारों को बताया कि राजद नेता को बुधवार रात को रूम नंबर 11 में ले जाया गया। उन्हें यहां भर्ती करने की अनुमति बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार के अधीक्षक ने दी।

हालांकि पेइंग वार्ड में भर्ती लालू यादव अब नई परेशानी से जूझ रहे हैं। दरअसल अस्पताल ने उन्हें खाना देना बंद कर दिया इसके बाद उनका खान बाहर से मंगवाया जा रहा है। ऐसे में डायर्ट चार्ट फोले नहीं हो पा रहा और उनका शुगर लगातार बढ़ रहा है। रविवार को उनका फास्टिंग का शुगर लेवल 185 तक हो गया। खबर है कि शुगर लेवल बढ़ने की वजह से लालू यादव का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद खासे परेशान है। उनका कहना है कि आरजेडी प्रमुख को 11 तरह की बीमारियां हैं। बलतोड़ ने उनकी समस्या काफी बढ़ा दी है। डॉक्टर के मुताबिक शुगर लेवल को जल्द ही नियंत्रित नहीं किया गया तो उनका घाव जल्दी ठीक नहीं होगा। इसमें मामले सोमवार यानी आज के दिन रिम्स प्रबंधन जेल प्रशासन से बात करेंगे।।

यहां बता दें कि लालू हॉस्पिटल में खाना ना देने की वजह यह है कि जिस वार्ड में उन्हें भर्ती किया गया है वहां खाना देने की व्यवस्था नहीं है। खबर के मुताबिक लालू यादव को खाने की व्यवस्था के साथ दवाई की व्यवस्था भी खुद ही करनी पड़ती है। ऐसे में लालू यादव का खाना उनके करीबी दोस्त के घर से आता है। जहां से सेवादार उनका मनपसंद भोजन लाता है। सूत्र बताते हैं कि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री रोटी की जगह चावल ज्यादा खा रहे हैं। इसके अलावा हरी सब्जियों की जगह वो आलू की सब्जियां खा रहे हैं। यही उनके सुगर लेवल बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है। (एजेंसी इनपुट सहित)

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App