कोर्ट में पत्नी से हुआ हनी सिंह का सामना, जज बोलीं- हे भगवान, इनके साथ इंसाफ करने की हिम्मत देना

यो यो हनी सिंह पर उनकी पत्नी ने मानसिक और शारीरिक प्रताड़ने का आरोप लगाए हैं। कोर्ट में सुनवाई के दौरान उन दोनों का आमना सामना हुआ।

पत्नी शालिनी के साथ यो यो हनी सिंह। फोटो- हनी सिंह के इंस्टाग्राम से

दिल्ली की एक अदालत ने गायक हिरदेश सिंह उर्फ यो यो हनीसिंह की पत्नी को उनके ससुराल से सामान ले जाने की अनुमति दे दी है। कोर्ट ने यह भी कहा है कि इस दौरान दंपती किसी भी तरह की गलत बयानबाजी में शामिल न हों। मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट तानिया सिंह ने पहले तो एक घंटे से ज्यादा हनी सिंह और उनकी पत्नी की एक कमरे में काउंसलिंग की। बाद में फैसला सुनाते हुए उन्होंने कहा, ‘हे भगवान, इनके साथ इंसाफ करने की हिम्मत देना।’

गायक हनी सिंह की पत्नी ने उनपर शारीरिक और मानसिक प्रताड़ना के आरोप लगाए थे। शुक्रवार को कोर्ट में हनी सिंह भी पेश हुए थे। इससे पहले की सुनवाई में जज ने कहा था कि गायक को कार्यवाही में शामिल होना होगा क्योंकि कानून से बड़ा कोई नहीं है। इसके अलावा कोर्ट पहले ही कह चुका है कि हनी सिंह अपनी पत्नी से संपर्क नहीं करेंगे।

अदालत ने उनके वकीलों को वहां मौजूद रहने, इकट्ठा किये गए सामान की सूची बनाने और पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी करने के लिये कहा। जज ने कहा, ”शादी में सामान्य उतार-चढ़ाव आते रहते हैं, लेकिन दोनों को अपनी भावनाओं को काबू में रखना चाहिये।” मामले पर अगली सुनवाई 28 सितंबर को होगी।

इससे पहले , हनी सिंह ने शुक्रवार को अदालत में आवेदन दाखिल कर घरेलू हिंसा के मामले में दायर याचिका पर बंद कमरे में सुनवाई करने का आग्रह किया, जिसपर अदालत ने अभी फैसला नहीं लिया है। इससे पहले, पिछली सुनवाई पर हनी सिंह अदालत में पेश नहीं हुए थे। इस पर अदालत ने उन्हें फटकार लगाई थी और अंतिम चेतावनी भी दी थी

गौरतलब है कि शालिनी तलवार ने पति हनी सिंह के खिलाफ घरेलू हिंसा का मामला दर्ज कराया है और हर्जाने के तौर पर 20 करोड़ रुपये की मांग की है। उन्होंने यह भी मांग की है कि दहेज की वापसी के साथ हर महीने पांच लाख रुपये का मुआवजा दें। हृदेश सिंह उर्फ यो यो हनी सिंह और तलवार 23 जनवरी, 2011 को वैवाहिक बंधन में बंधे थे। तलवार ने अपनी याचिका में आरोप लगाया है कि सिंह ने पिछले 10 वर्षों में उन्हें शारीरिक प्रताड़ना दी। साथ ही सिंह ने उनके साथ धोखा भी किया।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।