ताज़ा खबर
 

इंफोसिस फाउंडेशन का रजिस्ट्रेशन गृह मंत्रालय ने किया खत्म, ये है वजह

दरअसल, संगठन ने विदेश से मदद लेने और खर्च का पिछले कुछ साल का सालाना ब्यौरा नहीं साझा किया था। ऐसे में कई बार पूछने के बाद भी जानकारी न देने पर एनजीओ को नोटिस जारी हुआ था।

तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (एक्सप्रेस अर्काइव फोटो)

गैर सरकारी संगठन इंफोसिस फाउंडेशन की दरख्वास्त पर गृह मंत्रालय ने विदेशी अनुदान प्राप्त करने के नियमों के तहत कराया गया एनजीओ का रजिस्ट्रेशन खत्म कर दिया है। संगठन ने इस बाबत कहा है कि संबंधित कानून में संशोधन के बाद वह उसके दायरे में नहीं आ रहा था।

बता दें कि विदेशों से आर्थिक मदद लेने वाले एनजीओ को विदेशी चंदा (विनियमन) अधिनियम (एफसीआरए) के तहत रजिस्ट्रेशन कराना पड़ता है। एनजीओ को इसके बाद हर साल ऐसे चंदे का पूरा लेखा-जोखा वित्त वर्ष खत्म होने के लगभग नौ महीने के अंदर सरकार के पास जमा करवाना होता है।

इंफोसिस फाउंडेशन की ओर से जारी बयान में कहा गया, “हम साफ करना चाहते हैं कि हमने एफसीआरए का उल्लंघन नहीं किया है। हमारे अनुरोध पर एफसीआरए के तहत रजिस्ट्रेशन खत्म हुआ है।” हालांकि, गृह मंत्रलाय के अधिकारियों के मुताबिक मंत्रालय ने फाउंडेशन को बीते साल कारण बताओ नोटिस जारी किया था।

दरअसल, संगठन ने विदेश से मदद लेने और खर्च का पिछले कुछ साल का सालाना ब्यौरा नहीं साझा किया था। ऐसे में कई बार पूछने के बाद भी जानकारी न देने पर एनजीओ को नोटिस जारी हुआ था।

‘पीटीआई-भाषा’ ने इस मसले पर इंफोसिस फाउंडेशन से बात की। एनजीओ ने बताया कि उसने गृह मंत्रालय से एफसीआरए रजिस्ट्रेशन कैंसल कराने के लिए खुद ही ओवदन किया था और उसकी पैरवी की थी। मंत्रालय ने इसके बाद यह कार्रवाई की है।

इंफोसिस फाउंडेशन की चेयरपर्सन सुधा मूर्ति। (एक्सप्रेस अर्काइव फोटो)

साल 1996 से शिक्षा, ग्रामीण विकास, स्वास्थ्य सेवा, कला और संस्कृति सरीखे क्षेत्रों में काम कर रहे एनजीओ के जन संपर्क अधिकारी ऋषि बसु के हवाले से कहा गया कि एफसीआरए में 2016 में किए गए संशोधन के बाद उनका संगठन इस अधिनियम के दायरे में नहीं आता।

बकौल बसु, “हमने मंत्रालय से संपर्क कर इस पर विचार करने को कहा था। हम अनुरोध स्वीकार करने के लिए मंत्रालय को धन्यवाद देते हैं।” मौजूदा समय में इंफोसिस के संस्थापक चेयरमैन एन.आर.नारायणमूर्ति की पत्नी सुधा मूर्ति इसकी अध्यक्ष हैं।

Next Stories
1 मां की इमर्जेंसी कॉन्टैक्ट लिस्ट में नहीं है स्मृति ईरानी का नंबर! केंद्रीय मंत्री ने खुद किया खुलासा
2 डिवाइडर इन चीफ: एक्टर कबीर बेदी ने लेखक को बताया पाकिस्तानी, मां तवलीन सिंह ने किया पलटवार
3 जवानों को भी PUBG की लत! बैन लगाने की तैयारी में CRPF, कहा- क्षमता पर पड़ रहा असर
यह पढ़ा क्या?
X